पब्लिक प्लेस पर दूसरों के साथ सही व्यवहार करने के लिए बच्चों को जरूर सिखाएं ये 5 एटिकेट्स, होगी तारीफ

पब्लिक प्लेस पर आपके बच्चों को दूसरों से शिष्टाचार से पेश आना चाहिए, इसके अलावा भी आपको उन्हें ये छोटी-छोटी चीजें भी बताना चाहिए।

Pallavi Kumari
Written by: Pallavi KumariPublished at: Feb 05, 2020Updated at: Feb 05, 2020
पब्लिक प्लेस पर दूसरों के साथ सही व्यवहार करने के लिए बच्चों को जरूर सिखाएं ये 5 एटिकेट्स, होगी तारीफ

पेरेंटिंग का एक मुश्किल पार्ट है बच्चों को व्यवहारिक ज्ञान देना। दो साल के बच्चे को पढ़ाने की तुलना में एक किशोर शिष्टाचार सिखाना बहुत कठिन है। उन्हें 'कृपया' और 'धन्यवाद' कहना सिखाने के लिए भी माता-पिता को कई बार बहुत मेहनत लग सकती है। शिष्टाचार सिखाने का सबसे शुरुआती सही तरीका यही है कि उन्हें बचपन से ही थोड़ा-थोड़ा करके चीजें बताया जाए। सरल शब्द में शुरुआत करें पर अगर आचार-व्यवहार सिखाने में आपको थोड़ी सख्ती भी करनी पड़े तो इसे जरूर करें। अगर हम लगातार कुछ सरल शिष्टाचारों को अपने बच्चे में सुदृढ़ करते हैं और बच्चे उन्हें कम उम्र से ही सब सीखते हैं, तो यह बड़े होने तक उनमें कठोर हो जाता है। साथ ही उन्हें अपने सभी सामाजिक संबंधों में विनम्र होने के लिए प्रोत्साहित करें। वहीं बच्चे के खराब व्यवहार और शिष्टाचार के कारण अक्सर माता-पिता को शर्मिंदा होना पड़ सकता है। खासकर अगर आप घर से बाहर हैं, तो अंजान लोगों के बीच भी आपका मजाक बन सकता है। तो आज हम आपको ऐसी छोटी-छोटी चीजें बताएंगे, जिसकी मदद से आप अपने बच्चे को पब्लिक प्लेस में शिष्टाचार से रहना सिखा सकते हैं।

inside_moralvalues

पब्लिक प्लेस पर बच्चों को ऐसे सिखाएं शिष्टाचार से रहना 

उन्हें अपनी बारी का इंतजार करना सिखाएं

अपने बच्चे को शुरू से ही अपनी बारी का इंतजार करना सिखाएं। उन्हें इंताजार करना सिखाएं। उन्हें बताएं कि बातचीत करना हो या कुछ मांगना या खरीदना आपको कभी भी जल्दी न करके अपनी बारी का इंतजार करना चाहिए।बच्चों को धैर्य रखने के लिए अपनी बारी का इंतजार करना सिखाया जाना चाहिए। जब दो लोगों से बातचीत हो रही हो, तो उन्हें 'एक्सक्यूज़ मी' के साथ बातचीत करना सिखाएं। बातचीत शुरू होने के बाद उन्हें बातचीत के लिए रुकने के लिए प्रोत्साहित करें। इस तरह वो वेटर के सामने या बाहरी लोगों के सामने बीच-बीच में आपको बुलाकर या चिल्लाकर शर्मिंदा नहीं करेंगे।

 इसे भी पढ़ें : एक्सपर्ट ज्योतिका मेहता बेदी से जानें बिना स्क्रीन बच्चों की परवरिश के तरीके

इंडोर आवाज और आउटडोर आवाजों के बीच फर्क बताएं

उन्हें इनडोर आवाजों और बाहरी आवाजों के बीच अंतर सिखाएं। जब एक रेस्तरां, फिल्म थियेटर, एक नाटक या किसी भी स्थान पर एक निश्चित शांति की आवश्यकता होती है, तो उन्हें अपनी आवाज को कम रखने के लिए प्रोत्साहित करें। उन्हें शांति से धीरे से बात करने का भी गुण सिखाएं, ताकि उनके बगल में बैठा व्यक्ति ही उन्हें सुन सके, पूरे रेस्तरां या पूरी दुनिया नहीं। उन्हें बोलने और चिल्लाने के बीच का अंतर सिखाएं। यह स्पष्ट लग सकता है लेकिन अधिकांश बच्चों को यह महसूस नहीं होता है कि वे कितने जोर से बात कर रहे होते हैं। इससे बाहर एक मजेदार गेम बनाएं और उन्हें विभिन्न स्थितियों के लिए अलग-अलग आवाज के स्तर की कोशिश करने के लिए प्रोत्साहित करें।

व्यक्तिगत स्थान की अवधारणा का परिचय दें

जब एक पंक्ति में या लिफ्ट जैसी भीड़-भाड़ वाली जगह पर खड़े होते हैं, तो उन्हें व्यक्तिगत स्थान का अर्थ सिखाएं। जब हम स्कूल में बच्चे थे, पीई कक्षाओं के दौरान हमें एक-दूसरे से 'एक हाथ' की दूरी बनाए रखना सिखाया गया था। ऐसा लगता है कि अनुसरण करने के लिए अंगूठे का एक अच्छा नियम है। भीड़ भरे सार्वजनिक स्थान पर, हर कोई किसी न किसी व्यक्तिगत स्थान का हकदार होता है। उन्हें सिखाएं कि वे सामने वाले व्यक्ति पर न गिरें और न ही भीड़ दें।

inside_morality

उन्हें पर्सनल स्पेस का मतलब बताएं

उन्हें पर्यावरण और इसके साथ व्यवहार संबंधी अपेक्षाओं के प्रति जागरूक होना सिखाएं। एक पार्क में उन्हें चारों ओर दौड़ने-भागने की अनुमति है लकिन घर में नहीं है। वहीं एक पुस्तकालय में, किसी को शांत रहने और कर्कश आवाज में बोलने की उम्मीद है। ये सब चीजें बच्चे को बताएं। अगर कुछ नियम हैं, जो आपके बच्चे की सुरक्षा के लिए बनाए गए हैं, तो सुनिश्चित करें कि वे नियमों का पालन करें। जब सुरक्षा का संबंध है, तो नियम का कोई अपवाद नहीं हो सकता है।

इसे भी पढ़ें : हर छोटी बात के लिए आप भी अपने बच्चे को डांटते हैं? इन गलतियों से आपके बच्चे पर पड़ता है बुरा असर

सुरक्षा नियमों का पालन करें

एक अभिभावक के रूप में, आपकी भूमिका बहुत बड़ी है। आप शुरू से घर की सारे नियम बताएं और तय करें कि वो इसे फॉलो करें। इस तरह धीरे-धीरे उनके लिए सुरक्षात्मक नियम बनाएं। उन्हें बताएं कि ये नियम क्यों उनके लिए जरूरी है। किचन से लेकर बाथरूम तक के नियम भी उन्हें बताएं। उन्हें बताएं कि खाने और चलने का भी तरीका होता है। वहीं कमरे से निकलते वक्त लाइट ऑफ करना बिलकुल न भूलें। किचन में काम करते वक्त चीजों की दूरी और सफाई रखना सिखाएं।

बच्चे को सार्वजनिक शिष्टाचार सिखाना महत्वपूर्ण है लेकिन आसान नहीं है। यह केवल तभी सीखा जा सकता है जब बच्चों को कम उम्र से ये सब बताया जाए। सबसे महत्वपूर्ण बात यह है कि माता-पिता को बच्चे के तौर-तरीके में बदलाव लाना है, तो उनसे उचित व्यवहार करना सीखें।

Read more articles on Tips for Parents in Hindi

Disclaimer