Doctor Verified

चेचक (छोटी माता) निकलने पर क्या नहीं नहाना चाहिए? जानें डॉक्‍टर की राय

चेचक होने पर शरीर में छोटे दाने हो जाते हैं। इस दौरान व्‍यक्‍त‍ि को नहाना चाह‍िए या नहीं? जानते हैं डॉक्‍टर की राय

Yashaswi Mathur
Written by: Yashaswi MathurUpdated at: Oct 21, 2022 10:39 IST
चेचक (छोटी माता) निकलने पर क्या नहीं नहाना चाहिए? जानें डॉक्‍टर की राय

चेचक या च‍िकनपॉक्‍स (chicken pox in hindi) एक संक्रामक रोग है। ये एक से दूसरे शरीर में फैल सकता है। चेचक, हफ्ते या 2 हफ्तों के बीच कम होने लगता है। लेक‍िन सावधानी न बरतने पर ये संक्रमण दूसरे या तीसरे हफ्ते में बढ़ सकता है। संक्रमण बढ़ने का बुरा असर, द‍िमाग और ल‍िवर को नुकसान पहुंचा सकता है। चेचक होने पर शरीर में दाने उभर आते हैं। इन दानों में दर्द, खुजली और जलन की समस्‍या होती है। चेचक होने पर बुखार के लक्षण भी नजर आ सकते हैं। इस दौरान व्‍यक्‍त‍ि के ल‍िए नहाना मुश्‍क‍िल हो सकता है। इस लेख में हम जानेंगे क‍ि क्‍या चेचक के दौरान नहाना चाह‍िए या नहीं? इस व‍िषय पर बेहतर जानकारी के ल‍िए हमने लखनऊ के केयर इंस्‍टिट्यूट ऑफ लाइफ साइंसेज की एमडी फ‍िजिश‍ियन डॉ सीमा यादव से बात की।

chicken pox

क्‍या चेचक के दौरान नहाना चाह‍िए?

चेचक होने पर शुरुआत के समय में नहाने की सलाह नहीं दी जाती। चेचक होने के पहले द‍िन से पांचवे या छठे द‍िन तक संक्रमण फैलने या फोड़ों के फूटने का खतरा ज्‍यादा होता है। ऐसे में आपको फोड़ों के सूखने का इंतजार करना चाह‍िए। लेक‍िन ऐसा कोई न‍ियम नहीं है क‍ि आप इस दौरान स्‍नान नहीं ले सकते। अगर आप नहाएंगे, तो साबुन त्‍वचा को नुकसान पहुंचा सकते हैं। साबुन के कारण चेचक का संक्रमण फैल सकता है। साबुन में मौजूद केम‍िकल्‍स, चेचक संक्रमण को बढ़ा सकते हैं। साबुन के संपर्क में आने से चेचक के दौरान खुजली और लाल‍िमा बढ़ सकती है। साबुन के संपर्क में आने से आपको चेचक के दौरान जलन की समस्‍या भी हो सकती है।  

इसे भी पढ़ें- प्रेगनेंसी में चिकनपॉक्स (चेचक) होने के कारण, लक्षण और बचाव

चेचक में शरीर को कैसे साफ करें?

चेचक के दौरान नहाना है, तो आप सादे पानी से नहाएं। गुनगुने पानी से भी कुछ लोगों को जलन हो सकती है इसल‍िए उससे बचें। आपको साबुन से नहाने से बचना चाह‍िए। इसके अलावा आप नीम की पत्‍त‍ियों के पानी से भी स्‍नान ले सकते हैं। नीम की पत्‍त‍ियों को पानी में उबाल लें और पानी का तापमान सामान्‍य होने पर उससे स्‍नान ले सकते हैं। चेचक के दौरान, नहाने के बाद त्‍वचा को रगड़ने से बचें। नहाने के बाद त्‍वचा को प्राकृत‍िक तरीके से सूखने दें। त्‍वचा को रगड़ने से त्‍वचा में संक्रमण फैल सकता है।

क्‍या चेचक के दौरान बाल धो सकते हैं?

चेचक के दौरान त्‍वचा और स्‍कैल्‍प में भी दाने या संक्रमण फैल जाता है इसल‍िए आपको रोजाना बाल धोने से बचना चाह‍िए। चेचक के दौरान हफ्ते में 2 से 3 बार बाल धुलने में कोई नुकसान नहीं है। चेचक के दौरान बालों को भी धो सकते हैं। स्‍कैल्‍प के ज‍िस ह‍िस्‍से में दाने ज्‍यादा हों, उस ह‍िस्‍से को गीले तौल‍िए से पोछें। दाने वाले ह‍िस्‍से में शैंपू लगाने से बचना चाह‍िए। कुछ लोगों को लगता है क‍ि अगर उन्‍हें एक बार चेचक या च‍िकनपॉक्‍स हो गया, तो दोबारा नहीं हो सकता। लेक‍िन ऐसा नहीं है। आपको सावधानी बरतनी चाह‍िए। ये संक्रमण लौटकर भी आ सकता है।    

क्‍या चेचक में नहाना चाह‍िए? चेचक होने पर शरीर को साफ रखना जरूरी होता है। इस दौरान शरीर में संक्रमण को रोकने के ल‍िए आपको रोजाना कपड़े बदलने चाह‍िए और शरीर को साफ रखने के ल‍िए स्‍पंज या सादे पानी का इस्‍तेमाल कर सकते हैं। 

Disclaimer