Doctor Verified

छाती में कफ जमने से क्या होता है? जानें इससे होने वाले नुकसान और बचाव के टिप्स

Side Effects of Mucus in Chest: छाती में कफ जमने की समस्या कई कारणों से होती है, जानें इसकी वजह से होने वाले नुकसान और बचाव के टिप्स।

Prins Bahadur Singh
Written by: Prins Bahadur SinghUpdated at: Oct 31, 2022 12:31 IST
छाती में कफ जमने से क्या होता है? जानें इससे होने वाले नुकसान और बचाव के टिप्स

Side Effects of Mucus in Chest: सांस लेने में तकलीफ, सोते समय घरघराहट और खांसी जैसी समस्या का लगातार बने रहना सीने में कफ जमने का लक्षण हो सकता है। सर्दी-जुकाम और सांस लेने में परेशानी की समस्या को नजरअंदाज करने से आपको सीने या छाती में कफ जमने की समस्या हो सकती है। मेडिकल की भाषा में इसे चेस्ट कंजेशन (Chest Congestion in Hindi) कहा जाता है। सर्दी-खांसी, जुकाम या वायरल इन्फेक्शन की समस्या होने पर आपकी छाती में कफ बढ़ने लगता है। लंबे समय तक यह समस्या बनी रहे तो आपको निमोनिया, फेफड़ों में इन्फेक्शन और कई गंभीर समस्याओं का खतरा बना रहता है। आइए इस लेख में विस्तार से जानते हैं छाती में कफ जमने से क्या होता है? इस समस्या से बचने के क्या तरीके हैं?

छाती में कफ जमने से क्या होता है?- Side Effects of Mucus in Chest in Hindi

छाती में कफ जमने की समस्या में आपको सबसे पहले सांस लेने में परेशानी, छाती और गले में दर्द का सामना करना पड़ता है। इसके अलावा गले में घरघराहट, थकान, खांसते समय सीने में दर्द, बार-बार खांसी आना और सिरदर्द होना छाती में कफ जमने के लक्षण होते हैं। जिन लोगों में यह समस्या लंबे समय तक बनी रहती है उन्हें ब्रोंकाइटिस, निमोनिया और एलर्जी आदि की समस्या का खतरा बढ़ जाता है। कई बार बहुत ज्यादा ठंड वाली जगह पर रहने और बहुत ज्यादा ठंडा पानी पीने से भी आपको छाती में कफ की समस्या हो सकती है। 

Side Effects of Mucus in Chest

इसे भी पढ़ें: सीने में कफ जमा होने के क्या कारण हो सकते हैं? डॉक्टर से जानें इसके लक्षण और बचाव के उपाय

आमतौर पर ब्रोंकाइटिस, एलर्जी, निमोनिया, फंगल और वायरल इन्फेक्शन आदि के कारण छाती में कफ जमने का खतरा बना रहता है। इसके अलावा फेफड़ों में इन्फेक्शन, टीबी और सर्दी आदि की वजह से भी आपको छाती में कफ होने की समस्या का खतरा रहता है।  छाती में कफ जमा होने से आपके हृदय पर भी गंभीर असर पड़ता है और इसकी वजह से आपका हार्ट शरीर के अंगों में सही ढंग से खून पंप नहीं कर पाता है। आरोग्यं हेल्थ सेंटर के आयुर्वेदिक डॉ. एस के पांडेय के मुताबिक छाती में कफ जमने से आपको इन समस्याओं का खतरा बढ़ जाता है-

1. फेफड़ों में इन्फेक्शन और फेफड़ों से जुड़ी गंभीर बीमारियों का खतरा छाती में कफ जमने की वजह से बढ़ सकता है। अगर यह समस्या लंबे समय तक बनी रहे तो फेफड़े खराब भी हो सकते हैं। 

2. फेफड़ों में सूजन और लालिमा व जलन भी छाती में कफ जमने के कारण होता है। एक सप्ताह से ज्यादा समय तक इस समस्या के बने रहने से आपको फेफड़ों में सूजन की समस्या हो सकती है। 

3. छाती में लंबे समय तक कफ जमा रहने के कारण आपको कंजेस्टिव हार्ट फेलियर की समस्या हो सकती है। यह समस्या हार्ट में लिक्विड के जमा होने से सबसे ज्यादा होती है।

4. छाती या सीने में बहुत लंबे समय तक कफ जमा रहने के कारण आपको टीबी की समस्या भी हो सकती है। इसलिए सप्ताह भर से ज्यादा समय तक कफ जमा रहने पर आपको डॉक्टर की सलाह लेनी चाहिए।

5. छाती में लंबे समय तक कफ जमा रहने के कारण आपको सांस लेने से जुड़ी परेशानियां हो सकती हैं। इसकी वजह से आप अस्थमा जैसी गंभीर समस्या के शिकार भी हो सकते हैं।

छाती में कफ जमने पर क्या करें?- Mucus in Chest Prevention in Hindi

फेफड़े, सीनी या छाती में कफ जमने पर आपको सांस लेने में तकलीफ, खांसी और गले में दर्द जैसी समस्या हो सकती है। इस समस्या से छुटकारा पाने के लिए गर्म तरल पदार्थों का सेवन फायदेमंद माना जाता है। छाती में जमा कफ को बाहर निकालने के लिए अदरक या सोंठ का पाउडर शहद में डालकर खाने से फायदा मिलता है। इसके अलावा ग्रीन टी का सेवन भी इस समस्या में बहुत फायदेमंद होता है। इसके अलावा अगर चेस्ट कंजेशन बहुत गंभीर रूप ले लेता है, तो आपको स्टीम या भाप लेने से बहुत फायदा मिलता है। इसके लिए गर्म पानी में नीलगिरी का तेल डालकर भाप लें, इससे आपके सीने में जमा कफ आसानी से बाहर निकल जाएगा।

इसे भी पढ़ें: गले और सीने में बलगम जमा होने पर अपनाएं ये आयुर्वेदिक उपाय, तुरंत मिलेगा फायदा

शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता यानी इम्यूनिटी बेहतर होने पर आप छाती में कफ जमने की समस्या से बच सकते हैं। इसके अलावा अगर आप धूम्रपान करते हैं तो इसकी वजह से छाती में कफ जमने का खतरा बहुत ज्यादा बढ़ जाता है। इस समस्या से बचने के लिए धूम्रपान से दूरी, संतुलित और पौष्टिक आहार का सेवन और नियमित एक्सरसाइज का अभ्यास करना चाहिए। इस समस्या को नजरअंदाज करना आपकी सेहत पर भारी पड़ सकता है।

(Image Courtesy: Freepik.com)

Disclaimer