पुरुषों के निप्पल में उभार आने (Puffy Nipples) के कारण और इलाज

पुरुषों की छाती में उभार शर्मिंदगी का कारण बन सकता है। चलिए जानते हैं इस समस्या का कारण और इलाज

Kishori Mishra
Written by: Kishori MishraPublished at: Jun 03, 2021
पुरुषों के निप्पल में उभार आने (Puffy Nipples) के कारण और इलाज

पफ्पी निप्पल (Puffy Nipples) यानि स्तन में उभार की वजह से क्या आपको अपनी शर्ट उतारते समय शर्मिंदगी महसूस हो रही है? क्या आप लोगों के सामने आप बिना शर्ट और टी-शर्ट के नहीं जा सकते हैं? अगर हां, तो इस पर आपको विचार करने की जरूरत है। आपको सोचने की जरूरत है कि किन वजहों से आपका ब्रेस्ट पार्ट सूज रहा है? क्योंकि यह किसी गंभीर बीमारी का भी संकेत हो सकता है। नोएडा स्थित निराम्या द माइंड सेंटर के सेक्सोलॉजिस्ट डॉक्टर संजीव कुमार  पुरुषों के इस समस्या का प्रमुख जिम्मेवार जिनाकोमास्टिया (Gynacomastia) है। यह समस्या किसी भी उम्र के पुरुषों को हो सकती है। कभी-कभी बच्चों में भी यह परेशानी देखी गई है। अगर इस समस्या का समय पर इलाज करा लिया जाए, तो इससे कोई गंभीर स्थिति पैदा नहीं होती है। पुरुषों में यह स्थिति grandular or breast tissue के विकास की वजह से उत्पन्न होता है। यह समस्या टेस्टोस्टेरोन या एस्ट्रोजन हार्मोन (testosterone or estrogen hormones) के असंतुलन होने की वजह से हो सकता है। यह आपको दोनों या फिर एक स्तनों (breasts) को प्रभावित करता है। जिनाकोमास्टिया (Gynacomastia) के अलावा कई अन्य कारणों से भी पुरुषों के निप्पल में उभार देखा गया है। चलिए जानते हैं उन कारणों के बारे में और किस तरह इस समस्या से पाया जा सकता है छुटकारा?

हार्मोन असमानता (Hormone disparity)

टेस्टोस्टेरोन और एस्ट्रोजन (Testosterone and estrogen) हमारे शरीर में सेक्स हार्मोन हैं। अगर किसी कारण से इन दोनों हार्मोंस में असमानता हो जाए, तो व्यक्ति की छाती पर उभार हो सकता है। पुरुषों में टेस्टोस्टेरोन का उच्च स्तर एस्ट्रोजन हार्मोंन को शील्ड करता है, जिससे छाती में उभार होने से बचाव किया जा सके। दरअसल, पुरुषों में एस्ट्रोजन का स्तर बढ़ने से एरोला (areola) का क्षेत्र प्रेरित होता है। इसलिए शरीर में एस्ट्रोजन हार्मोंन को संतुलित करना बेहद जरूरी है। हार्मोंस में किसी तरह के बदलाव की वजह से पुरुषों की छाती में उभार हो सकता है।

शरीर में अधिक वसा होना (Obesity)

मोटापे से ग्रसित पुरुषों का ब्रेस्ट उभर सकता है। अधिक वसा पुरुषों में एस्ट्रोजन हार्मोंस की मात्रा को बढ़ाता है, जिससे एरोला ऊतक प्रेरित होता है। इससे आपकी छाती के चारों ओर फैट एकत्रित होने लगता है। इस वजह से अधिक वजन वाले पुरुषों में ब्रेस्ट होता है।

इसे भी पढ़ें - टाइट जींस पहनने से पुरुषों को हो सकते हैं ये 4 नुकसान

हाइपरथायराइडिज्म (Hyperthyroidism) 

हाइपरथायराइडिज्म से ग्रसित पुरुषों में भी यह समस्या देखी गई है। दरअसल, हाइपरथायराइडिज्म शरीर में हार्मोंन को असंतुलित करता है, जिसकी वजह से ब्रेस्ट के आसपास उभार दिखने लगता है। अगर आप हाइपरथायराइडिज्म से ग्रसित हैं, तो अपने डॉक्टर से जरूरी सलाह लेते रहें। ताकि इस समस्या से बचा जा सके।

स्तन कैंसर

स्तन कैंसर से ग्रसित पुरुषों में भी यह समस्या देखी गई है। पुरुषों को स्तर कैंसर होने पर उनके निप्पल के आसपास सूजन, गांठ और डिस्चार्ज जैसी समस्या हो सकती है। इसके अलावा कई अन्य कारण हैं। जैसे- 

  • लिवर डिजीज (Liver disease)
  • शराक का अधिक सेवन (Alcohol abuse)
  • किडनी डिजीज (Kidney disease)
  • टेस्टिस में किसी तरह की समस्या (Diseases of the testes) इत्यादि। 

कैसे किया जाता है स्तन में उभार का इलाज? 

डॉक्टर बताते हैं कि पुरुष के ब्रेस्ट में उभार (male breasts) को कम करने के लिए सर्जरी का सहारा लिया जाता है। सर्जरी की जरिए शरीर में मैमोप्लास्टी (mammoplasty) को कम किया जाता है। इससे ब्रेस्ट को चपटा करने की कोशिश की जाती है। इसके अलावा सर्जरी में  एरोला (areola) का स्थान और आकार भी संयोजित करने की कोशिश की जाती है। अगर स्तन ऊतक (breast tissues) बहुत भारी हैं, तो सर्जरी के जरिए एरोला (areola) को कम करने की कोशिश की जाती है। अगर ऐसा न किया गया, तो मरीज को आगे परेशानी का सामना करना पड़ सकता है। 

इसके अलावा अगर पुरुषों में अधिक वसा की वजह से ब्रेस्ट उभरा हुआ दिखता है, तो लिपोसक्शन (liposuction) किया जाता है। इस प्रक्रिया में शरीर से अतिरिक्त वसा को हटाने के लिए संकीर्ण कैनुला का इस्तेमाल किया जाता है। इस तकनीकी के बाद एक्साइज तकनीक (Excision technique) का इस्तेमाल किया जाता है, ताकि अतिरिक्त त्वचा और भव्य ऊतकों (grandular tissues) को हटाया सके। 

सर्जरी के अलावा कुछ दवाओं के जरिए भी पुरुषों के ब्रेस्ट को कम करने की कोशिश की जाती है। इसमें मरीज को टेस्टोस्टेरोन प्रतिस्थापन की दवाएं (Testosterone replacement medications) दी जाती है, ताकि पुरुष स्तनों (male breasts) को कम  किया जा सके। इसके अलावा कई अन्य दवाओं का सहारा लिया जाता है। 

इसे भी पढ़ें - इन 5 बीमारियों का शिकार महिलाओं से ज्यादा होते हैं पुरुष

अन्य तरीकों से कैसे करें इसका इलाज

वजन को कंट्रोल

अगर आपको यह समस्या शरीर में अतिरिक्त फैट की वजह से हो रही है, तो नियमित रूप से एक्सरसाइज करके आप ब्रेस्ट में उभार को ठीक कर सकते हैं। इसके लिए आपको किसी तरह की दवाई या फिर सर्जरी की जरूरत नहीं पड़ेगी। 

खानपान पर दें ध्यान

संतुलित खानपान से आप अपने शरीर में टेस्टोस्टेरोन (testosterone) के स्तर को बढ़ा सकते हैं। हमारे आसपास कई प्राकृतिक एंटी-ऑक्सीडेंट (natural anti-oxidant)  मौजूद हैं, तो शरीर में होने वाले हार्मोंन असंतुलन को संतुलित करता है। डॉक्टर की सलाह पर आप अपने आहार में ऐसी चीजों को शामिल करें, जिससे टेस्टोस्टेरोन हार्मोन को बढ़ाया जा सकें। साथ ही आप अपने वजन को कंट्रोल रख सकें।

सप्लीमेंट्स लें

शरीर में  टेस्टोस्टेरोन (testosterone) हार्मोन का स्तर बढ़ाने के लिए सप्लीमेंट्स लें। इससे आपकी समस्या काफी हद तक खुद-ब-खुद ठीक हो सकती है। आयुर्वेद में कई ऐसी औषधि है, जिसके इस्तेमाल से आप टेस्टोस्टेरोन हार्मोन के स्तर को बढ़ा सकते हैं। साल 2010 में हुई स्टटी के मुताबिक, अश्वगंधा के सेवन से पुरुषों के टेस्टोस्टेरोन (testosterone) हार्मोन में सुधार किया जा सकता है। 

इसके अलावा साल 2015 में हुई एक स्टडी के अनुसार, अश्वगंधा से आप पफ्फी निप्पल की परेशानी से निजात पा सकते हैं। इससे आपकी समस्या से राहत दिलाने में आपको पॉजिटिव रिस्पॉन्स मिल सकता है।

इसे भी पढ़ें - स्पर्म की कमी (एजुस्पर्मिया) बन सकती है पुरुषों में इंफर्टिलिटी का कारण, डॉक्टर से जानें इसका इलाज

एक्सरसाइज है जरूरी

शरीर को वजन को कंट्रोल में रखने के लिए नियमित रूप से एक्सरसाइज जरूरी है। अगर आप नियमित रूप से एक्सरसाइज करने हैं, तो इस समस्या से काफी हद तक बचा जा सकता है।

पुरुषों की छाती में उभार आना कोई आम परेशानी नहीं है। इसलिए इस तरह के लक्षण दिखने पर तुरंत डॉक्टरी सलाह लें। क्योंकि यह परेशानी कई गंभीर कारणों की वजह से आपको हो सकता है। साथ ही अपना वजन कंट्रोल रखने की कोशिश करें। शराब और धूम्रपान से दूर रहें, ताकि आपका हार्मोन संतुलित रह सके।

Read more on Men's Health in Hindi

Disclaimer