Doctor Verified

प्रोस्टेट कैंसर की जांच के लिए कौन से टेस्ट किये जाते हैं? जानें इनके बारे में

Tests For Prostate Cancer: प्रोस्टेट कैंसर की जांच के लिए कौन से टेस्ट किये जाते हैं? जानें डॉक्टर से।

Prins Bahadur Singh
Written by: Prins Bahadur SinghUpdated at: Dec 20, 2022 18:37 IST
प्रोस्टेट कैंसर की जांच के लिए कौन से टेस्ट किये जाते हैं? जानें इनके बारे में

3rd Edition of HealthCare Heroes Awards 2023

Tests For Prostate Cancer: खराब जीवनशैली और खानपान के अलावा स्वास्थ्य से जुड़ी स्थितियों के कारण प्रोस्टेट कैंसर (Prostate Cancer in Hindi) का खतरा बढ़ता है। प्रोस्टेट कैंसर की समस्या में आपके प्रोस्टेट ग्रंथि में कैंसर कोशिकाएं विकसित होने लगती हैं। इसकी वजह से धीरे-धीरे कैंसर फैलने लगता है। शुरुआत में प्रोस्टेट कैंसर की पहचान कर इलाज लेने से आप इस समस्या से निजात पा सकते हैं। आखिरी स्टेज में कैंसर के पहुंचने पर मरीज की जान जाने का खतरा बढ़ जाता है। प्रोस्टेट कैंसर की शुरुआत में लंबे समय तक आपको कोई लक्षण दिखाई नहीं देते हैं, इस समस्या में कुछ लोगों सालों बाद लक्षण दिखने शुरू होते हैं। जब शरीर में प्रोस्टेट कैंसर बढ़ने लगता है तो मरीज को पेशाब करने में परेशानी, पेट में गंभीर दर्द, कमजोरी, बुखार जैसे तमाम लक्षण दिखाई दे सकते हैं। इन लक्षणों के दिखने पर आपको लापरवाही करने के बजाय डॉक्टर की सलाह लेकर जांच करानी चाहिए। आइए जानते हैं प्रोस्टेट कैंसर का पता लगाने के लिए कौन से टेस्ट किये जाते हैं।

प्रोस्टेट कैंसर की जांच के लिए टेस्ट- Prostate Cancer Tests in Hindi

प्रोस्टेट कैंसर की समस्या में आपको बार-बार पेशाब आने की समस्या, पेशाब करने में दिक्कत, यूरिन में ब्लड आना, पेशाब करते समय जलन, पेट और पीठ में दर्द आदि लक्षण दिखाई देते हैं। इस समस्या में आपको बिना किसी देरी के डॉक्टर की सलाह लेनी चाहिए। शुरूआती स्टेज में प्रोस्टेट कैंसर का पता लगने पर इलाज में आसानी होती है और मरीज जल्दी ठीक होता है। एससीपीएम हॉस्पिटल के कैंसर विशेषज्ञ डॉ सुदीप कहते हैं कि डॉक्टर की सलाह पर प्रोस्टेट कैंसर की जांच के लिए ये टेस्ट किये जा सकते हैं-

Tests For Prostate Cancer

1. फिजिकल एग्जामिनेशन

सबसे पहले डॉक्टर मरीज का शरीरिक स्वास्थ्य जांचता है। इसके लिए आपका फिजिकल एग्जामिनेशन किया जाता है। इस दौरान डॉक्टर आपको लक्षणों के बारे में पूछते हैं और आपकी मेडिकल हिस्ट्री की जांच करते हैं। इसके अलावा डॉक्टर रेक्टल परीक्षण करने के लिए डिजिटल रेक्टल परीक्षण यानी डीआरई टेस्ट भी करते हैं।

इसे भी पढ़ें: प्रोस्टेट कैंसर की शुरुआत में दिखते हैं ये 8 सामान्य लक्षण, पुरुष बरतें सावधानी

2. प्रोस्टेट बायोप्सी टेस्ट

प्रोस्टेट बायोप्सी टेस्ट के माध्यम से प्रोस्टेट कैंसर की जांच की जाती है। इस टेस्ट में प्रोस्टेट का एक छोटा सैंपल यानी नमूना लिया जाता है और इसे माइक्रोस्कोप के माध्यम से जांचा जाता है। इसके अलावा नीडल बायोप्सी, ट्रांसरेक्टल अल्ट्रासाउंड (टीआरयूएस) या एमआरआइ आदि के माध्यम से भी इस नमूने की जांच की जाती है। जांच की रिपोर्ट के आधार पर डॉक्टर आगे का इलाज शुरू करते हैं।

3. पीएसए ब्लड टेस्ट

पीएसए ब्लड टेस्ट यानी प्रोस्टेट-विशिष्ट एंटीजन टेस्ट के माध्यम से भी प्रोस्टेट कैंसर की जांच होती है। इस जांच में आपके ब्लड का सैंपल लिया जाता है। ब्लड में पीएसए की मात्रा के अनुसार आपकी रिपोर्ट तैयार होती है। अगर आपके वीर्य या ब्लड में पीएसए की मात्रा ज्यादा रहती है तो प्रोस्टेट कैंसर की संभावना बढ़ जाती है। 

4. इमेजिंग टेस्ट

ऊपर बताये गए टेस्ट के अलावा इमेजिंग टेस्ट के माध्यम से भी प्रोस्टेट कैंसर का पता लगाया जाता है। इसके लिए डॉक्टर आपको एक्स-रे, अल्ट्रासाउंड, जैसे इमेजिंग टेस्ट की सलाह देते हैं। एमआरआई टेस्ट के बाद डॉक्टर रिपोर्ट के आधार पर इलाज करते हैं।

इसे भी पढ़ें: समय पर इलाज न करने से कई अंगों में फैल सकता है 'प्रोस्टेट कैंसर', जानें इसके लक्षण, जांच, इलाज और जरूरी बातें

प्रोस्टेट कैंसर की जांच के लिए आमतौर पर ऊपर बताये गए टेस्ट किये जाते हैं। खराब डाइट, असंतुलित जीवनशैली, कैंसर की फैमिली हिस्ट्री आदि के कारण प्रोस्टेट कैंसर का खतरा बढ़ जाता है। प्रोस्टेट कैंसर के लक्षण दिखने पर आपको सबसे पहले डॉक्टर से सलाह लेकर जांच करानी चाहिए।

(Image Courtesy: Freepik.com)

Disclaimer