Doctor Verified

हाथ-पैरों में कमजोरी और झुनझुनी का एहसास किस बीमारी के लक्षण हैं? जानें डॉक्टर की राय

Weakness Tingling In Hands Feet: हाथ-पैरों में झनझनाहट, सुन्नपन और कमजोरी महसूस होने जैसी समस्याएं कई गंभीर रोगों का लक्षण हो सकती हैं।

Vineet Kumar
Written by: Vineet KumarUpdated at: Nov 27, 2022 14:00 IST
हाथ-पैरों में कमजोरी और झुनझुनी का एहसास किस बीमारी के लक्षण हैं? जानें डॉक्टर की राय

Weakness Tingling In Hands Feet: हाथ-पैरों में झनझनाहट, सुन्नपन और कमजोरी, कुछ ऐसे आम समस्याएं हैं जिनका हम में से ज्यादातर लोग अक्सर ही सामना करते हैं। लेकिन क्या आपने कभी यह जानने की कोशिश की है कि इसके क्या कारण हैं? आमतौर इस तरह की समस्याओं कई हेल्थ कंडीशन के साथ जोड़ा जाता है। इन्हें कई गंभीर बीमारियों के मुख्य लक्षण भी समझा जाता है। इसलिए इनकी अनदेखी करना सेहत के लिए बहुत नुकसानदायक साबित हो सकता है। इसलिए अगर कोई व्यक्ति हाथ-पैरों में अक्सर इस तरह की समस्याओं का सामना करता है, तो ऐसे में उन्हें तुरंत डॉक्टर से संपर्क करना चाहिए।

लेकिन सवाल यह है कि हाथ-पैरों में झनझनाहट और कमजोरी किस बीमारी के संकेत या लक्षण हो सकते हैं? यह सवाल अक्सर लोगों द्वारा पूछा भी जाता है। इस विषय पर बेहतर जानकारी के लिए हमने DY पाटिल हॉस्पिटल, पुणे के प्रोफे. डॉ. अनु गायकवाड़ (MBBS, MD MED Physician, diabetologist) से बात की। आइए इसके बारे में विस्तार से जानते हैं।

हाथ-पैरों में झनझनाहट और कमजोरी किस बीमारी के लक्षण हो सकते हैं?

1. डायबिटीज

डॉ. अनु की मानें तो हाथ-पैरों में झनझनाहट का डायबिटीज का संकेत हो सकती है। यह समस्या पेरीफेरल न्यूरोपैथी या डायबिटिक न्यूरोपैथी से पीड़ित लोगों में देखने को मिलती है। क्योंकि इन स्थितियों में आपकी नसों को नुकसान पहुंचता है, जिसके कारण सुन्नपन और झनझनाहट होती है।

Weakness Tingling In Hands Feet

2. नर्व डैमेज

अगर आपकी नर्वस में किसी तरह के ब्लॉकेज, रक्त थक्के हैं या वे डैमेज हो गई हैं तो इस स्थिति में भी आपको यह समस्याएं देखने को मिल सकती हैं। कार्पल टनल सिंड्रोम, पेरोनियल नर्व पाल्सी, उलनार नर्व पाल्सी,  रेडियल नर्व पाल्सी जैसी स्थतियां भी इसका कारण बन सकती है।

3. कुछ अंगों से जुड़े रोग

लिवर, किडनी, धमनियां डैमेज और रक्त से जुड़ा कोई रोग होने पर भी ये समस्याएं हो सकती हैं। इसके अलावा अगर कोई व्यक्ति एमीलॉयडोसिस, क्रोनिक सूजन, हार्मोनल असंतुलन, कैंसर आदि जैसे रोगों से ग्रसित है, तो इससे भी नसों पर दबाव पड़ सकता है जिससे झनझनाहट और कमजोरी महसूस हो सकती है।

इसे भी पढें: हाइड्रोसील के कारण अंडकोष में सूजन का क्या इलाज है? डॉक्टर से जानें

4. पोषण की कमी

जब शरीर को पर्याप्त मात्रा में पोषण नहीं मिलता है, या किसी कारण कुपोषण की समस्या हो जाती है तो इसके कारण भी झनझनाहट और कमजोरी महसूस होती है, क्योंकि कुछ विटामिन और मिनरल्स नसों को स्वस्थ रखने और उन्हें नुकसान से बचाने में बहुत अहम भूमिका निभाते हैं, जैसे विटामिन बी1, बी6, बी12, ई और नियासिन।

5. संक्रमण से ग्रसित होने पर

शरीर में मौजूद कई वायरस भी आपके नर्वस सिस्टम को प्रभावित करते हैं। हर्पीज सिम्प्लेक्स, एचआईवी और एड्स, लाइम रोग, शिंगल्स, एपस्टीन-बार और साइटोमेगालोवायरस कुछ ऐसे ही वायरस हैं।

6. मल्टीपल स्क्लेरोसिस

हाथ पैरों में झनझनाहट इस बीमारी का सामान्य लक्षण है। इस रोग में आपका इम्यून सिस्टम आपके शरीर की तंत्रिकाओं के चारों ओर फैटी माइलिन म्यान पर हमला करता है, जिससे नसों को नुकसान पहुंचाता है।

7. ऑटोइम्यून रोग

कई ऑटोइम्यून रोगों के कारण भी हाथ-पैरों में झनझनाहट की समस्या देखने को मिलती है, जिनमें सबसे आम है ल्यूपस और रुमेटाइड आर्थराइटिस। इसके अलावा क्रोनिक इंफ्लेमेटरी डेमिलिनेटिंग पोलीन्यूरोपैथी, गुइलिन-बैरे सिंड्रोम भी इसके कुछ आम कारण हैं।

इसे भी पढें: हाइड्रोसील के कारण अंडकोष में सूजन का क्या इलाज है? डॉक्टर से जानें

8. किसी प्रकार की चोट

बहुत बार हाथ-पैरों में झनझनाहट किसी तरह के एक्सीडेंट में चोटिल होने, आघात के कारण हो सकती है, जिससे नसों का संकुचन हो सकता है या वे डैमेज हो जाती हैं, इसके कारण नसों में सूजन और दर्द होता है। 

अगर आप भी उन लोगों में से हैं, जो अक्सर हाथ-पैरों में झनझनाहट और कमजोरी का सामना करते हैं, तो तुरंत डॉक्टर से संपर्क करें, जिससे कि इसके अंतर्निहित कारणों का पता लगाया जा सके और समय रहते उपचार प्राप्त किया जा सके।

All Image Source: freepik

Disclaimer