कंबाला रेस: अपनी बॉडी को लेकर क्‍यों चर्चा में हैं श्रीनिवास गौड़ा और निशांत, जानें फिट रहने का पारंपरिक तरीका

28-वर्षीय रेसर को भारतीय खेल प्राधिकरण द्वारा परीक्षणों के लिए संपर्क किया गया है, लेकिन उन्होंने इस प्रस्ताव को लेने से मना कर दिया है।

Pallavi Kumari
Written by: Pallavi KumariPublished at: Feb 19, 2020Updated at: Feb 19, 2020
कंबाला रेस: अपनी बॉडी को लेकर क्‍यों चर्चा में हैं श्रीनिवास गौड़ा और निशांत, जानें फिट रहने का पारंपरिक तरीका

कंबाला रेस, कर्नाटक में खेला जाने वाला एक प्रमुख स्थानीय खेल है। इसमें भैंसो की दौड़ होती है। खेल में दो भैंसो को बांधा जाता है और उन्हें एक खिलाड़ी हांकता है। यह खेल यहां हर साल खेला जाता है। हर साल की ही तरह अबकी भी खिलाड़ियों ने अपनी भैंसो के साथ हिस्सा लिया। वहीं ये कंबाला रेस बड़ी तेजी से तब वायरल हुआ, जब एक कंबाला खिलाड़ी श्रीनिवास गौड़ा ने 100 मीटर की दूरी महज 9.55 सेकंड में पूरा करके एक रिकॉर्ड बना दिया। अब यह रिकॉर्ड निशांत शेट्टी ने तोड़ा दिया है। निशांत ने 9.51 सेकंड में 100 मीटर दौड़कर श्रीनिवास का रिकॉर्ड तोड़ा है।

Inside_nishantandshrinivas

गौड़ा के कंबाला दौड़ का वीडियो वायरल होने के बाद उनकी तुलना विश्व रिकॉर्ड धावक जमैका के उसैन बोल्ट से होने लगी थी और इसके बाद खेल मंत्री किरेन रिजिजू ने साई (भारतीय खेल संघ) को उनका ट्रायल लेने के लिए बोला था। हालांकि सोमवार को गौड़ा ने ट्रायल देने से मना कर दिया था और अपने स्थानीय खेल पर ही ध्यान लगाने की बात कही है। वहीं गौड़ा को कर्नाटक के मुख्यमंत्री बीएस येदियुरप्पा ने सम्मानित किया था और उनके प्रदर्शन के लिए तीन लाख रुपये की राशि भी दी थी।

इसे भी पढ़ें : घर बैठे अपने पैरों की स्पीड बढ़ाने के लिए कीजिए ये 5 एक्सरसाइज, स्टेमिना और रफ्तार दोनों हो जाएंगी डबल

उसैन बोल्ट के वर्ल्ड रिकॉर्ड से तुलना

कंबाला खिलाड़ी श्रीनिवास गौड़ा ने 100 मीटर की दूरी महज 9.55 सेकंड में पूरा करके एक रिकॉर्ड बना दिया था, जिसकी तुलना जमैका के धावक उसैन बोल्ट से हो रही थी क्योंकि 100 मीटर रेस को 9.58 सेकेंड में पूरा करने का वर्ल्ड रिकॉर्ड उन्हीं के नाम है। वहीं गौड़ा ने इसके लिए 9.55, तो अब निशांत शेट्टी ने इसके लिए मात्र 9.51 सेकंड का समय लिया है। खिलाड़ी श्रीनिवास गौड़ा ने कर्नाटक मुख्यमंत्री बीएस येदियुरप्पा से सम्मानित होने पर कहा कि "मैं बहुत खुश हूं। मुख्यमंत्री ने मुझे उनसे मिलने के लिए बुलाया है। मैं कंबाला के लिए इस मान्यता से बहुत खुश हूं। जब मैं छोटा था, मैंने कीचड़ में दौड़ने के लिए प्रशिक्षण लिया है। अगर भैंस तेजी से दौड़ती, तो मैं भी उतनी तेजी से दौड़ सकता हूं।" मुख्य भूमिका भैंस की है, जो हम साथ-साथ चलते हैं। तेजी से चलाने के लिए, भैंस को भी प्रशिक्षित करने की आवश्यकता होती है।"

खिलाड़ी श्रीनिवास गौड़ा ने बताया अपने इस रीकॉर्ड का राज

गौड़ा रेस में अपनी स्पीड के बारे में चर्चा करते हुए कहते हैं, कि उनके प्रभावशाली काया और कंबाला की परंपरा के बारे में बहुत कुछ कहा जाता है, पर ये ये उनके बचपन से की जाने वाली महनत का नतीजा है। वहीं उद्योगपति आनंद महिंद्रा ने ट्वीट कर कहा, "उनके शरीर पर सिर्फ एक नजर डालें, तो आप समझ पाएंगे ये आदमी असाधारण एथलेटिक कारनामों को करने में सक्षम है।" वहीं अब इस बात से हमें ये भी प्रेणना मिलती है कि जिम जाकर, एक्सरसाइज करके या योग करके ही अपने आप फिट नहीं रखा जा सकता बल्कि फिट रहने के कई और तरीके भी हैं।

Inside_malkhanbh

इसे भी पढ़ें : Fat To Fit: 128 kg के मोहनीश ने 7 महीने में इन दो डाइट प्लान को साथ मिलाकर कम किया 33 kg वजन, जानें रूटीन

पारंपरिक भारतीय खेल भी बन सकते हैं आपका फिटनेस सीक्रेट

कबड्डी - यह भारत में सबसे अधिक पसंद किए जाने वाले क्लासिक खेलों में से एक है। कबड्डी खेलने से स्टेमिना बढ़ती हैष साथ ही सहनशक्ति और तेज रिफ्लेक्स एक्सरसाइज भी हो जाती है। 

खो खो - ये देश के अधिकांश हिस्सों में लोगों द्वारा बहुत पसंद किया जाता है। यह भारत में बच्चों के बीच बहुत लोकप्रिय है। इसके लिए गति, शक्ति और तेज सजगता की आवश्यकता होती है।

मल्लखंब - यह एक ऐसा खेल है, जहां एक जिमनास्ट खंभे पर चलते हैं। इस खेल के लिए बहुत लचीले और फुर्तीले शरीर की आवश्यकता होती है। यह खेल राष्ट्रीय स्तर पर खेला जाता है और इसे पोल जिम्नास्टिक का भारतीय रूप माना जाता है। ये कई वर्षों तक स्ट्रेचिंग और लचीलेपन के अभ्यास की आवश्यकता होती है। इस तरह इन खेलों को भी खेल कर आप अपने फिटनेस मेंटेन रख सकते हैं।

Read more articles on Exercise-Fitness in Hindi

Disclaimer