किडनी फेल होने के संकेत हैं 'झागदार पेशाब' होना, जानें गुर्दे खराब होने के 7 लक्षण

World Kidney Day 2020: यह सुनिश्चित करने के लिए कि आपको गुर्दे की बीमारी है या नहीं, यह जानने का एकमात्र तरीका है। यहां 7 संभावित संकेत बताए गए हैं! 

Sheetal Bisht
Written by: Sheetal BishtPublished at: Mar 26, 2019Updated at: Feb 08, 2021
किडनी फेल होने के संकेत हैं 'झागदार पेशाब' होना, जानें गुर्दे खराब होने के 7 लक्षण

गुर्दे की बीमारी (Kidney Disease) के कई शारीरिक लक्षण हैं, लेकिन कभी-कभी लोग उन्हें अन्य स्थितियों के लिए जिम्मेदार मानते हैं। इसके अलावा, गुर्दे की बीमारी वाले लोग कई चरणों के बाद लक्षणों का अनुभव करते हैं। जब गुर्दे खराब होने लगते हैं या मूत्र में बड़ी मात्रा में प्रोटीन बनने लगते हैं तो यह क्रोनिक किडनी रोग का कारण महज कुछ ही लोगों को पता चल पाता है। यह सुनिश्चित करने के लिए कि आपको गुर्दे की बीमारी है या नहीं, यह जानने का एकमात्र तरीका है। यहां 7 संभावित संकेत बताए गए हैं, जो किडनी रोग की ओर इशारा करती है। यदि आपको उच्च रक्तचाप, मधुमेह, किडनी की विफलता का पारिवारिक इतिहास रहा है या 60 वर्ष से अधिक आयु के कारण गुर्दे की बीमारी का खतरा है, तो किडनी की बीमारी को जानने के लिए हर साल परीक्षण कराना महत्वपूर्ण है।

किडनी फेल होने के 7 संभावित संकेत: 

1. थकान 

गुर्दे के कार्य में कमी से रक्त में विषाक्त पदार्थों और अशुद्धियों का निर्माण हो सकता है। यह लोगों को थका हुआ, कमजोर महसूस करने का कारण बन सकता है। इससे ध्यान केंद्रित करना कठिन हो सकता है। गुर्दे की बीमारी की एक और जटिलता एनीमिया है, जो कमजोरी और थकान का कारण बन सकती है।

2. नींद की समस्‍या 

जब गुर्दे ठीक से फ़िल्टर नहीं होते हैं, तो टॉक्सिन मूत्र के माध्यम से शरीर को छोड़ने के बजाय रक्त में रह जाते हैं। इससे नींद आना मुश्किल हो सकता है। मोटापा और क्रोनिक किडनी रोग के बीच एक कड़ी भी है, और क्रोनिक किडनी रोग वाले लोगों में स्लीप एपनिया सामान्य जनसंख्या के साथ तुलना में अधिक आम है।

3. शुष्‍क त्‍वचा और खुजली

स्वस्थ गुर्दे कई महत्वपूर्ण कार्य करते हैं। वे आपके शरीर से अपशिष्ट और अतिरिक्त तरल पदार्थ निकालते हैं, लाल रक्त कोशिकाओं को बनाने में मदद करते हैं, हड्डियों को मजबूत रखने में मदद करते हैं और आपके रक्त में खनिजों की सही मात्रा को बनाए रखने के लिए काम करते हैं। शुष्‍क और खुजली वाली त्वचा हड्डी की बीमारी का संकेत हो सकती है जो अक्सर गुर्दे की बीमारी के साथ होती है। 

4. अधिक बार पेशाब करने की आवश्यकता महसूस होना

यदि आपको अधिक बार पेशाब करने की आवश्यकता महसूस होती है, खासकर रात में, तो यह गुर्दे की बीमारी का संकेत हो सकता है। जब गुर्दे के फिल्टर क्षतिग्रस्त हो जाते हैं, तो यह पेशाब करने की इच्छा में वृद्धि का कारण बन सकता है। कभी-कभी यह पुरुषों में एक मूत्र संक्रमण या बढ़े हुए प्रोस्टेट का संकेत भी हो सकता है।

5. मूत्र में रक्त 

स्वस्थ गुर्दे आमतौर पर रक्त को छानते हैं तो रक्‍त कोशिकाओं को शरीर में ही रखते हैं, लेकिन जब गुर्दे के फ़िल्टर क्षतिग्रस्त हो जाते हैं, तो ये रक्त कोशिकाएं मूत्र में "रिसाव" करना शुरू कर सकती हैं। गुर्दे की बीमारी का संकेत देने के अलावा, मूत्र में रक्त ट्यूमर, गुर्दे की पथरी या संक्रमण का संकेत हो सकता है।

इसे भी पढ़ें: किडनी खराब होने पर शरीर में दिखते हैं ये 10 लक्षण, एक्‍सपर्ट से जानें बचाव 

6. मूत्र झागदार हो  

मूत्र में अत्यधिक बुलबुले- विशेष रूप जब आप दूर खड़े होकर पेशाब करते हैं तो कई बार फ्लश करने की आवश्यकता होती है- यह मूत्र में प्रोटीन को इंगित करते हैं। यह झाग आपको दिखने वाले झाग की तरह लग सकता है जैसे कि अपब आप अंडे को फोड़ते हैं। 

इसे भी पढ़ें: पुरुषों और बच्चों को भी होती है यूटीआई की समस्या, एक्सपर्ट से जानें इसके कारण

7. एडियों और पैरों में सूजन 

गुर्दे की कमी के कारण सोडियम रिटेंशन हो सकता है, जिससे आपके पैरों और टखनों में सूजन हो सकती है। निचले छोरों में सूजन दिल की बीमारी, यकृत की बीमारी और पुरानी पैर की नसों की समस्याओं का संकेत भी हो सकता है।

अगर आपको भी शरीर में उपरोक्‍त लक्षण दिखाई दें तो डॉक्‍टर की सलाह लें। 

Read More Articles On Other Diseases In Hindi 

Disclaimer