दिमाग खाने वाले अमीबा से मौत का पहला मामला आया दक्षिण कोरिया में, जानें इसके बारे में

Brain Eating Amoeba: दक्षिण कोरिया में ब्रेन ईटिंग अमीबा का पहला मामला सामने आ चुका है। अमीबा बेहद संक्रमण के बाद दिमाग में बहुत खतरनाक हो जाता है।

 

Ashu Kumar Das
Written by: Ashu Kumar DasUpdated at: Dec 30, 2022 12:54 IST
दिमाग खाने वाले अमीबा से मौत का पहला मामला आया दक्षिण कोरिया में, जानें इसके बारे में

What is Brain Eating Amoeba in Hindi Symptoms: चीन, जापान समेत दुनिया के कई देशों में कोरोना के बढ़ते मामलों के बीच दक्षिण कोरिया में दिमाग को खाने वाले अमीबा के कारण एक व्यक्ति की मौत का मामला सामने आया है। द कोरिया टाइम्स में छपी खबर के अनुसार 10 दिसंबर को कोरिया से लौटने वाले  50 वर्षीय व्यक्ति की नेगलेरिया फाउलेरी से संक्रमित होने के बाद मौत हो गई है। कोरिया रोग नियंत्रण और रोकथाम एजेंसी (केडीसीए) ने भी व्यक्ति के अंदर अमीबा संक्रमण की पुष्टि की है। 

कोरोना के बीच दक्षिण कोरिया में अमीबा का मामला सामने आने के बाद सवाल उठने लगते हैं कि आखिरकार दिमाग खाने वाला अमीबा है क्या और इसके लक्षण क्या हैं? आइए जानते हैं अमीबा के जुड़ी तमाम जानकारियां।

दिमाग खाने वाला अमीबा क्या है? - What is Brain Eating Amoeba in Hindi Symptoms

सेंटर फॉर डिजीज कंट्रोल एंड प्रिवेंशन (सीडीसी) के अनुसार, नेग्लेरिया फाउलेरी अमीबा नाक के जरि लोगों के शरीर में प्रवेश करती है। इसके बाद ये शरीर के टिश्यू से टकराती है और दिमाग तक पहुंच जाती है। एक बार दिमाग तक पहुंचने के बाद नेग्लेरिया फाउलेरी अमीबा नसों को नुकसान पहुंचाते हुए मस्तिष्क की कोशिकाओं को खाने लगता है। सीडीसी की रिपोर्ट के मुताबिक एक बार नेग्लेरिया फाउलेरी अमीबा किसी व्यक्ति के दिमाग में पहुंच जाए तो उसे बाहर निकालना और संक्रमित व्यक्ति का इलाज करना नामुमकिन हो जाता है। अमीबा से हुए संक्रमण का पहला मामला अमेरिका में 1937 में आया था। अमीबा से संक्रमित व्यक्ति के अंदर इसके लक्षण 1 से 2 दिन के भीतर दिखाई दे सकते हैं। आइए जानते हैं अमीबा के लक्षण क्या हैं और दिमाग को खाने वाला ये वायरस कहां पनपता है।

इसे भी पढ़ेंः सर्दियों में खाएं बाजरा लड्डू, सेहत को मिलेंगे कई फायदे

Brain Eating Amoeba

अमीबा कहां पर पनपता है? - Where Do Amoebas Grow in Hindi?

सीडीसी के मुताबिक, दिमाग को खाने वाला अमीबा मुख्यत ताजे पानी और मिट्टी में पनपता है। किसी अन्य छोटे जीव-जन्तु के मुकाबले अमीबा बहुत ही सूक्ष्म होता है। अमीबा को सिर्फ माइक्रोस्कोप से ही देखा जा सकता है। अमीबा से संक्रमित मरीजों के आंकड़ों पर नजर डालें तो पता चलता है कि इससे संक्रमित होने वाले 10 में से किसी 1 व्यक्ति की ही जान बच पाती है। साफ पानी में पनपने के कारण अमीबा बड़े स्तर पर लोगों को संक्रमित करता है और इसके बारे में ज्यादा लोगों को जानकारी नहीं हो पाती है।

अमीबा का कीड़ा इन स्थानों पर पनपता है:

  • गर्म ताजा पानी, जैसे झीलें और नदियां
  • भूतापीय (स्वाभाविक रूप से गर्म) पानी, जैसे गर्म झरने
  • औद्योगिक या बिजली संयंत्रों से निकलने वाले गर्म पानीमें
  • अनुपचारित भू-तापीय (स्वाभाविक रूप से गर्म) पेयजल स्रोत
  • स्विमिंग पूल, स्पलैश पैड, सर्फ पार्क जिसमें पर्याप्त क्लोरीन का इस्तेमाल नहीं किया गया है।
  • नल का पानी
  • पानी गर्म करने का यंत्र में भी पाया जा सकता है।

दिमाग को खाने वाला अमीबा संक्रमण समुद्र के पानी या किसी भी जगह जहां का पानी नमक वाला है वहां पर नहीं पनप सकता है।

अमीबा के लक्षण क्या हैं? - What Are The Symptoms of Amoeba?

  • बुखार आना
  • उल्टी
  • जी मिचलाना
  • सिरदर्द

क्या अमीबा एक संक्रमित बीमारी है? - Is Amoebiasis an Infectious Disease?

नेग्लरिया फाउलेरी अमीबा के कारण होने वाली बीमारी को 'प्राइमरी अमीबिक मेनिंगोएनसेफेलाइटिस' (PAM) कहा जाता है। इसे व्यापक रूप से जानलेवा माना जाता है। 1962 से लेकर 2021 तक अमीबा ने अब तक सिर्फ 154 लोग संक्रमित पाए गए हैं। संक्रमित मरीजों में से केवल 4 लोगों को ही जीवित बचाया जा सकता है। सीडीसी के मुताबिक अमीबा बेशक पानी में पनपने वाली बीमारी है, लेकिन ये एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति में फैल सकती है या नहीं इसके फिलहाल किसी तरह के सबूत मौजूद नहीं हैं।

अमीबा से बचाव के लिए क्या करें? - What to do to Avoid Amoeba?

  • हमेशा स्वच्छ और साफ पानी पिएं
  • नहाते समय या स्विमिंग के दौरान नाक या मुंह में पानी जानें से बचाएं।
  • रुके हुए पानी में नहाने से बचें।
  • तालाब या स्विमिंग पूल की नियमित तौर पर सफाई करें।

फोटो साभारः CDC.Gov

Disclaimer