शोध में हुआ खुलासा, जानें कैसे आपकी हड्डियों के अच्छे स्वास्थ्य से जुड़ा हुआ है आपके दिल का स्वास्थ्य

अपनी हड्डियों के स्वास्थ्य का खास ख्याल रखें, क्योंकि इसका स्वास्थ्य भी आपके संपूर्ण स्वास्थ्य से जुड़ी हुआ है।

Pallavi Kumari
Written by: Pallavi KumariPublished at: Sep 07, 2020Updated at: Sep 07, 2020
शोध में हुआ खुलासा, जानें कैसे आपकी हड्डियों के अच्छे स्वास्थ्य से जुड़ा हुआ है आपके दिल का स्वास्थ्य

आर्थराइटिस न केवल जोड़ों को प्रभावित करता है बल्कि आपके दिल की सेहत को भी प्रभावित करता है। ये हम नहीं बल्कि हाल ही में आया शोध बता रहा है। दरअसल जर्नल एनल्स ऑफ द रयूमैटिक डिजीज में प्रकाशित एक अध्ययन की मानें, तो गठिया, विशेष रूप से संधिशोथ (आरए) और सोरियाटिक गठिया जैसे गंभीर स्थितियों वाले लोगों को दिल का दौरा, स्ट्रोक, अनियमित दिल की धड़कन, उच्च रक्तचाप, दिल की विफलता और एथेरोस्क्लेरोसिस के लिए खतरा बढ़ जाता है। ऐसा इसलिए है क्योंकि हड्डियों की सूजन जहां से भी गुजरती है, हृदय रोग के लिए एक जोखिम कारक बन जाती है। 

insidejointdiseases

क्या कहता है शोध?

जर्नल एनल्स ऑफ द रयूमैटिक डिजीज में प्रकाशित एक अध्ययन से यह भी पता चला है कि जोड़ों में दर्द के शुरुआती लक्षणों का इलाज करने के लिए इस्तेमाल की जाने वाली दवाओं से संवहनी कठोरता में सुधार करने में मदद मिल सकती है। दरअसल हड्डियों का सूजन बड़ी धमनियों में लोच का नुकसान करता है और ये बढ़ते हुए हृदय रोग का एक संकेत है। इसलिए, अगर किसी को गठिया है, तो अपने जोड़ों की सुरक्षा के लिए स्थिति को नियंत्रण में रखना महत्वपूर्ण है नहीं तो ये हृदय रोग के विकास के जोखिम को बढ़ा सकता है।

इसे भी पढ़ें : हार्ट अटैक के बाद हार्ट को हेल्दी रखने के लिए रोजाना की आदतों में लाएं ये 5 बदलाव! जिंदगी और सेहत होगी दुरुस्त

आर्थराइटिस की दवाइयां दिल के स्वास्थ्य के लिए भी है फायदेमंद?

शोध बताते हैं कि जोड़ों के दर्द को प्रबंधित करने के अलावा, गठिया की कुछ दवाएं आपके दिल के स्वास्थ्य को भी बेहतर करने में भी मदद कर सकती हैं। अध्ययन के लिए, शोधकर्ताओं ने 82 रुमेटीइड गठिया रोगियों के विस्तृत एमआरआई दिल के स्कैन किए, जिनमें कोई भी ज्ञात हृदय समस्या नहीं है। उन्होंने संधिशोथ के शुरुआती चरणों में मुख्य धमनी में संवहनी कठोरता (vascular stiffness) की उपस्थिति देखी। बाएं वेंट्रिकल की दीवार (हृदय का मुख्य पंपिंग चैंबर) में कार्डियक स्कारिंग और परिवर्तन के सबूत भी थे। इन निष्कर्षों के आधार पर, शोधकर्ताओं ने सुझाव दिया कि आरए को ठीक करना दिल की बीमारियों से भी आपको ठीक रख सकता है।

insideheartdiseases

आरए दवाओं के साथ एक वर्ष के उपचार के बाद, शोधकर्ताओं ने फिर से स्कैन किया और संवहनी कठोरता में सुधार पाया। अध्ययन के लेखकों ने कहा कि आरए उपचार ने व्यसकुलर स्टीफनेस में सुधार किया। ये निष्कर्ष आरए के शुरुआती उपचार के महत्व को उजागर करते हैं जिससे हृदय रोग (सीवीडी) विकसित होने का खतरा भी कम होता है।

इसे भी पढ़ें : Atrial Fibrillation: क्या है एट्रियल फिब्रिलेशन? जानें कैसे ये आपके हृदय स्वास्थ्य को करता है प्रभावित

हालांकि, कुछ गठिया दवाएं वास्तव में दिल को नुकसान पहुंचा सकती हैं। नॉनस्टेरॉइडल एंटी-इंफ्लेमेटरी ड्रग्स (NSAIDs) का उपयोग दिल के दौरे या स्ट्रोक के लिए बढ़ते जोखिम से जुड़ा हुआ है। 15 अध्ययनों के एक मेटा-विश्लेषण ने उच्च कोलेस्ट्रॉल, मधुमेह, निष्क्रियता और एनएसएआईडी के उपयोग को साझा हृदय रोग जोखिम कारकों के रूप में वर्णित किया। एफडीए ने इन दवाओं के उपयोग के खिलाफ भी चेतावनी दी है, सावधानी बरतते हुए कि उन्हें लेने के कुछ ही हफ्तों के भीतर हृदय की घटना हो सकती है।

वहीं शोध में ये भी बताया गया है कि कैसे स्टेरॉयड दवा, प्रेडनिसोन, रक्तचाप भी बढ़ा सकती है, कोलेस्ट्रॉल के स्तर को बढ़ा सकती है और धमनियों को सख्त कर सकती है। इसलिए, दिल को स्वस्थ रखने के लिए, गठिया के दर्द से राहत पाने के लिए स्टेरॉयड लेते समय लोगों को सावधान रहना चाहिए।

Read more articles on Health-News in Hindi

Disclaimer