क्या आपका बच्चा हमेशा चिड़चिड़ा और थका हुआ रहता है? अपनाएं ये 4 टिप्स

कई बार आपके बच्चे अपनी पर्सनल और स्कूल लाइफ के बीच में बैलेंस न कर पाने के कारण बर्न आउट महसूस करते हैं। ऐसे में आप कुछ टिप्स अपना सकते हैं।

 
Monika Agarwal
परवरिश के तरीकेWritten by: Monika AgarwalPublished at: Aug 15, 2021Updated at: Aug 15, 2021
क्या आपका बच्चा हमेशा चिड़चिड़ा और थका हुआ रहता है? अपनाएं ये 4 टिप्स

आजकल बच्चों की ऑनलाइन पढ़ाई चल रही है। जिस कारण उनके माता पिता यह समझ लेते हैं कि वह हर समय फ्री हैं और इसलिए वे घर के कामों में भी हाथ बंटा सकते हैं। लेकिन क्या आप समझ पाते हैं कि आपके बच्चे को पर्सनल और स्कूल लाइफ को एक साथ लेकर चलने में कितनी परेशानी हो रही होगी। आपको अपने बच्चों को पर्सनल और स्कूल (Personal And School Life) लाइफ के बीच एक संतुलन बनाना सिखाना होगा। उन्हें घर पर ही रह कर स्कूल में अच्छा परफॉर्म करने की और  पर्सनल लाइफ बैलेंस करना बताना होगा। इसलिए कई बार वह चिड़चिड़े हो जाते हैं (Child Burnout Problem)। अगर आपको आपका बच्चा बहुत चिड़चिड़ा लग रहा है या वह रात में सोता नहीं है और उसका स्लीप पैटर्न (Sleep Patterns) बदल चुका है तो आपको समझ जाना चाहिए कि वह बर्न आउट महसूस कर रहा है। बच्चों में बर्न आउट (Causes of child burn out) के बहुत से कारण हो सकते हैं जिनमें पर्सनल स्पेस की कमी, निरंतर रूप से काम करना, अपनी पर्सनल जिंदगी और स्कूल लाइफ के बीच बैलेंस न बन पाना आदि शामिल होते हैं। तो ऐसी स्थिति में माता पिता क्या कर सकते (Tips to deal with burnout in children) हैं, जानिए। 

Inside2Burnoutchild

Image source:Hey Sigmund

1. एक्टिव रहें (Stay Active With Them)

हां हम मानते हैं कि इस कोविड के समय में बाहर निकलना या अधिक एक्टिव रहना सम्भव नहीं है लेकिन अपने बच्चों को समझाएं कि वह जितना हो सके उतना एक्टिव रहें। आप घर पर ही किसी छोटे मोटे गेम का आयोजन कर सकते हैं। जिससे आप अपने बच्चे के साथ एक्टिव रह सकते हैं। एक्टिव रहने से स्ट्रेस हार्मोन कम होता है और हम अधिक खुश रह सकते हैं। अपने लाइफस्टाइल में कभी कभार कुछ बदलाव करें जो आजकल हम सभी जी रहे हैं। उनको ऑफ स्क्रीन रहना और कुछ देर के लिए घर से बाहर निकलना भी जरूरी है।

इसे भी पढें: क्या ज्यादा प्यार-दुलार से सचमुच बिगड़ जाते हैं बच्चे? जानें मनोवैज्ञानिक की राय

2. उनके साथ एक ओपन बातचीत करें (Talk To Them Openly)

अगर आपके बच्चे को एंजाइटी महसूस हो रही है तो हो सकता है आप उसके साथ वक्त न बिताते हों। आप लोगों में आपस में कम्यूनिकेशन गैप हो। इस कारण उसकी पूरी सोशल लाइफ तबाह हो सकती है, वह इस दुनिया से किसी और ही दुनिया में पहुंच सकते हैं इसलिए आपको उनके साथ खुल कर बात करनी चाहिए। उन्हें यह आश्वासन दिलाएं कि उनकी सेहत से अधिक जरूरी कुछ नहीं है और अगर वह किसी चीज से कुछ दिन का ब्रेक लेना चाहते हैं तो वह ले सकते हैं। साथ ही वह काम कर सकते हैं जो उन्हें अधिक पसंद हो।

3. फैमिली गेम नाइट का करें आयोजन (Arrange A Game Night)

अगर आप चाहें तो कभी कभार अपने घर में पूरी फैमिली के साथ मिल कर कुछ छोटी मोटी गेम एक्टिविटी या पार्टी कुछ भी कर सकते हैं। जिसमें कुछ फिजिकल गतिविधियां भी शामिल हो सकती हैं और साथ में कुछ खाने पीने का भी सामान रखें। इससे आपके बच्चे बहुत एंजॉय करेंगे और वह कुछ समय के लिए अपनी फ्रस्ट्रेशन और सभी प्रकार की एंजाइटी को भूल जायेंगे।

Inside1playwithchild

Image source:Verywell Family

इसे भी पढें: सिंगल पैरेंट होने के फायदे: बच्चों की परवरिश अकेले करने से आपको भी होते हैं ये 3 लाभ

4. उनका एक रूटीन बना दें (set A Routine For Them)

जैसा कि हमने देखा कि बर्न आउट का एक कारण पर्सनल लाइफ और स्कूल लाइफ के बीच में संतुलन न बन पाना है। इसलिए उन्हें अपना रूटीन बनाना बहुत आवश्यक होता है। अगर वह खुद का रूटीन अच्छे से नहीं बना पाते हैं तो आपको उनके इस काम करने में मदद करनी चाहिए और थोड़ा बहुत समय उनके खुद के लिए भी देना चाहिए। ताकि वह अपनी मन पसंद की गतिविधि कर सके और स्कूल के व घर के कामों में अधिक फ्रस्ट्रेट न हो सकें।

आपको अपने बच्चे के मूड और रूटीन का ध्यान रखना चाहिए और अगर वह किसी दिन नॉर्मल बिहेव नहीं करते हैं तो आपको इन सब टिप्स के माध्यम से उनका मूड अच्छा करने का प्रयास करना चाहिए। ताकि वह थोड़ा हल्का महसूस कर सके। जरूरी है कि वह किसी भी अन्य व्यक्ति से अधिक अपने माता पिता पर भरोसा करे। इससे आपकी बॉन्डिंग भी अच्छी बनेगी।

Main Image Credit: Friendship Circle 

Read more articles on Tips for Parent in hindi

Disclaimer