एक्‍टर सिद्धार्थ शुक्ला का हार्ट अटैक से न‍िधन, जानें क्‍या होते हैं हार्ट अटैक के लक्षण और कैसे क‍रें बचाव?

एक्‍टर सिद्धार्थ शुक्ला का हार्ट अटैक से न‍िधन हो गया है, हार्ट अटैक एक गंभीर स्‍थ‍िति है ज‍िससे जुड़ी जरूरी बातें आपको जान लेनी चाह‍िए 

सम्‍पादकीय विभाग
Written by: सम्‍पादकीय विभागUpdated at: Sep 02, 2021 13:54 IST
एक्‍टर सिद्धार्थ शुक्ला का हार्ट अटैक से न‍िधन, जानें क्‍या होते हैं हार्ट अटैक के लक्षण और कैसे क‍रें बचाव?

बिग बॉस 13 के विजेता रहे सिद्धार्थ शुक्ला का निधन हो गया है, महज 40 साल की उम्र में सिद्धार्थ ने दुनिया को अलविदा कहा, इस खबर से हर कोई सदमे में है। सिद्धार्थ ने कई टीवी शोज और फिल्मों में अब तक काम क‍िया है ज‍िसमें टीवी सीरियल 'बालिका वधु' से सिद्धार्थ शुक्ला को फेम म‍िला। सिद्धार्थ शुक्ला का हार्ट अटैक से निधन हुआ है। हार्ट अटैक एक ऐसी स्थिति है जिसमें हृदय शरीर को रक्त की पर्याप्त आपूर्ति नहीं कर पाता है। रक्त की आपूर्ति की कमी के कारण शरीर के विभिन्न अंग ठीक से काम नहीं कर पाते हैं। यह हृदय की मांसपेशियों के कमजोर होने और रक्त को पंप करने की प्रक्रिया को धीमा करने का संकेत देता है, जिससे भविष्य में गंभीर जटिलताएं हो सकती हैं।

 

हार्ट अटैक के लक्षण

लक्षण जो हार्ट अटैक की विफलता का संकेत कर सकते हैं उनमें शामिल हो सकते हैं:

  • सांसों की कमी
  • थकान और कमजोरी
  • अनियमित दिल की धड़कन
  • अचानक वजन बढ़ना
  • भूख में कमी
  • पेट में सूजन
  • ध्यान केंद्रित करने में कठिनाई
  • छाती में दर्द
  • पैर और टखने की सूजन

हार्ट अटैक आने से कैसे बचें?

आपकी जीवनशैली आपके दिल की विफलता के जोखिम को प्रभावित कर सकती है। एक गतिहीन जीवन शैली निश्चित रूप से दिल की विफलता की संभावना को बढ़ा सकती है। आपको उन आदतों को विकसित करना चाहिए जो यह सुनिश्चित करता है कि आपका दिल सही पंप कर रहा है। एक स्वस्थ जीवन शैली हृदय को स्‍वस्‍थ रखने में मदद करेगी। यहां कुछ हृदय को स्‍वस्‍थ रखने के टिप्‍स दिए गए हैं जो आपके हृदयघात के विभिन्न लक्षणों से बचा सकती हैं।

दिल की स्थिति का तुरंत इलाज करें

यदि आपको हृदय से संबंधित कोई असमान्‍य स्थितियां हैं, तो आपको जल्द से जल्द उनका इलाज करना चाहिए क्योंकि ऐसी स्थितियां दिल की विफलता को बढ़ा सकती सकती हैं। आपको अपने रक्तचाप को नियंत्रित करना चाहिए और हृदयघात की संभावना को कम करने के लिए अपने कोलेस्ट्रॉल के स्तर को कम करना चाहिए। आपको दवाओं पर बहुत अधिक निर्भरता से भी बचना चाहिए। यदि आपको दिल के दौरे के किसी भी लक्षण का अनुभव हुआ है तो आपको तुरंत अपने डॉक्टर से परामर्श करना चाहिए क्योंकि दिल का दौरा पड़ने के साथ-साथ हृदयघात भी हो सकती है।

सही खाद्य पदार्थ चुनें 

हृदयघात के विकास के जोखिम को कम करने के लिए आपको अपने आहार में हेल्‍दी फूड लेना चाहिए, जो हृदय के लिए बेहतर हो। वसा, अतिरिक्त चीनी और नमक का सेवन सीमित करें। अच्छी वसा और ताज़ी सब्जियां और फल चुनें। हृदय को स्‍वस्‍थ रखने के लिए कुछ खाद्य पदार्थों को अपने आहार में शामिल कर सकते हैं- हरी पत्तेदार सब्जियां, साबुत अनाज, जामुन, नट और बीज और थोड़ी मात्रा में डार्क चॉकलेट।

धूम्रपान न करें 

धूम्रपान हृदय रोगों के लिए प्रमुख जोखिम कारकों में से एक है। निकोटीन का सेवन रक्त वाहिकाओं को संकुचित करता है, जिससे हृदय कठोर होता है। कार्बन मोनोऑक्साइड रक्त में ऑक्सीजन को कम करता है और रक्त वाहिकाओं के लेयर को नुकसान पहुंचाता है। आपको अपने दिल को स्वस्थ रखने के लिए धूम्रपान की लत को रोकने की कोशिश करनी चाहिए।

इसे भी पढ़ें: हार्ट रेट यानी दिल की धड़कन बढ़ने के हो सकते हैं ये 5 कारण, ऐसे करें तुरंत कंट्रोल

ज्यादा देर तक न बैठें

आपका बैठने का काम आपको पूरे दिन के लिए बैठा देता है। यहां तक कि आपके पास नियमित रूप से व्यायाम करने के लिए पर्याप्त समय नहीं है। जब आप बहुत लंबे समय तक बैठते हैं तो आपको हृदय रोग होने की अधिक संभावना होती है। आपको अपने बैठने के समय को यथासंभव कम करना चाहिए। आपको अपने कार्यालय में या अपने दोपहर के भोजन के बाद घूमने की कोशिश करनी चाहिए। इसके अलावा, अपने व्यस्त कार्यक्रम में से कुछ समय व्यायाम करने में बिताने की कोशिश करें।

इसे भी पढ़ें: मौत की वजह भी बन सकता है लेबाइल हाइपरटेंशन, जानिए इसके बारे में

वजन को बढ़ने से रोकें

यदि आपका वजन अधिक है तो उसे कम करें। मोटापा आपको हृदय रोगों का खतरा बढ़ाता है। मोटापा आपके रक्तचाप को भी बढ़ा सकता है जो आपके हृदय स्वास्थ्य के लिए बेहद खराब है। वजन कम करने के लिए खुद को अधिक शारीरिक गतिविधियों में शामिल करें।

एक स्वस्थ हृदय को केवल कुछ छोटे-छोटे बदलावों की आवश्यकता होती है। आपके दिल के स्वास्थ्य को सुनिश्चित करने के लिए कुछ मामूली जीवनशैली में बदलाव पर्याप्त हैं। अपने आप को दवाओं पर बहुत अधिक निर्भर न करें और बस इन कुछ स्वस्थ आदतों को अपनाएं।

Read More Articles On Heart Health In Hindi

Disclaimer