मुंह के कैंसर (Oral Cancer) से जुड़े 12 पॉपुलर मिथक और उनकी सच्चाई बता रहे हैं एक्सपर्ट

ओरल कैंसर या मुहं के कैंसर से जुड़े कुछ मिथक और तथ्य हैं जिनके बारे में जान लेने से इससे बचाव में लाभ मिलता है।

Prins Bahadur Singh
Written by: Prins Bahadur SinghPublished at: Jun 07, 2021
मुंह के कैंसर (Oral Cancer) से जुड़े 12 पॉपुलर मिथक और उनकी सच्चाई बता रहे हैं एक्सपर्ट

मुहं का कैंसर यानि कि ओरल कैंसर (Oral Cancer) एक घातक बीमारी है जिसकी वजह से लाखों लोग प्रभावित हैं। एक अनुमान के मुताबिक पूरी दुनिया में हर घंटे लगभग एक व्यक्ति की ओरल कैंसर की वजह से मौत होती है। डब्ल्यूएचओ के द्वारा किए गए हालिया अध्ययन के मुताबिक दक्षिण एशिया में मुहं और गले के कैंसर से पीड़ित लोगों की संख्या लगातार बढ़ रही है। हमारे देश में भी मुहं और गले के कैंसर से ग्रसित लोगों की संख्या लगातार बढ़ती जा रही है। इस घातक बीमारी से बचने के लिए लोगों में जागरूकता की कमी भी देखी जाती है। ज्यादातर मामलों में मुहं या गले के कैंसर का कारण तंबाकू और शराब के सेवन की वजह से होते हैं। सरकार और स्वास्थ्य के क्षेत्र में काम करने वाली संस्थाएं भी समय-समय पर लोगों को इस बीमारी से बचने के लिए जागरूक करती रहती हैं लेकिन फिर भी इसकी चपेट में आने वाले लोगों की संख्या दिन ब दिन बढ़ती ही जा रही है। मुहं के कैंसर से जुड़े कुछ मिथक और तथ्य (Oral Cancer Myths Facts) हैं जिनके बारे में जान लेने से इससे बचने में आसानी होती है, आइए नोएडा स्थिति मेट्रो हॉस्पिटल के कैंसर विशेषज्ञ डॉ आर के चौधरी से जानते हैं इन मिथ और फैक्ट्स के बारे में।

ओरल कैंसर कैसे होता है? (Oral Cancer Causes)

oral-cancer

ओरल कैंसर या मुहं या गले के कैंसर की सबसे प्रमुख वजह तंबाकू का सेवन माना जाता है। एक्सपर्ट्स का मानना है कि तंबाकू का सेवन करने वाले लोगों में मुहं के कैंसर का खतरा बढ़ जाता है। इसके अलावा कुछ लोगों में ओरल कैंसर किसी पुराने घाव या छाले के अधिक दिन तक रहने की वजह से भी हो सकता है। मुहं के कैंसर के सबसे ज्यादा मरीज सिगरेट, सिगार और हुक्का आदि पीने वाले लोग होते हैं, इन लोगों में ओरल कैंसर होने का खतरा 60 फीसदी अधिक होता है। जो लोग तंबाकू का इस्तेमाल नहीं करते हैं उनमें तंबाकू का इस्तेमाल करने वाले लोगों की तुलना में कैंसर का खतरा कम होता है। इसके अलावा मुहं के कैंसर की समस्या ऐसे लोगों में भी होती है जिनके परिवार में पहले से ही किसी व्यक्ति को मुहं का कैंसर रहा हो। इसके अलावा ओरल कैंसर के ये कारण भी हो सकते हैं।

  • - अनियमित बुखार, थकान आदि।
  • - गले की गांठ।
  • - मुहं या गले आदि में छाले या घाव।
  • - जबड़े आदि में सूजन या खून का आना।
  • - दांतों में दिक्कत।

मुंह के कैंसर से जुड़े पॉपुलर मिथक और उनकी सच्चाई (Oral Cancer Myths Facts)

oral-cancer

1. मुहं के कैंसर की जांच केवल हाई रिस्क वाले मरीजों की होती है।

फैक्ट: मुहं के कैंसर की जांच किसी भी स्टेज में की जा सकती है, खासकर शुरुआत में इसकी जांच हो जाने से इलाज में आसानी होती है। शुरुआत में इसकी जांच स्क्रीनिंग के माध्यम से भी की जा सकती है। इसकी जांच करने के लिए चिकित्सक मुहं, जीभ, गले और मसूढ़ों आदि में कैंसर की जांच करता है।

इसे भी पढ़ें: ये 8 तरह के कैंसर हो सकते हैं अनुवांशिक (Genetic), डॉक्टर से जानें इनके लक्षण और बचाव के टिप्स

2. युवाओं को मुंह के कैंसर का खतरा कम होता है।

oral-cancer

फैक्ट: ओरल कैंसर से जुड़े सबसे प्रमुख मिथक में से एक है कि युवाओं में ओरल कैंसर का खतरा बेहद कम होता है। बहुत से लोगों का यह मानना है कि मुहं या गले का कैंसर बूढ़े या उम्रदराज लोगों को ज्यादा होता है। इसी सोच की वजह से युवावर्ग के लोग तंबाकू आदि का सेवन खूब तेजी से करते हैं। हालांकि इस बात में कोई सच्चाई नहीं है, मुहं के कैंसर में प्रमुख भूमिका एटियलॉजिकल एजेंट की होती है और यह किसी भी उम्र में हो सकती है।

इसे भी पढ़ें: अनुवांशिक ब्रेस्ट कैंसर से बचाव में कितना मददगार है जेनेटिक टेस्ट? जानें डॉक्टर से

3. परिवार में किसी को ओरल कैंसर है इसलिए मुझे भी इसका खतरा अधिक है।

फैक्ट: इस बात में दो राय नहीं है कि अगर आपके परिवार में किसी को भी ओरल कैंसर है तो इसकी वजह से आने वाली पीढ़ी में भी इसका विकास हो सकता है। मुहं का कैंसर ज्यादातर मामलों में आनुवंशिक नहीं होते हैं, ओरल कैंसर की वजह सबसे ज्यादा तंबाकू का सेवन होता है।

4. शराब पीने से ओरल कैंसर का खतरा नहीं होता है।

फैक्ट: लोगों के मन में यह भ्रम होता है कि शराब के सेवन से ओरल कैंसर का कोई संबंध नहीं है। लेकिन इसके विपरीत मुहं में मौजूद कॉमेन्सल बैक्टीरिया अल्कोहल को एल्डिहाइड में बदलने का काम करता है, इसलिए इसका नियमित रूप से सेवन करना खतरनाक माना जाता है।

इसे भी पढ़ें: लिप कैंसर (होठों का कैंसर) के कारण, लक्षण और बचाव

ओरल कैंसर से बचने के लिए तंबाकू के सेवन से दूरी जरूरी है। तंबाकू और शराब का सेवन वैसे भी सेहत के लिए हानिकारक होता है। हमें उम्मीद है इस लेख में दी गयी जानकारी आपको पसंद आयी होगी। अगर आपके पास ओरल कैंसर से जुड़े मुद्दे पर कोई सवाल है तो आप उसे कमेंट बॉक्स में लिखकर हम तक भेज सकते हैं। हम आपके सवाल का जवाब देने की कोशिश करेंगे।

Read More Articles on Cancer in Hindi

Disclaimer