दालचीनी का ज्यादा सेवन आपके स्वास्थ्य के लिए कैसे हो सकता है नुकसानदेह, जानें 3 कारण

दालचीनी को यूं तो स्वास्थ्य के लिए कई तरह से फायदेमंद माना जाता है। पर इसमें कुछ तत्व भी हैं, जो आपके लिए नुकसानदेह हो सकता है।

Pallavi Kumari
Written by: Pallavi KumariPublished at: Mar 04, 2020Updated at: Mar 04, 2020
दालचीनी का ज्यादा सेवन आपके स्वास्थ्य के लिए कैसे हो सकता है नुकसानदेह, जानें 3 कारण

दालचीनी, दालचीनी के पेड़ की भीतरी छाल है जिसे लोग एक मसाले के रूप में इस्तेमाल करते हैं। यह व्यापक रूप से लोकप्रिय है क्योंकि सिर्फ मसाले के ही रूप में नहीं बल्कि दवा के रूप में भी लोग दालचीनी का प्रयोग करते हैं। ये बेहतर रक्त शर्करा नियंत्रण करने वाला और हृदय रोग के लिए कुछ जोखिम कारकों को कम करने वाला भी माना जाता है। दालचीनी मुख्य तौर दो प्रकार के होते हैं पहला- कैसिया (Cassia),जिसे नियमित दालचीनी भी कहा जाता है, यह सबसे अधिक इस्तेमाल किया जाने वाला प्रकार है। वहीं दूसरे प्रकार को सीलोन (Ceylon) कहते हैं, जो असली दालचीनी के रूप में जाना जाता है। सीलोन में हल्का और कम कड़वा स्वाद होता है। कैसिया दालचीनी अधिक सामान्यतः सुपरमार्केट में पाई जाती है, यह देखते हुए कि यह सीलोन दालचीनी की तुलना में बहुत सस्ता है। जबकि कैसिया दालचीनी कम से मध्यम मात्रा में खाने के लिए सुरक्षित है, बहुत अधिक खाने से स्वास्थ्य समस्याएं हो सकती हैं वो कैसे? आइए हम आपको इसके बारे में बताते हैं। 

inside_daalchini

दालचीनी में ऐसा क्या है जो नुकसानदेह हो सकता है?

दालचीनी में उच्च मात्रा में 'कौमारिन' कंपाउंड पाया जाता है, जो स्वास्थ्य के लिए भी लाभदायक हो सकता है। शोध में पाया गया है कि बहुत अधिक कैमारिन खाने से आपके लीवर को नुकसान पहुंच सकता है और पाचन तंत्र से जुड़ूी कई परेशानियों का खतरा बढ़ सकता है। इसके अलावा, बहुत अधिक कैसिया दालचीनी खाने से कई अन्य दुष्प्रभावों से जुड़ा हुआ है। आइए हम आपको दालचीना के इन्हीं दुष्प्रभावों के बारे में बताते हैं।

inside_daalchinikenuksan

इसे भी पढ़ें : डायबिटीज में ऐसे खाएं दालचीनी, होंगे आश्‍चर्यजनक लाभ

दालचीनी के नुकसान

लिवर डैमेज कर सकता है

कैसिया या नियमित दालचीनी कौमारिन (Coumarin) का एक समृद्ध स्रोत है। ग्राउंड कैसिया दालचीनी की कौमारिन सामग्री 7 से 18 मिलीग्राम प्रति चम्मच (2.6 ग्राम) तक हो सकती है, जबकि सीलोन दालचीनी में केवल कौमारिन की ट्रेस मात्रा होती है। कौमारिन की सहनीय दैनिक सेवन की बात करें, तो प्रति दिन 5 मिलीग्राम हूी इसे लेना चाहिए। इसका मतलब यह है कि कैसिया दालचीनी का सिर्फ 1 चम्मच आपके लिए काफी है। कई अध्ययनों में पाया गया है कि बहुत अधिक कैमारिन खाने से लिवर की विषाक्तता और क्षति हो सकती है।

Watch Video :  डायबिटीज पर ब्लड प्रेशर का प्रभाव

मुंह में छाले हो सकते हैं

कुछ लोगों ने खाने के उत्पादों से मुंह के घावों का अनुभव किया है, जिसमें दालचीनी स्वाद बढ़ाने वाले एजेंट होते हैं। दालचीनी, एक बड़ा यौगिक होता है, जो बड़ी मात्रा में खपत होने पर एलर्जी की प्रतिक्रिया को ट्रिगर कर सकता है। मसाले की छोटी मात्रा इस प्रतिक्रिया का कारण नहीं होती है पर लार के साथ चिपके हुए इसके रसायन बहुत लंबे समय तक मुंह के संपर्क में रहते हैं और इससे बहुत से लोगों को मुंह के छालों का अनुभव होता है। मुंह के घावों के अलावा, एक सिनामाल्डिहाइड एलर्जी के अन्य लक्षणों में शामिल हैं:

  • -जीभ या मसूड़े में सूजन
  • - मुंह में जलन या खुजली सनसनी
  • -मुंह में सफेद धब्बे

हालांकि ये लक्षण गंभीर रूप से गंभीर नहीं हैं, वे असुविधा पैदा कर सकते हैं। इसके अलावा, मुंह के छाले ज्यादातर उन लोगों को प्रभावित करते हैं जो बहुत अधिक दालचीनी तेल और दालचीनी के स्वाद वाले च्युइंग गम का इस्तेमाल करते हैं, क्योंकि इन उत्पादों में अधिक दालचीनी हो सकती है।

inside_lowbloodpressure

इसे भी पढ़ें : वजन घटाने के लिए दालचीनी का प्रयोग करें

लो ब्लड प्रेशर

क्रोनिक हाई ब्लड शुगर होना एक स्वास्थ्य समस्या है। वहीं अगर इसे अनुपचारित छोड़ दिया जाए, तो ये मधुमेह, हृदय रोग और कई अन्य स्वास्थ्य समस्याएं पैदा कर सकती है। वहीं दालचीनी रक्त शर्करा को कम करने की क्षमता के लिए अच्छी तरह से जाना जाता है। अध्ययन में पाया गया है कि मसाला इंसुलिन के प्रभाव की नकल कर सकता है, एक हार्मोन जो रक्त से चीनी को निकालने में मदद करता है। थोड़ी सी दालचीनी खाने से आपके रक्त शर्करा को कम करने में मदद मिल सकती है, लेकिन बहुत अधिक खाने से ये लो ब्लड प्रेशर का कारण बन सकती है। इसे हाइपोग्लाइसीमिया कहा जाता है। यह थकावट, चक्कर आना और संभवतः बेहोशी  हो सकता है। जिन लोगों को लो ब्लड शुगर का अनुभव होता है उन्हें इसे लेना बंद कर देना चाहिए। ऐसा इसलिए है क्योंकि दालचीनी इन दवाओं के प्रभाव को बढ़ा सकती है और आपके रक्त शर्करा को कम कर सकती है।

Read more articles on Miscellaneous in Hindi

Disclaimer