पलकों में सूजन के क्या कारण हो सकते हैं? जानें कब जरूरी होता है डॉक्टर को दिखाना

पलकों में सूजन हो जाए, तो इसे सामान्य समझकर नजरअंदाज नहीं करना चाहिए। पलकों की सूजन कई बार किसी खतरनाक इंफेक्शन का संकेत हो सकती है।

Anurag Anubhav
Written by: Anurag AnubhavPublished at: Feb 04, 2020Updated at: Feb 04, 2020
पलकों में सूजन के क्या कारण हो सकते हैं? जानें कब जरूरी होता है डॉक्टर को दिखाना

हमारी आंखें बड़ी संवेदनशील होती हैं। आंखों में जलन, खुजली और लालपन की समस्या कभी-कभार आम है। बाहरी धूल-मिट्टी, प्रदूषण कणों और बैक्टीरिया के संपर्क में आने पर आंखों में इन समस्याओं का होना सामान्य है। मगर कई बार यही लक्षण आंखों से जुड़ी कुछ गंभीर बीमारियों का शुरूआती संकेत भी हो सकते हैं। ऐसे में आंखों की समस्याओं को सामान्य समझकर नजरअंदाज करना कई बार आपके लिए घातक हो सकता है।

कई बार सुबह उठने पर आपको अपनी किसी एक आंख या दोनों आंखों की पलकों में सूजन दिखाई देती है। इस समस्या को स्थानीय बोलियों में लोग अलग-अलग नामों से बुलाते हैं। मेडिकल साइंस में ऐसी सूजन का सबसे आम कारण इंफेक्शन बताया जाता है। मगर जरूरी नहीं है कि पलकों में सूजन का कारण सिर्फ इंफेक्शऩ हो। कई बार आंखों के कुछ अन्य रोगों के कारण भी पलकों में सूजन की समस्या हो सकती है। आइए आपको बताते हैं कि कुछ ऐसी ही आम समस्याएं।

एलर्जी

जैसा कि पहली ही बताया जा चुका है कि आंखें बहुत संवेदनशील अंग होती हैं। इसलिए ये एलर्जी का शिकार बहुत जल्दी होती हैं। कई बार ये एलर्जी धूल, मिट्टी के कारण होती है, तो कई बार कॉन्टैक्ट लेंस के कारण हो सकती है। आमतौर पर एलर्जी होने पर पलकों में सूजन के साथ-साथ आंखों की पुलतियों के लाल होने, खुजली होने और आंखों से पानी आने जैसी समस्याएं होती हैं। एलर्जी होने पर अपनी मर्जी से कोई आई ड्रॉप न डालें, बल्कि डॉक्टर की सलाह लेकर ही किसी दवा या ड्रॉप का इस्तेमाल करें।

इसे भी पढ़ें: उम्र बढ़ने के साथ पढ़ने-लिखने में आ रही है परेशानी, तो हो सकती है ये बीमारी

पिंक आई

पिंक आई को ही मेडिकल की भाषा में कंजंक्टिवाइटिस कहते हैं। ये भी एक तरह का इंफेक्शन है, जो आमतौर पर किसी वायरस या बैक्टीरिया के संपर्क में आने पर होता है। इस तरह के इंफेक्शन का शिकार होने पर आंखों के कंजंक्टिवा में सूजन आ जाती है। कंजंक्टिवा पारदर्शी जेलनुमा म्यूकर से भरी हुई भीतरी पर्त है। कंजंक्टिवाइटिस होने पर आपको सिर्फ और सिर्फ डॉक्टर्स की सलाह लेनी चाहिए। इसके इलाज के लिए आपको डॉक्टर एंटीबायोटिक के साथ कुछ अन्य दवाएं दे सकते हैं।

स्टाई

स्टाई को ही कुछ लोग बोलचाल की भाषा में बिलनी कहते हैं। ये पलकों में सूजन का दूसरा सबसे आम कारण है। कई बार ये बिलनी या स्टाई अपने आप ठीक हो जाती है और कई बार ये खतरनाक रूप भी धारण कर सकती है, जिसके बाद आपको सर्जरी की जरूरत पड़ सकती है। इसलिए पलकों में सूजन की समस्या होने पर किसी घरेलू उपाय को आजमाने से बेहतर है कि आप नेत्र चिकित्सक से मिलकर इसका इलाज कराएं। सामान्य बिलनी को एंटीबायोटिक्स के द्वारा ठीक किया जा सकता है।

इसे भी पढ़ें: कहीं आप भी तो नहीं हो रहे कंप्यूटर विजन सिंड्रोम के शिकार, जानें इसके लक्षण

कॉन्टैक्ट लेंस

जो लोग कॉन्टैंक्ट लेंस लगाते हैं, उनमें भी कई बार पलकों मे सूजन की समस्या देखने को मिलती है। आमतौर पर ऐसी समस्या तब होती है जब आप कॉन्टैक्ट लेंस को लगाने, रखने और उठाने में साफ-सफाई का ध्यान नहीं रखते हैं। इस कारण बैक्टीरिया आपकी आंखों में पहुंच जाते हैं और सूजन, खुजली, दर्द और लालपन का कारण बनते हैं। हालांकि कॉन्टैक्ट लेंस के कारण होने वाले इंफेक्शन को गंभीर नहीं कहा जा सकता है क्योंकि सामान्य स्थितियों में ये अपने आप ठीक हो जाता है। फिर भी अगर आपको 2-3 दिन से ज्यादा समय तक दर्द और सूजन की समस्या रहे, तो आपको एक बार डॉक्टर से संपर्क कर लेना चाहिए।

कीड़ा काटने पर

कई बार किसी कीड़े के काटने या बाइक चलाने के दौरान आंखों में चले जाने पर भी आंखों का इंफेक्शन हो जाता है और पलकों में सूजन की समस्या हो सकती है। ऐसी समस्या से बचने के लिए बेहतर है कि बाइक चलाते समय आप हेलमेट और चश्मा पहनकर रखें और जमीन में या पेड़-पौधों के पास न सोएं।

Read more articles on Other Diseases in Hindi

Disclaimer