Exam Tips: मैथ के फार्मूले और फिजिक्स की थ्योरी समझाने में मदद करेंगे ये 3 टिप्स, एग्जाम में रहेगा सब याद

केवल पाठ्यपुस्तक पढ़ाने के बजाय, पॉडकास्ट, विजुअल्स जैसे कि पोस्टर, प्रस्तुतीकरण और ऑनलाइन ब्लॉग का उपयोग करके सिखाने का प्रयास करें।

Pallavi Kumari
Written by: Pallavi KumariPublished at: Feb 04, 2020Updated at: Feb 04, 2020
Exam Tips: मैथ के फार्मूले और फिजिक्स की थ्योरी समझाने में मदद करेंगे ये 3 टिप्स, एग्जाम में रहेगा सब याद

क्या आपने कभी सोचा है कि जब आप पढ़ाई करते हैं, तो आपका दिमाग कैसे काम करता है? दरअसल पढ़ते वक्त आपका ध्यान, चीजों को याद करने का आपका तरीका और फिर उसे समझते हुए फिर से रिकॉल करना सारी गतिविधियां एक साथ जुड़ी हुई हैं। दरअसल हमारे ब्रेन में तीन मुख्य मेमोरी संरचनाएं होती हैं: संवेदी (Sensory),कामकाजी (Working) और दीर्घकालिक स्मृति (Long-term memory)। इन युक्तियों का उपयोग करके, आप अध्ययन करने के तरीके को बढ़ाने के लिए इन तीनों को सक्रिय कर सकते हैं। ऐसे में जब आपके बच्चे एग्जाम की तैयारी कर रहे हैं या दे रहे हैं, तो सबसे ज्यादा जरूरत उन्हें अपने दीर्घकालिक स्मृति (Long-term-memory)की पड़ सकती है। तो आज हम आपको ऐसे कुछ आसान टिप्स बताएंगे, जिनकी मदद से आप अपने बच्चों की पढ़ाई औप चीजों को याद रखने के तरीके को बेहतर बना सकते हैं।

Inside_exams

मैथ्स और फिजिक्स पढ़ाते वक्त अलग-अलग तरीकों से समझाने की कोशिश करें

अपनी संवेदी स्मृति (Sensory Memory) को सक्रिय करना पहला कदम है। संवेदी स्मृति इंद्रियों पर निर्भर करती है, जो दृष्टि, श्रवण, गंध, स्वाद और स्पर्श हैं। यानी कि अगर आपको मैथ्स और फिजिक्स समझने है तो 'देखो, सुनो, करो और तब समझो' वाला उपाय करना होगा। इनके फॉर्मेूले को याद कराने के लिए आपको बच्चो को ऐसा उदाहरण देना चाहिए, जिससे वो जोड़कर इसे याद रख सके।अपनी संवेदी स्मृति को सक्रिय करने के लिए, आपको यथासंभव अधिक इंद्रियों को सक्रिय करना चाहिए। हम मुख्य रूप से सीखने के दौरान दृश्य और श्रवण (ध्वनि) एड्स का उपयोग कर सकते हैं, जैसे प्रोजेक्टर या किसी फिल्म से इसे जोड़कर समझना इत्यादि। केवल अपनी पाठ्यपुस्तक पढ़ने के बजाय, पॉडकास्ट, दृश्य एड्स जैसे कि पोस्टर, प्रस्तुतीकरण और ऑनलाइन ब्लॉग का उपयोग करके सीखने का प्रयास करें।

Inside_tipsforexam

इसे भी पढ़ें : एक्सपर्ट ज्योतिका मेहता बेदी से जानें बिना स्क्रीन बच्चों की परवरिश के तरीके

पहले आसान भागों को समझाएं, फिर उन पर थ्योरी बिल्ड करें

एक शिक्षार्थी के विचार और सीखने की सामग्री पर ध्यान देने के बाद, जानकारी को कार्यशील मेमोरी में स्थानांतरित कर दिया जाता है। यह वह जगह है जहां आपका सचेत प्रसंस्करण होता है।जब आप एक परीक्षा दे रहे होते हैं, तो आपकी कार्यशील स्मृति कामकाजी (Working) वह होती है जो यह तय करती है कि आपका उत्तर क्या होने वाला है और आप अपनी प्रतिक्रिया को कैसे व्यवस्थित करने जा रहे हैं।

कई शिक्षार्थियों को यह महसूस नहीं होता है कि, अध्ययन की लंबी अवधि के बाद, आप महसूस करना शुरू कर सकते हैं कि आप उतना नहीं सीख रहे हैं जितना आपने शुरू में किया था। यह संज्ञानात्मक अधिभार के रूप में जाना जाता है। ऐसे में आसान टिप यही है कि आप

  • - पहले उन्हें मुश्किल चीजों पर ले जाने की जगह आसान चीजें बताएं।
  • -बच्चे को महसूस कराएं कि ये उन्हें पता ही था, बस थोड़ा इसमें और जोड़ लेना है।
  • -इस तरह आप धीरे-धीरे पूरी थ्योरी बिल्ड करने में उन्हें मदद कर सकते हैं।
  • - पढ़ाते वक्त चीजों को बोरिंग होने से बचाए।
  • -एक बार में बच्चे का एक ही चीज पढ़ाएं।

उदाहरण के लिए, वर्णमाला सीखने वाले बच्चे को पहले से अधिक ज्ञान नहीं होता है, इसलिए प्रत्येक अक्षर को व्यक्तिगत रूप से संग्रहीत किया जाता है, जैसे कि, 26 बिट्स। जैसा कि वे अधिक परिचित हो जाते हैं, अक्षर एक सा हो जाते हैं।

इसे भी पढ़ें : एग्जाम की तैयारी में रह न जाए कोई कमी, बच्चों को शोर से बचाने के लिए अपनाएं ये 5 उपाय

बच्चे को स्ट्रेस फ्री रखने के लिए खेलने-कूदने दें

शारीरिक गतिविधि रक्त प्रवाह और तंत्रिका कोशिका निर्माण को बढ़ाकर आपके मस्तिष्क के कामकाज में मदद करती है। व्यायाम करने से आपका संपूर्ण स्वास्थ्य भी बनता है, जो आपके शरीर की संसाधनों और ऊर्जा को याद रखने की क्षमता पर सकारात्मक प्रभाव डालता है, जिसे आप याद रखना चाहते हैं। दिलचस्प रूप से पर्याप्त, अध्ययनों से पता चला है कि किसी भी उम्र में एरोबिक व्यायाम संज्ञानात्मक कामकाज में सुधार कर सकते हैं और प्रतिभागियों को स्मृति परीक्षणों पर बेहतर प्रदर्शन करने में मदद करते हैं। वहीं इस बात का भी खास ख्याल रखें कि बच्चा चीजों से बोर न हो और उसे पढ़ने का स्ट्रेस न हो। इसलिए पढ़ाई के कुछ घंटों के बाद उन्हें खेलने के लिए जरूर भेजें।

Read more article on Tips For Parents in Hindi 

Disclaimer