आखिर क्यों कुछ फेयरनेस प्रोडक्ट लगाने से चेहरे पर हो जाते हैं दाने-मुहांसे, जानें एलर्जी होने का कारण

चेहरे पर दाने-मुंहासे कई कारणों से आते हैं लेकिन कुछ स्किन केयर उत्पाद आपके चेहरे पर एलर्जी का कारण बन सकते हैं। 

Jitendra Gupta
Written by: Jitendra GuptaUpdated at: Jan 06, 2020 10:38 IST
आखिर क्यों कुछ फेयरनेस प्रोडक्ट लगाने से चेहरे पर हो जाते हैं दाने-मुहांसे, जानें एलर्जी होने का कारण

मौजूदा वक्त में तनाव और प्रदूषण किसी के भी चेहरे की रंगत बिगाड़ने में सबसे अहम भूमिका निभाता है। चेहरे की रंगत सुधारने के लिए हम न जाने कितने फेयरनेस उत्पादों का प्रयोग करते हैं लेकिन चेहरा सुधरने के बजाए खराब होता चला जाता है। लेकिन क्या आप जानते हैं कि इन क्रीम, कॉस्मेटिक और अन्य उत्पादों में पाए जाने वाले विभिन्न तत्व आपकी स्किन में होने वाले एलर्जिक रिएक्शन पैदा कर सकते हैं? ये केमिकल स्किन में लिपिड नाम के प्राकृतिक फैट जैसे मॉलीक्यूल को हटा देते हैं, जो इस एलर्जिक रिएक्शन का कारण बनते हैं।

allergy

कैसे रोका जा सकता है एलर्जी रिएक्शन

यह शोध इस संभावना को बढ़ा देता है कि प्रतिरक्षा प्रतिक्रिया को बढ़ाने वाले मॉलीक्यूल को विस्थापित करने के लिए त्वचा पर प्रयोग किए जाने वाले उत्पादों में अगर प्रतिस्पर्धी लिपिड लगाने से त्वचा पर एलर्जी या फिर सूजन को रोका जा सकता है।

इसे भी पढ़ेंः हार्ट अटैक के बाद ये नई प्रोटीन थेरेपी बढ़ा देती है लोगों की उम्र, दिल भी होता है मजबूतः शोध

क्या कहता है शोध

शोध के मुताबिक, फिलहाल त्वचा की सूजन के संपर्क से होने वाली एलर्जी को रोकने का एकमात्र तरीका है कि इस प्रकार के खराब केमिकल की पहचान करें और उसके संपर्क में आने से बचें। टॉपिक्ल ऑइन्टमेंट रैशेज को कम करने में मदद करते हैं, जो कि आमतौर पर एक महीने में साफ होते हैं।

allergy

कैसे शुरू होती है एलर्जी

शोध में बताया गया कि कुछ मामलों में डॉक्टर कॉर्टिकोस्टेरॉइड्स लेने की सलाह देते हैं, जो कि एक प्रकार की एंटी-इंफ्लेमेटरी दवा है। ये दवा इम्यून सिस्टम को दबाकर संक्रमण और अन्य प्रकार के दुष्प्रभावों के खतरे को बढ़ा देती है। किसी प्रकार की एलर्जी तब शुरू होती है जब इम्यून सिस्टम के टी सेल (कोशिकाएं) ये समझ लेते हैं कि ये केमिकल बाहरी हैं। दरअसल टी सेल प्रत्यक्ष रूप से उन छोटे केमिकल को नहीं पहचान पाते हैं, जिस कारण ऐसा होता है।

इसे भी पढ़ेंः घुटने के ऑस्टियोअर्थराइटिस को बढ़ने से रोक सकती है ये दवा, शोधकर्ताओं ने एक अध्ययन में किया खुलासा

टी सेल क्या है

शोध में कहा गया कि इन कम्पाउंड को टी सेल को दिखाई देने के मकसद से चेहरे के बड़े प्रोटीन के साथ केमिकल रिएक्शन के संपर्क में आने की जरूरत होती है।   

क्या कहते हैं शोधकर्ता

न्यूयॉर्क में कोलंबिया विश्वविद्यालय वैगेलोस कॉलेज ऑफ फिजिशियन और सर्जन में डर्माटोलॉजी की सहायक प्रोफेसर और अध्ययन की सह-लेखक एनेमिकी डी जोंग का कहना है, ''हालांकि स्किनकेयर उत्पादों में कई छोटे कंपाउंड, जो इस प्रकार की एलर्जी को बढ़ाते हैं उनमें इस प्रकार के रिएक्शन होने के लिए केमिकल रिएक्शन की कमी होती है।''

Read more articles on Health News in Hindi

Disclaimer