क्या बच्चों की केयरिंग में उन्हें सिखाना भूल गए शेयरिंग? ऐसे में पेरेंटिंग का पहला कदम हो ऐसा

क्या आपके बच्चों के स्वभाव में स्वार्थ और आत्मकेंद्रित ने ले ली है जगह। समय रहते अपनी परवरिश में करें बदलाव...

Garima Garg
Written by: Garima GargPublished at: Oct 13, 2020Updated at: Oct 13, 2020
क्या बच्चों की केयरिंग में उन्हें सिखाना भूल गए शेयरिंग? ऐसे में पेरेंटिंग का पहला कदम हो ऐसा

मम्मी... आप मेरा सामान किसी को मत दिया करो, मुझे पसंद नहीं है। मम्मी... मेरी चॉकलेट है मैं किसी के साथ शेयर नहीं करूंगा। हॉस्टल में मुझे शेयरिंग रूम नहीं चाहिए, मुझे अकेले रहना ज्यादा पसंद है। अक्सर आपने अपने बच्चों से ऐसा कहते सुना होगा। ऐसी आदतें बच्चों को सामाजिक व्यवहार से दूर रखती हैं। यही कारण होता है कि बड़े होकर बच्चे स्वार्थी और आत्मकेंद्रित बन जाते हैं इसीलिए पेरेंट्स का फर्ज है कि वे परवरिश इस ढंग से करें कि उनकी दिनचर्या में शेयरिंग और केयरिंग की भावना विकसित हो सके। पढ़ते आगे...

kids nature

शेयरिंग है जरूरी

बच्चों के व्यक्तित्व के विकास के लिए अपने दोस्तों के साथ या अपने आसपास पड़ोसियों के साथ मिलजुल कर रहना, उनके साथ खाने-पीने की चीजों को बांटना जरूरी है। यह सब बातें देखने में भले ही आम है लेकिन इससे बच्चों में सामाजिक व्यवहार पनपता है। अपनी चीजों के प्रति पज़ेसिव रहना स्वभाविक है लेकिन किसी को अपने खिलौनों से ना खेलने देना या मैं, मेरा, मेरे लिए, इस तरह के शब्दों का इस्तेमाल करना सही नहीं है। अगर बचपन से ही बच्चे शेयरिंग का मतलब समझेंगे तो वे न केवल दूसरों की मदद करेंगे बल्कि सामने वाले से भी उम्मीद रख सकते हैं कि वह भी आपकी सहायता करें।

इसे भी पढ़ें- नवजात शिशुओं की देखभाल के लिए आयुर्वेद में बताई गई हैं ये 5 बातें, इंडियन पेरेंट्स को जरूर अपनाना चाहिए इन्हें

माता-पिता उठाएं ये कदम

अगर आप अपने बच्चों को मिलजुल कर रहने की आदत सिखाना चाहती है तो इसका सबसे अच्छा उदाहरण आप खुद बन सकते हैं। उनके साथ अपना सामान शेयर करें। यह समस्या ज्यादातर उन परिवारों में देखी जाती है, जहां सिंगल चाइल्ड होता है। उसके अंदर एकाधिकार की भावना विकसित होना स्वभाविक है। ऐसे में मां-बाप को अपने बच्चे की परवरिश के दौरान शेयरिंग का मतलब समझाना चाहिए। उदाहरण के तौर पर अगर आप अपने बच्चे को चॉकलेट दे रहे हैं तो उससे छोटा सा टुकड़ा खुद के लिए भी मांगे और अगर वह ना दे तो डांटने या चिल्लाने की बजाय उसे समझाएं और बताएं कि अकेले खाना अच्छी बात नहीं।

good sharing

बच्चों को खेल के दौरान सिखाएं शेयरिंग

बच्चे ऐसे गेम खेलना पसंद कर रहे हैं जिनमें उन्हें किसी साथी या दोस्त की जरूरत नहीं पड़ती। जैसे मोबाइल, लैपटॉप, वीडियो गेम में बच्चे खुद जीतते-हारते रहते हैं। ऐसे में आप बच्चों को शुरू से ही दोस्तों के साथ खेलने के लिए प्रेरित करें। अगर आपका बच्चा इंट्रोवर्ट है तो उसे समझाएं कि दूसरों का साथ होना जरूरी है। उसे ऐसे खेल में जाने के लिए कहे, जिसमें उसे दूसरों के साथ हो।

इसे भी पढ़ें- बच्‍चों में खतरनाक हो सकता है नाइट टेरर या स्‍लीप टेरर, जानें इसके कारण, लक्षण और बचाव के टिप्‍स 

कुछ जरूरी बातें

  • शेयरिंग सिखाने का मतलब यह नहीं कि आप बच्चों पर अपनी बातों पर थौपें।
  • जब नह आपके दिए निर्देशों को समझने लगे तब बच्चे से उम्मीद करें।
  • उसकी दिनचर्या में शेयरिंग को जोड़ें।
  • अपने बच्चों को रोज ऐसी कहानियां सुनाएं, जिससे उन्हें शेयरिंग का अर्थ समझ में आए।

Read More Articles On Prenting in Hindi

Disclaimer