Doctor Verified

पिज्जा-बर्गर जैसे जंक फूड्स खराब करते हैं बच्चों के दांत, डॉक्टर से जानें बच्चों के लिए ओरल हेल्थ टिप्स

आज कल बच्चों का खाना-पीना बिल्कुल अलग हो गया है। ऐसे में उनकी ओरल हेल्थ का ध्यान रखना एक टास्क से बराबर है। 

सम्‍पादकीय विभाग
बच्‍चे का स्‍वास्‍थ्‍यWritten by: सम्‍पादकीय विभागPublished at: Jun 07, 2022Updated at: Jun 07, 2022
पिज्जा-बर्गर जैसे जंक फूड्स खराब करते हैं बच्चों के दांत, डॉक्टर से जानें बच्चों के लिए ओरल हेल्थ टिप्स

सुबह का ब्रेकफास्ट हो या फिर लंच की बात आजकल के बच्चे खाने में बहुत आना कानी करते हैं। बच्चा चाहे छोटा हो या बड़ा उसे हेल्दी खाना खिलाना किसी टास्क से कम नहीं है। लेकिन पिज्जा, बर्गर, पेस्ट्री, केक और नूडल्स जैसी चीजें बच्चों को बहुत पसंद आती है। पेट भरा होने के बाद भी बच्चे इसे आराम से खा लेते हैं। आप स्नैक्स की पूरी प्लेट भी अगर बच्चों के सामने रख देंगे तो शायद वो कम पड़ जाएगी। ये जंक फूड जितना बच्चों की हेल्थ के लिए नुकसानदायक हैं उतना ही उनकी ओरल हेल्थ के लिए भी हैं। बच्चे अगर रोजाना जंक फूड का सेवन कर रहे हैं तो दांतों में पीलापन और मसूड़ों में सूजन जैसी प्रॉब्लम हो सकती है।

इसके साथ कई बार ज्यादा आइसक्रीम, कोल्ड ड्रिंक पीने से भी बच्चों की ओरल हेल्थ पर असर पड़ता है। इससे दांतों में दर्ज, तेज झनझनाहट महसूस होने जैसी कई परेशानियां होती हैं। हालांकि ज्यादातर पैरेंट्स इस बात को समझ नहीं पाते हैं कि आखिरकार वो कैसे बच्चों की ओरल केयर करें। इसलिए हमने इस बारे में एक्सपर्ट से बात की और जाना की अगर स्नैक्स ओरल हेल्थ को नुकसान पहुंचाते हैं तो हम उसे कैसे ठीक करें।

इसे भी पढ़ेंः बच्चों के दांतों और मसूड़ों को खराब कर देते हैं ये 5 फूड्स, खानपान में बरतें सावधानी

oral health

खराब होने के बाद ठीक हो सकते हैं दांत? (Can teeth recover after getting damaged?)

गुरुग्राम स्थित अल्फा डेंटल क्लीनिक में प्रैक्टिस कर रहीं डेंटल सर्जन डॉ. खुशबू मुद्गल का कहना है कि तथ्य यह है कि एक बार हमारे दांत खराब हो जाने के बाद, कोई भी दवा उन्हें उनकी प्राकृतिक स्वस्थ स्थिति में वापस नहीं ला सकती है। अगर आपका बच्चा पिज्जा, बर्गर, चिप्स, कुरकुरे या अन्य जंक फूड का सेवन कर रहा है तो यह दूध के दांतों में सड़न और मसूड़ों की समस्या का कारण बन सकती है। अगर बच्चे के दूध के दांत खराब होते हैं तो इससे भविष्य में बनने वाले दांतों पर भी असर पड़ सकता है। डॉक्टर खुशबू मुद्गल का कहना है कि एक बार दांतों पर प्लैक और टार्टर जमने के बाद इसे हटाना बहुत मुश्किल होता है।

इसे भी पढ़ेंः दांत में दर्द के हो सकते हैं ये 5 कारण, जानें इससे छुटकारा पाने के उपाय

कैसे रखें ओरल हेल्थ का ध्यान (How to take care of oral health)

  • बच्चों की ओरल हेल्थ का ध्यान रखने के लिए सबसे ज्यादा जरूरी है कि उन्हें ब्रश करने की आदत डलवाएं।
  • बच्चों को सुबह उठते ही ब्रश करवाएं और माउथवॉश से मुंह तो अच्छे से क्लीन करने के लिए कहें।
  • दांतों को ब्रश करने के लिए फ्लोराइड वाला टूथपेस्ट ही दें। फ्लोराइड एक ऐसा केमिकल है जो दांतों को सड़न और कैविटी से बचाने में मददगार साबित हो सकता है।
  • दांतों के बीच बचे हुए खाने के टुकड़ों को साफ करने के लिए फ्लॉस का इस्तेमाल करने की सलाह दें।
  • नियमित तौर पर बच्चों को डेंटिस्ट के पास लेकर जाएं। इससे दांतों पर प्लैक और टार्टर जमा होने से बचाव किया जा सकता है।
  • खाना खाने या कुछ भी खाने के बाद बच्चों में कुल्ला करने की आदत डालें। ऐसा करने से कैविटी की समस्या नहीं होगी।
  • बच्चों की ओरल हेल्थ हमेशा अच्छी बने रहे इसके लिए पर्याप्त मात्रा में उन्हें पानी पीने की आदत डालें।
  • डॉक्टर के मुताबिक बीच-बीच में पानी पीने से मुंह में बन रहे नेगेटिव इफेक्ट पर असर पड़ता है और ये दांतों को सड़न से बचाने में मदद करते हैं।

 

 

Disclaimer