श्वसनी दमा के लक्षण

By  , ओन्‍ली माई हैल्‍थ सम्पादकीय विभाग
Jan 16, 2012
Quick Bites

  • श्वसनी दमा फेफड़ों की समस्या है जिसमें श्वसन मार्ग बाधित होता है।
  • श्वसनी में हवा के स्तर में कमी के कारण रोगी को घुटन होती है।
  • 23 लाख से अधिक अमेरिकी लोग इस दमा से पीड़ित हैं।
  • दमा के विकास में एलर्जी एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाती है।

श्वसनी दमा एक फेफड़ों की समस्या है जहां हवा के मार्ग, याने की श्वसनी अवरुद्ध होती हैं या बाधित होती है। यह श्वसन मार्ग में रुकावट लाता हैं और श्वसनी में हवा के स्तर में कमी के कारण रोगी को घुटन होती हैं, जिससे उसे  सांस लेने में तकलीफ होती है। श्वसनी में एक अशांति आवेग  की ओर जाता है। श्वसनी दमा को सामान्यतः दमा के रूप में संबोधित किया जाता है, क्योंकि ज्यादातर लोगों को श्वसनी प्रकार के दमा का सामना करना पडता है।

Bronchial Asthma


सीडीसी अनुसंधान के अनुसार, 23 लाख से अधिक अमेरिकी लोगं, जिसमें 18 वर्ष से कम आयु के 7 लाख बच्चें शामिल हैं, दमा से पीड़ित हैं। दमा के विकास में एलर्जी एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाती है और अन्य कारकों में परिवार में दमा के इतिहास के रूप में एक मजबूत आनुवंशिक घटक है।

श्वसनी दमा के कारण

व्यक्ति की प्रतिरक्षा प्रणाली और एलर्जी के लिए प्रतिरोध के स्तर के आधार पर हर व्यक्ती में  दमा के कारण अलग होते हैं। प्रतिरोध के उच्च स्तर श्वसनी में हवा के बहाव की रुकावट का कारण बनता है। हालांकि सांस की मांसपेशियां दिल को ऑक्सीजन पंप करने के लिए बहुत परिश्रम करती हैं, वे समय के साथ ज्यादा तनाव के कारण अधिक कमजोर हो जाती हैं। मांसपेशियों पर श्वसन और हवा के आदान-प्रदान की प्रक्रिया को सहाय्य करने के तनाव के स्तर के बावजूद, रक्त वाहिकाएं हवा के बहाव में सहायता करने में असमर्थ होती हैं। इसके परिणामस्वरुप श्वसनी प्रभावित होती हैं और मांसपेशियों की ऐंठन और श्वसनी दीवार पर सूजन आती हैं, जिसके कारण बलगम का स्त्राव होकर श्वसन मार्ग अवरुद्ध होता है। ठंडी और शुष्क हवा, धुआं, प्रदूषण, परागकण, धूल, कवक, मोल्ड, तनाव, चिंता, और श्वसन संक्रमण जैसे एलर्जी कारको से आप में दमा के विकास की संभावना में वृद्धि होती हैं।

श्वसनी दमा के लक्षण

श्वसनी दमा के अटॅक के परिणामस्वरूप बलगम स्राव होता हैं, जो श्वसन मार्ग में रुकावट लाता है, और जब आप साँस लेते हैं, एक सीटी बजने जैसा ध्वनि निर्माण होता हैं। आप दो दमा अटॅक के बिच बलगम स्त्राव में वृद्धी से भी  पीड़ित हो सकते हैं, जिसके परिणामस्वरूप आपको सीने में दर्द और भारीपन हो सकता हैं। यदि आप बहुत जोर से खर्राटे लेते है, यह श्वसनी दमा का एक संकेत हो सकता है। बहुत सारे लोग श्वसनी दमा को साँस की घरघराहट के साथ भ्रमित करते हैं और स्थिति की अनदेखी करते हैं। श्वसनी अस्थमा पर समय पर और प्रभावी ढंग से इलाज करने के लिए उसके लक्षणों को मापना और पहचानना सबसे अच्छी सलाह हैं।

श्वसनी दमा के कुछ प्रमुख लक्षण इस प्रकार हैं:

  • सांस लेने में तकलीफ
  • सीने में भारीपन
  • सीने में दर्द
  • घरघराहट
  • अत्यधिक खाँसी
  • अत्यधिक थकान

 
हर व्यक्ति में लक्षण एकसमान नहीं होते है, लेकिन श्वसनी दमा का सामना कर रहे लोगों में हल्के से गंभीर लक्षणों के उतार चढ़ाव दिख सकते है। कुछ लोगों को लंबे समय के अंतराल के बाद श्वसनी दमा के लक्षण दिख सकते है और श्वसनी दमा का अटॅक आ सकता है, तो अन्य लोगों को इसे दैनिक आधार पर सहन करना पड़ सकता है। आमतौर पर, श्वसनी दमा लाइलाज है, लेकिन उसे रोकने के लिए कई उपाय हैं, जिसमें हवा फिल्टर का उपयोग करके अपने पर्यावरण को नियंत्रित करना, धूल मुक्त गद्दे और तकिये के कवर सुनिश्चित करना, और बहुत ठंड और शुष्क मौसम की स्थिति से बचना आदी शामिल हैं।

 

Read More Articles On Asthma In Hindi

Loading...
Is it Helpful Article?YES41 Votes 23400 Views 0 Comment
संबंधित जानकारी
  • सभी
  • लेख
  • स्लाइडशो
  • वीडियो
  • प्रश्नोत्तर
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK