कैंसर से लड़ने में मददगार हैं ये जादुई फूल

By  , ओन्‍ली माई हैल्‍थ सम्पादकीय विभाग
Jul 19, 2017
Quick Bites

  • प्राकृतिक औषधियों की मदद से भी कैंसर का इलाज किया जा सकता है।
  • प्राकृतिक औषधियों की मदद से भी कैंसर का इलाज किया जा सकता है।
  • डेंडलाइन के फूल को कामफूल के नाम से भी जाना जाता है।

कैंसर रोग पूरी दुनिया के लिये एक बड़ी समस्या बना हुआ है। कैंसर के तेजी से बढ़ते मामले और जटिल इलाज के चलते लोगों के लिये यह रोग काफी डरावना बन चुका है। इसका बारे  में बात करने से भी लोग घबराते हैं। शोध बताते हैं कि कैंसर दुनिया भर में हर साल हज़ारों मौतों का कारण बनता है। यह दरअसल शरीर में असामान्य कोशिकाओं की वृद्धि होती है, जो ऊतकों को मार देती हैं और अंततः शारीरिक प्रणाली को नष्ट कर देती हैं। कैंसर मानव प्रणाली के किसी भी हिस्से को प्रभावित कर सकता है। कैंसर के सबसे आम प्रकार में स्तन कैंसर, फेफड़ों का कैंसर, पेट के कैंसर, ल्यूकेमिया, प्रोस्टेट कैंसर व लिम्फोमा आदि शामिल होते हैं। लेकिन ऐसा भी माना जाता है कि कुछ प्राकृतिक औषधियों की मदद से भी कैंसर का इलाज किया जा सकता है। चलिये इस विषय के बारे में विस्तार से जानने का प्रयास करते हैं। जैसे कि माना जाता है कि डेंडलाइन का फूल कैंसर के उपचार में मददगार होता है।

इसे भी पढ़ेंः सावधान !! ये फल आपको बना सकते हैं कैंसरग्रस्त

Magical Flower Against Cancer in Hindi

 

डेंडलाइन के फूल (Dandelion flower) से कैंसर का इलाज

हालांकि कैंसर के कई प्रकारों का इलाज करना संभव होता है, लेकिन इस बीमारी के दोबारा होने का भी बड़ा जोखिम रहता है, जिसके चलते ये बीमारी और भी घातक हो जाती है। इस रोग के साथ इलाज के स्थायी होने की कोई गारंटी नहीं होती है। यही कारण है कि स्वास्थ्य संगठनों और अनुसंधान केन्द्रों द्वारा कैंसर के लिए एक स्थायी समाधान खोजने के प्रयास में हर साल लाखों-करोड़ों रुपये खर्च किया जा रहे हैं। हालांकि कैंसर के इलाज के लिये दवाएं, कीमो थेरेपी तथा जीवनशैली में सकारात्मक परिवर्तन आदि कि मदद से कैंसर के उपचार और बचाव को प्रभावी बनाया जा सकता है। ऐसा भी माना जाता है कि कैंसर के उपचार और रोकथाम के लिये प्राकृतिक नुस्खों की मदद भी ली जा सकती है। डेंडलाइन का फूल (Dandelion flower), जिसे कामफूल के नाम से भी जाना जाता है, के फूल के बारे में भी ऐसा माना जाता है कि इसमें कैंसर से लड़ सकने वाले असाधारण औषधीय गुण होते हैं।

इसे भी पढ़ेंः जानें कैसे टाइप 2 डायबिटीज की दवा से बढ़ता है ब्‍लैडर कैंसर का खतरा

डेंडलाइन के फूल की कैंसर से लड़ने की क्षमता

डेंडलाइन का फूल, खासतौर पर इसकी जड़ में असंख्य विटामिन और खनिज होते हैं, जोकि  मानव प्रणाली को स्वस्थ रखने के लिए आवश्यक होते हैं। डेंडलाइन का फूल विटामिन डी, सी और बी, आयरन, सिलिकॉन, जिंक व पोटेशियम आदि पोषक तत्वों का शरीर में संचार करता है। इन सबके मनुष्य के लिए विभिन्न स्वास्थ्य लाभ होते हैं। यह फूल कोशिकाओं को पोषण देता है और प्रतिरक्षा प्रणाली को मजबूत बनाता है। इसके साथ - साथ डेंडलाइन कब्ज, गुर्दे और यकृत रोग, पीलिया, वायरल फ्लू, आदि को भी दूर कर सकता है। यह फूल नई बनी मां के दूध का उत्पादन भी कुशलता से बढ़ा सकता है। डेंडलाइन के फूल को एक उत्कृष्ट रक्त शोधक भी माना जाता है, जो कि चयापचय दर को ठीक बनाए रखने और रक्त विकारों को रोकने में मदद करता है। इस सभी स्वास्थ्य लाभों के साथ डेंडलाइन में कैंसर से लजडने की काबिलियत बी होती है।


विभिन्न अनुसंधान अध्ययनों से पता चलता है कि डेंडलाइन की जड़ में कैंसर कोशिकाओं को नष्ट कर सकने वाले गुण होते हैं। विशेषज्ञों के अनुसार डेंडलाइन के सूजन को दूर करने वाले तथा रक्त को शुद्ध करने वाले गुण शरीर में कैंसर कोशिकाओं को कम कर स्वस्थ्य कोशिकाओं को सुरक्षित रखते हैं।  ऐसा माना जाता है कि यह दवा-प्रतिरोधी कैंसर के कुछ प्रकारों में प्रभावी उपचार देता है। इसे चाय की तरह लिया जा सकता है या अपने नियमित आहार में भी शामिल किया जा सकता है। यह कैंसर से लजडने के अलावा समग्र स्वास्थ्य के लिये भी बेहद लाभदायक होता है। हालांकि यह एक प्राकृतिक उपचार है और इसके चिकित्सकीय प्रणाम काफी नहीं है, इसलिये बिना डॉक्टर की सलाह  के इसे कैंसर के उपचार की तरह बिल्कुल इस्तेमाल न करें।

ऐसे अन्य स्टोरीज के लिए डाउनलोड करें: ओनलीमायहेल्थ ऐप

Image Source - Getty

Read More Articles On Alternative Therapy in Hindi

Loading...
Is it Helpful Article?YES15 Votes 4091 Views 0 Comment
संबंधित जानकारी
  • सभी
  • लेख
  • स्लाइडशो
  • वीडियो
  • प्रश्नोत्तर
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK