ये 3 लक्षण बताते हैं कि आपका बच्चा है ज्यादा संवेदनशील, जानें ऐसे बच्चों की कैसे करनी चाहिए परवरिश

बच्चों में जिद, गुस्सा आदि भावनाएं सामान्य मानी जाती हैं लेकिन कुछ बच्चे ज्यादा संवेदनशील होते हैं, जिन्हें अतिरिक्त देखभाल की जरूरत पड़ती है।

Monika Agarwal
Written by: Monika AgarwalUpdated at: Aug 29, 2021 12:00 IST
ये 3 लक्षण बताते हैं कि आपका बच्चा है ज्यादा संवेदनशील, जानें ऐसे बच्चों की कैसे करनी चाहिए परवरिश

क्या आपने कभी इस ओर ध्यान दिया है कि आपका बच्चा छोटी-छोटी बातों पर जल्दी परेशान हो जाता है? वह कुछ बातें ऐसी होती हैं जिन पर साधारण तौर पर और बच्चे कोई प्रतिक्रिया नहीं करते। जैसे कि किसी कपड़े को पहनते समय यदि उसकी फिटिंग सही नहीं आ रही। तो बच्चे का परेशान हो जाना या उसका मूड खराब हो जाना। या कभी कभार बच्चे को बहुत अधिक भीड़भाड़ वाली जगह पर जाना पसंद नहीं होता। यह सब बहुत संवेदनशील बच्चे के लक्षण हैं।

parents and kids

कोलंबिया एशिया हॉस्पिटल के पीडियाट्रिशियन डॉक्टर सुमित गुप्ता के मुताबिक अधिक संवेदनशील बच्चे का मतलब उस बच्चे से है जो अधिक तेज आवाज, तीखी खुशबू, तेज भड़कीली लाइट आदि से संवेदनशील होते हैं। ऐसे बच्चे किसी भी तरह के जज्बात को लेकर भी अधिक मजबूती से प्रतिक्रिया करते हैं। हालांकि यह कोई डिसऑर्डर या मेंटल हेल्थ से जुड़ी स्थिति नहीं है। बल्कि बच्चों के व्यक्तित्व का एक गुण होता है। ऐसे बच्चे किसी भी चीज को बहुत गहनता से महसूस करते हैं। अधिक सेंसिटिव होना कोई समस्या नहीं है जिसे सुलझाया न जा सके। यह एक व्यवहार है जिसमें आपके बच्चे को अधिक प्रेम और अटेंशन की आवश्यकता होती है। हो सकता है आपका बच्चा भी अधिक संवेदनशील हो। लेकिन आप ऐसा महसूस न कर पा रहे हों। ऐसे में जानिए उन लक्षणों के विषय में।

इसे भी पढ़ें- बड़े लोगों को बच्चों के जीवन से जरूर सीखनी चाहिए 6 बातें, जीवन में आएंगी बड़े काम

1. उन्हें बदलाव में कठिनाई महसूस होती है (They Find It Difficult To Change)

sensitive child

अगर आपके बच्चे को अपने रूटीन में या किसी भी चीज में बदलाव देखने को मिलता है, तो वह उस नए रूटीन में ढलने में बहुत कठिनाई महसूस करते हैं। अगर आप किसी तय की गई चीज या प्लान को कैंसल कर देते हैं तब भी वह बहुत अधिक दुखी या निराश हो जाते हैं। आप उनके इस स्ट्रांग इमोशन को साफ साफ देख और पहचान सकते हैं। अगर आप उनका कमरा किसी और तरह से व्यवस्थित कर देते हैं या कुछ फैला कर रख देते है तो इस बात से भी वह काफी चिढ़ जाते हैं।

2. दूसरों का दिमाग पढ़ना आना (Art Of Reading)

संवेदनशील बच्चे छोटे-छोटे बदलावों से परेशान तो हो जाते हैं। लेकिन यह दूसरों के भीतर क्या चल रहा है इस बात का पता चुटकियों में लगा लेते हैं। ऐसे बच्चे अपने माता पिता या परिवार के सदस्यों के दिमाग को किताब की तरह पढ़ लेते हैं। जो बात दूसरे व्यक्ति बोल कर व्यक्त नहीं कर पाते हैं। उन बातों को यह बच्चे बहुत तेजी और तीव्रता से पकड़ते हैं। उन्हें दूसरों की भावना भी अपने जैसी ही लगती है इसलिए वह दूसरों की स्थिति को पहचानने में और उनसे सहानुभूति जताने में बहुत तेज होते हैं। आम तौर पर ऐसा व्यवहार जवान बच्चों में ही देखने को अधिक मिलता है।

इसे भी पढ़ें- बच्चों को ऐसे सिखाएं पॉजिटिव सेल्फ टॉक, बढ़ेगा आत्मविश्वास और आएगी सही निर्णय लेने की समझदारी

3. आसानी से चिड़चिड़े हो जाते हैं (Gets Irritated Easily)

हो सकता है जो बातें दूसरे बच्चों को पसंद आए वह बातें संवेदनशील बच्चों को बिल्कुल भी पसंद न आएं। ऐसे बच्चे अकसर चिड़चिड़ापन महसूस कर सकते हैं। संवेदनशील बच्चे अधिक तेज आवाज या पार्टी म्यूजिक को सहन नहीं कर पाते हैं। उन्हें अगर आप साधारण से हट कर किसी अलग स्वाद का खाना देते हैं तो वह इस बात से भी नाराज हो सकते हैं। अधिक भीड़ भरे इलाके में जाना ऐसे बच्चे बिल्कुल भी पसंद नहीं करते हैं।

तो इन संकेतों से आप पता लगा सकते हैं कि आपका बच्चा अधिक संवेदनशील है या नहीं। आप एक माता पिता के रूप में उन्हें सकारात्मक रखने की कोशिश करें। उन्हें शांत रखने के गुण सिखाने की कोशिश करें।  उन्हें एक रुपरेखा प्रदान करें। ताकि वह अधिक चिड़चिड़े न हों।

(Image source:Freepik,Pixabay)

Read more on Tips For Parent in Hindi

Disclaimer