जानें चंदन के तेल (Sandalwood Oil) के 7 फायदे और 3 नुकसान

चंदन का तेल सेहत के लिए जितना उपयोगी है उतना नुकसानदेह भी है। एक्सपर्ट से जानते हैं चंदन के तेल के फायदे, उपयोग और नुकसान

Garima Garg
Written by: Garima GargPublished at: May 28, 2021
जानें चंदन के तेल (Sandalwood Oil) के 7 फायदे और 3 नुकसान

पुराने समय से चंदन का तेल कई समस्याओं को दूर करता आ रहा है। इसके अंदर पाए जाने वाले पोषक तत्व न केवल त्वचा की समस्या को दूर करते हैं बल्कि शरीर की कई समस्याओं से भी छुटकारा दिला सकता है। धार्मिक रूप से इस्तेमाल होने वाला चंदन आयुर्वेद में दवा के रूप में इस्तेमाल होता है। मन को ठंडक और दिमाग को शांति का अहसास दिलात है। आज का हमारा लेख इसी विषय पर है। आज हम आपको अपने इस लेख के माध्यम से बताएंगे कि चंदन का तेल सेहत के लिए कैसे फायदेमंद है। साथ ही इसके उपयोग और नुकसान के बारे में भी जानेंगे। इसके लिए हमने आयुर्वेद संजीवनी हर्बल क्लिनिक शकरपुर, लक्ष्मी नगर के आयुर्वेदाचार्य डॉ एम मुफिक (Ayurvedacharya Dr. M Mufik) से भी बात की है। पढ़ते हैं आगे...

चंदन के तेल का उपयोग

  • 1 - चंदन के तेल का सेवन सब्जी में डालकर कर सकते हैं।
  • 2 - चंदन के तेल को सूंघने से सांस संबंधित कई समस्या दूर हो सकती हैं।
  • 3 - चंदन के तेल का प्रयोग नारियल के तेल के साथ कर सकते हैं।
  • 4 - चंदन के तेल का इस्तेमाल नहाने के पानी में डालकर कर सकते हैं।

चंदन के तेल के फायदे

1 - तनाव को दूर करे चंदन का तेल

चंदन के तेल के उपयोग से ना केवल तनाव दूर होता है बल्कि ये डिप्रेशन और चिंता को दूर करने में भी बेहद उपयोगी है। ऐसा इसलिए चंदन के तेल के अंदर α-Santalol रायायनिक कम्पाउंड पाया जाता है। ऐसे में आप चंदन के तेल की कुछ बूंदें डालें और उसे सूंघें। ऐसा करने से समस्या दूर सकती है। 

 इसे भी पढ़ें- लाल चंदन के इस्तेमाल से दूर होंगी स्किन की कई समस्याएं, चेहरे पर लगाएं ये 3 फेसपैक और पाएं खूबसूरत दमकता चेहरा

2 - ब्लड प्रेशर को संतुलित करे चंदन का तेल

जो लोग हाई ब्लड प्रेशर से परेशान रहते हैं वे अपनी समस्या को दूर करने के लिए चंदन के तेल का इस्तेमाल कर सकते हैं। चंदन के तेल की खुशबू से हार्मोंस सक्रिय होते हैं, जिससे ब्लड सर्कुलेशन बेहतर होता है। ब्लड सर्कुलेशन बेहतर होने से हार्ट रेट अच्छी होती है। इसलिए हम कह सकते हैं कि चंदन का तेल ब्लड प्रेशर को संतुलित करने में फायदेमंद साबित हो सकता है।

3 - सूजन की समस्या होती है दूर

चंदन के तेल के अंदर एंटी इन्फ्लेमेटरी गुण पाए जाते हैं जो न केवल सूजन को कम करते हैं बल्कि सूजन के कारण त्वचा पर हुई लालिमा से भी राहत पहुंचाते हैं। ऐसे में शरीर के किसी भी हिस्से में सूजन आई हो तो उसे दूर करने के लिए चंदन के तेल का उपयोग कर सकते हैं।

इसे भी पढ़ें- तनाव, अवसाद के साथ त्‍वचा रोगों से भी निजात दिलाते हैं ये 5 आयुर्वेदिक तेल, जानें क्‍या हैं ये

4 - नींद की समस्या होती है दूर

खराब जीवनशैली और गलत आहार के कारण लोग अक्सर नींद ना आने की समस्या से जूझते रहते हैं। ऐसे में इस समस्या को दूर करने में चंदन का तेल बेहद उपयोगी है। अगर चंदन के तेल से मसाज की जाए तो अनिद्रा की समस्या दूर हो जाती है। चंदन का तेल केंद्रीय तंत्रिका तंत्र में उत्पन्न तनाव को दूर करता है।

5 - याददाश्त में आए सुधार

कमजोर याददाश्त को तेज करने के लिए भी चंदन का तेल बेहद उपयोगी है। जैसा कि हमने पहले भी बताया था कि आपको ये दिमाग को ठंडर पहुंचाता है। ऐर तनाव म डिप्रेशन की समस्या की दूर करता है। अगर चंदन के तेल से मसाज की जाए या इसका सेवन किया जाए तो यह याद्दाश को बढ़ाने में मददगार है। लेकिन अभी इस पर और शोध होने बाकी हैं।

6 - त्वचा के लिए चंदन का तेल

चंदन के तेल के अंदर Sesquiterpene Alcohols पाया जाता है जो ना केवल चेहरे पर चमक लाता है बल्कि कोशिकाओं को ऑक्सीजन देने का काम करता है। इसके अलावा चंदन के तेल के उपयोग से मुहांसों की समस्या भी दूर हो जाती है। वहीं ये चेहरे के दाग धब्बों को भी दूर करता है। ऐसे में हम कह सकते हैं कि चंदन का तेल चेहरे की समस्याओं को दूर करने में बेहद उपयोगी हैं। 

इसे भी पढ़ें- घर बैठे रूप निखारे चंदन से बने फेसपैक

7 - बालों को बढ़ाए चंदन का तेल

कभी-कभी जड़ों में डेड स्किन जमा हो जाती है, जिसके कारण बालों का विकास रुक जाता है। और बात टूटने शुरू कर दते हैं। इसके कारण व्यक्ति के सर से बाल 100 से ज्यादा मात्रा में गिरने शुरू हो जाते हैं और व्यक्ति गंजा होने लगता है। बता दे चंदन का तेल उस डेड स्किन को निकालने में मदद करता है। ऐसे में जब डेड स्किन निकल जाएगी तो बालों का झड़ना बंद हो जाएगा और बालों का विकास होने लगेगा।

चंदन के तेल के नुकसान

चंदन के तेल के फायदे के साथ-साथ कुछ नुकसान भी देखे गए हैं जो इस प्रकार हैं-

1 - गर्भवती महिलाएं या स्तनपान कराने वाली महिलाएं चंदन के तेल का उपयोग डॉक्टर की सलाह पर ही करें।

2 - व्यंजनों में सीमित मात्रा में चंदन के तेल का इस्तेमाल करें। इसकी अधिकता पेट दिल आदि के नुकसानदेह साबित हो सकती है। 

3 - जैसा कि हमने ऊपर भी बताया कि चंदन के अंदर α-Santalol पाया जाता है जो एक रासायनिक तत्व है। ऐसे में उसके अधिकता से त्वचा की खुजली और जलन दोनों समस्याएं बढ़ सकती हैं।

नोट - ऊपर बताए गए बिंदुओं से पता चलता है कि चंदन का तेल सेहत के लिए बेहद उपयोगी है। लेकिन इसके अधिकता काफी समस्याओं को पैदा कर सकती है। ऐसे में अगर चंदन का उपयोग नारियल के तेल के साथ करना चाहिए। साथ ही इस्तेमाल करने से पहले डॉक्टर की सलाह लें। स्तनपान कराने वाली महिलाएं या गर्भवती महिलाएं अपनी डाइट में चंदन के तेल को जोड़ने से पहले एक बार डॉक्टर की सलाह जरूर लें। यदि कोई व्यक्ति स्पेशल डाइट फॉलो कर रहा है या किसी गंभीर बीमारी से ग्रस्त है तो वह अपनी डाइट में चंदन के तेल को जोड़ने से पहले डॉक्टर की सलाह जरूर लें।

ये लेख आयुर्वेद संजीवनी हर्बल क्लिनिक शकरपुर, लक्ष्मी नगर के आयुर्वेदाचार्य डॉ एम मुफिक (Ayurvedacharya Dr. M Mufik) से भी बातचीत पर आधारित है।

Read More Articles on Home remedies in Hindi

Disclaimer