'ऑनलाइन ट्रोलिंग' कैसे आपको शारीरिक और मानसिक रूप से बनाती है बीमार, जानें क्या है बचाव का तरीका

अगर आप भी ऑनलाइन होने वाली ट्रोलिंग का शिकार हो रहे हैं तो जान लें ये स्थिति आपको शारीरिक और मानसिक रूप से कैसे बना सकती है बीमार।

Vishal Singh
विविधWritten by: Vishal SinghPublished at: Sep 11, 2020
'ऑनलाइन ट्रोलिंग' कैसे आपको शारीरिक और मानसिक रूप से बनाती है बीमार, जानें क्या है बचाव का तरीका

प्रौद्योगिकी ने हमारे जीवन को कई तरीकों से लाभान्वित किया है, लेकिन इसने ऑनलाइन बैलेंस या ट्रोलिंग के लिए भी एक स्थान बना दिया है जो हर किसी के लिए एक दुख का कारण है। सोशल सोशल प्लेटफॉर्म के साथ-सााथ बढ़ती ट्रोलिंग भी काफी आम हो गई है कि ज्यादातर लोगों इस तरह के ट्रोलिंग के कारण खुद को मानसिक स्वास्थ्य और शारीरिक स्वास्थ्य से खराब महसूस किया है। इसमें कोई अलग बात नहीं है कि इस तरह की इंटरनेट पर ऑनलाइन ट्रोलिंग के कारण आपके मानसिक स्वास्थ्य और शारीरिक स्वास्थ्य पर असर नहीं पड़ता। कई लोग अक्सर आज भी इसका शिकार हो रहे हैं जिसके कारण उन्हें कई परेशानियों का सामना करना पड़ता है। आइए जानने की कोशिश करते हैं कि ऑनलाइन ट्रो़लिंग कैसे आपके मानसिक और शारीरिक स्वास्थ्य पर प्रभाव डालती है। 

trolling

दोस्तों के बीच ट्रोलिंग की चर्चा

ये एक आम बात है लेकिन इसके कारण लोग खुद पर काफी शर्म महसूस करते हैं। ऐसा इसलिए क्योंकि ज्यादातर लोग ट्रोलिंग को महत्व देते हुए ट्रोल हुए शख्स को ही गलत समझते हैं जिसके कारण उस शख्स को मानसिक तनाव और खराब शारीरिक व्यव्हार से गुजरना पड़ता है। इस तरह की ट्रोलिंग पर होने वाली चर्चा में आप खुद को सही साबित करने के लिए आप अपनी बातें उन्हें बता सकते हैं और उन्हें बताएं कि इस तरह की बातें मुझे भावनात्मक रूप से चोट पहुंचाती है। 

इसे भी पढ़ें: इंटरनेट से युवाओं में बढ़े सुसाइड के मामले, मां-बाप इन 5 बातों पर दें ध्यान

ट्रोलिंग के दौरान सोशल मीडिया का इस्तेमाल

अगर आपके साथ ऑनलाइन ट्रोलिंग होती है तो ऐसे समय में आपको सोशल मीडिया का इस्तेमाल पूरी तरह से बंद कर देना चाहिए। अगर आप ट्रोल हो रही हैं तो उसका एक कारण ये भी होता है कि आप लगातार सोशल मीडिया पर एक्टिव हैं। लगातार इस तरह की ट्रोलिंग को देखना या महसूस करना आपके मानसिक रूप के लिए काफी नुकसानदायक हो सकता है, ये स्थिति आपको पूरी तरह से तनाव में धकेल सकती है और आपको गलत कदम उठाने पर मजबूर कर सकती है। 

हमेशा जवाब देना

ट्रोल होने के बाद लगातार लोगों को जवाब देना एक तरीके से आपको मानसिक रूप से बीमार करने जैसा होता है। बहुत समय तक लोगों को अपनी बातें समझाना या उन्हें खुद के बारे में बताना और जब वो आपकी बात सुने बिना ही आपको लगातार ट्रोल करते हैं तो ये आपके लिए खतरनाक होता जाता है। इसलिए अगर कोई आपको जब ऑनलाइन ट्रोल का शिकार बनाए तो आप तुरंत सोशल मीडिया से दूर होकर उन्हें जवाब देना बंद कर दें। कुछ दिनों के बाद ट्रोल करने वाले लोग खुद को इससे दूर कर लेंगे। 

इसे भी पढ़ें: सोशल मीडिया के इस दौर में भरोसेमंद गर्लफ्रेंड मिलना है मुश्किल, कंमिटमेंट करने से पहले ध्यान दें ये 4 बातें

व्यवहार में बदलाव आना

इस तरह की ट्रोलिंग जिसमें समाज के ज्यादातर लोग सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म पर हैं, इस बीच ट्रोलिंग की स्थिति में आप सिर्फ मानसिक रूप से ही नहीं बल्कि शारीरिक रूप से भी बीमार हो सकते हैं। ट्रोलिंग के कारण आप लोगों से बचना शुरू कर देते हैं, आपको किसी से बात करना पसंद नहीं होता क्योंकि सभी लोग आपका मजाक या फिर आपकी ट्रोलिंग पर चर्चा करना चाहते हैं, आप दूसरों से नजरें मिलाने में संकोच महसूस करते हैं। इस तरह की गतिविधियां आपको शारीरिक रूप से कमजोर और बीमार बनाती है। अगर आप गलत नहीं है तो हर किसी से बात करें अगर कोई आपकी ट्रोलिंग पर मजाक करें या चर्चा करें उस दौरान आप शांत रहें और इस बात को खत्म करने की सलाह दें। 

Read More Article On Miscellaneous In Hindi

Disclaimer