यूके में 2 मिलियन लोग मोटापे के कारण हो रहे टाइप 2 डायबिटीज का शिकार : शोध

NHS के मुताबिक, जिन लोगों में टाइप 2 डायबिटीज का खतरा होता है, उससे उन्हें दिल का दौरा पड़ने या स्ट्रोक होने की संभावना बढ़ जाती हैैै। 

Sheetal Bisht
Written by: Sheetal BishtPublished at: Feb 24, 2020Updated at: Feb 24, 2020
यूके में 2 मिलियन लोग मोटापे के कारण हो रहे टाइप 2 डायबिटीज का शिकार : शोध

हाल में हुई एक रिसर्च के मुताबिक "बढ़ते मोटापे के संकट" के कारण इंग्लैंड में लगभग 2 मिलियन लोग इस स्थिति से पीडि़त हैं, जिसमें ब्‍लड शुगर लेवल बढ़ जाना शामिल है। इस समस्या से निपटने के प्रयासों के तहत, NHS पर टाइप 2 डायबिटीज से निपटने के लिए एक नयी लिक्विड डाइट उपलब्ध होगी। अप्रैल से शुरू होने वाले इस पायलट में तीन महीने के लिए 5000 मरीजों को प्रति दिन 800 कैलोरी तक सीमित किया जाएगा। इसके बाद उन्हें वजन घटाने में मदद करने के लिए नौ महीने का समर्थन किया जाएगा।

Type 2 Diabetes and Obesity

नए NHS आंकड़ों के अनुसार, GP के साथ 1,969,610 रोगी रजिस्‍टरड हैं, जिन्हें नॉन-डायबिटिक हाइपरग्लाइकेमिया है। यह एक ऐसी स्थिति जो लोगों को टाइप 2 डायबिटीज के खतरे में डालती है।

हेल्‍थ सर्विस के मुताबिक, मोटापे के स्तर में वृद्धि के कारण समस्या और भी अधिक हो सकती है। अनुमानों से संकेत मिलता है कि डायबिटीज पीड़ितों की बढ़ती संख्या 2035 में 39,000 अतिरिक्त लोगों को दिल का दौरा पड़ने और 50,000 से अधिक स्ट्रोक के खतरे को पैदा कर सकता है। 

NHS ने कहा कि हॉस्पिटल के छह में से एक बेड पर डायबिटीज का रोगी मिलता है। 

इसे भी पढें: बुढ़ापे में ज्‍यादा समय बैठे रहने वाली महिलाओं में बढ़ जाता है हार्ट अटैक का खतरा: शोध

डायबिटीज का सबसे आम रूप, टाइप 2 डायबिटीज है, यह शरीर में ग्लूकोज के इंसुलिन हार्मोन के टूटने की समस्या के कारण होता है। आजीवन स्थिति आंखों, हृदय और नसों के साथ गंभीर समस्याओं के जोखिम को बढ़ा सकती है और यह अक्सर अधिक वजन या निष्क्रिय होने से जुड़ी होती है।

Type 2 Diabetes

एनएचएस का विश्व-पहला मधुमेह रोकथाम कार्यक्रम लोगों की स्थिति को विकसित करने से रोकने के लिए इसकी क्षमता को दोगुना कर रहा है। कार्यक्रम मधुमेह के उच्च जोखिम वाले लोगों की पहचान करता है और उन्हें स्वस्थ जीवन जीने के लिए और नौ से 12 महीनों के बीच चलने वाले पाठ्यक्रमों के माध्यम से बीमारी की शुरुआत को रोकने या देरी करने के लिए समर्थन करता है। इसे लगभग आधे मिलियन रेफरल मिले हैं।

एनएचएस के मुख्य कार्यकारी अधिकारी साइमन स्टीवंस ने कहा,  ''कमर में उभार या बैली फैट के साथ रहने वाले लोगों में टाइप 2 डायबिटीज बढ़ रहा था। उन्होंने कहा, "जब तक हममें से बहुत से लोग अपनी जीवनशैली और आदतों में बदलाव नहीं करते, मोटापे से जुड़ी बीमारियों का खतरा और उपचार, यूं ही बढ़ता रहेगा।'' 

इसे भी पढें: मुंह की लार से भी पता चल सकती हैं कई बीमारियां, वैज्ञानिकों ने ढूंढा नया तरीका

मोटापे और डायबिटीज के लिए NHS के नेशनल क्‍लीनिकल निदेशक प्रो. जोनाथन वल्लभजी ने कहा कि स्टार्क के आंकड़ों से पता चला है कि समस्या मध्यम आयु वर्ग या बुजुर्ग लोगों तक सीमित नहीं थी, जिसमें लगभग 115,000 युवा लोग टाइप 2 मधुमेह से पीड़ित थे या स्थिति विकसित होने का खतरा था।

डायबिटीज यूके के मुख्य कार्यकारी क्रिस असकेव ने कहा, "टाइप 2 डायबिटीज के सभी मामलों में से आधे से अधिक जटिलताओं का कारण मोटापा हो सकता है, - लोग अपना वजन कम करके जोखिम को कम कर सकते हैं। इसलिए स्वस्थ भोजन खाएं और अधिक सक्रिय रहें।”

Read More Article On Health News In Hindi 

Disclaimer