हड्डियों के पतलेपन को दूर करने के लिए खानें में शा‍मिल करें ये 5 पोषक तत्व

By  , ओन्‍ली माई हैल्‍थ सम्पादकीय विभाग
Feb 05, 2018
Quick Bites

  • यह समस्‍या पुरुषों की बजाय महिलाओं में ज्यादा होती है।
  • हड्डी के फेक्चर की घटनाएं सबसे ज्यादा देखने को मिलती हैं।
  • रजोनिवृत्ति के बाद कैल्शियम की कमी के कारण भी होता है।

 

बोन डेंसिटी यानी हड्डियों का पतलापन। बोन डेंसिटी की अवस्‍था में हड्डिया इतनी पतली, खोखली और कमजोर होने लगती है कि मामूली चोट लगने पर भी बोन फेक्चर हो जाता है। यह समस्‍या कैल्शियम, फास्‍फोरस और अन्‍य पोषक तत्‍वों की कमी के कारण होती है। रजोनिवृत्ति के बाद कैल्शियम की कमी के कारण यह समस्‍या पुरुषों की बजाय महिलाओं में ज्यादा होती है। अस्थि घनत्‍व की कमी से ज्‍यादातर मामलों में कुल्हे, कलाई और रीढ की हड्डी के फेक्चर की घटनाएं सबसे ज्यादा देखने को मिलती हैं।

इसे भी पढ़ें:  अर्थराइटिस का दर्द सताए तो ये 5 एक्‍सपर्ट टिप्‍स अपनाएं

प्राकृतिक उपाय

बोन डेंसिटी मे कमी अधिक आयु, शरीर का वजन कम होने, हार्मोन असंतुलन, भोजन में कैल्शियम की कमी, शराब और धूम्रपान का सेवन और व्‍यायाम की कमी से होती है। आप इस समस्‍या से बचने के लिए प्राकृतिक उपायों को इस्‍तेमाल कर सकते हैं। यह उपाय बहुत आसान और कम खर्चीले तो हैं ही साथ ही इनका कोई साईड इफेक्ट भी नहीं है।

बादाम

नियमित रूप से बादाम खाने से हड्डियों को भरपूर कैल्शियम मिलता है और बोन डेंसिटी में कमी की समस्‍या के निवारण में मदद मिलती है। इसलिए इस समस्‍या से बचने के लिए नियमित रूप से लगभग 5-7 भीगे हुए बादाम को गाय के दूध में मिलाकर खाना चाहिए।

मैग्नीशियम

एक नए अध्‍ययन के अनुसार, मैग्‍नेशियम बोन डेंसिटी के कमी से होने वाली खोखली और कमजोर हड्डियों के लिए बहुत उपयोगी होता है। यह बोन डेंसिटी की कमी को पूरा करने का सबसे अच्‍छा इलाज है। यह तत्व साबुत अनाज, पालक, अनानास और सूखे मेवों में भरपूर मात्रा में पाया जाता है। इस सब को अपने आहार में शामिल करें।

इसे भी पढ़ें: ज्वाइंट रिप्लेसमेंट सर्जरी से जुड़े 5 फैक्ट्स

कैल्शियम

बोन डेंसिटी में कमी कैल्शियम की कमी के कारण होती है। इसलिए अपने आहार में कैल्शियम युक्त पर्दा‍थों का सेवन करें। फैट फ्री दूध कैल्शियम का सबसे अच्‍छा स्रोत है। इसके सेवन से हड्डियों में ताकत आती है। इसके अलावा गाय या बकरी का दूध और डेयरी उत्‍पाद भी कैल्शियम की आपूर्ति के लिये श्रेष्‍ठ है।

सोयाबीन

एस्ट्रोजन हार्मोन की कमी महिलाओं में बोन डेंसिटी की कमी पैदा कर देती है। इसलिए महिलाओं को एस्‍ट्रोजन हार्मोंन में संतुलन बनाए रखने और बोन डेंसिटी की कमी को पूरा करने के लिए सोयाबीन उत्‍पाद का सेवन करना चाहिए। सोयाबीन के उत्‍पाद अस्थि घनत्‍व की कमी को पूरा करने के लिए बहुत महत्‍वपूर्ण होते है।

विटामिन डी

कैल्शियम की तरह विटामिन डी भी बोन डेंसिटी की कमी को पूरा करने बहुत उपयोगी माना जाता है। विटामिन डी शरीर में कैल्शियम को अवशोषित करने में सहायक होता है। विटामिन डी सुबह की धूप में बैठने से आपको प्राप्‍त हो सकता है। इसलिए अस्थि घनत्‍व की कमी को पूरा करने के लिए नियमित रूप से 20 मिनट धूप में रहने की आदत डालें।

बंदगोभी का सेवन

बंद गोभी या पत्ता गोभी में पाया जाने वाला बोरोन नामक तत्व हड्डियों की मजबूती में अहम भूमिका होती है। इस तत्‍व से खून में एस्ट्रोजन का स्तर बढता है जिससे महिलाओं की हड्डियों में मजबूती आती है। इसलिए अपने आहार में बंदगोभी को नियमित रूप से सलाद और सब्जी प्रचुरता से इस्तेमाल करें।

नॉनवेज

अगर आप बोन डेंसिटी की समस्‍या से परेशान हैं और आप मांस भी खाते हैं। तो आपको इस समस्‍या से बचने के लिए मांस का सेवन नहीं करना चाहिए। मांस में प्रोटीन की मात्रा अधिक होने के कारण यह शरीर के कैल्शियम को यूरीन के रास्‍ते बाहर निकाल देता है और कैल्शियम की कमी से अस्थि घनत्‍व की समस्‍या होती है। इसलिए मांस की जगह हरी पत्तेदार सब्जियों का उपयोग अधिक मात्रा में करें।

कैफिन का कम सेवन

कैफिन का बहुत अधिक मात्रा में सेवन भी बोन डेंसिटी की कमी का कारण होता है। इसलिए कैफिन युक्त पदार्थों का सेवन में सावधानी बरतें। लेकिन कई लोगों चाय या काफी आदत पड़ जाती है और वह चाहते हुए भी इसको नहीं छोड़ पाते। ऐसे लोगों को अधिक दूध वाली चाय या कॉफी का सेवन करना चाहिए।

नमक की कम मात्रा लें

आहार में नमक ज्‍यादा होने से सोडियम अधिक मात्रा मे उत्सर्जित होता है और यह कैल्शियम को भी बाहर निकाल देता है। इसलिए बोन डेंसिटी की कमी से बचना चाहते हैं तो अपने आहार में नमक की मात्रा कम कर दें।

Loading...
Is it Helpful Article?YES1041 Views 0 Comment
संबंधित जानकारी
  • सभी
  • लेख
  • स्लाइडशो
  • वीडियो
  • प्रश्नोत्तर
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK