Expert

क्या प्रेगनेंसी में जामुन खा सकते हैं? जानें इससे जुड़े फायदे-नुकसान और सावधानियां

मानसून के सीजन में ताजे जामुन का स्‍वाद चखने का मजा ही कुछ और होता है पर क्‍या इसे प्रेग्नेंसी में खाना सेफ है? एक्‍सपर्ट से जानें सही जवाब 

Yashaswi Mathur
Written by: Yashaswi MathurPublished at: Jun 29, 2022Updated at: Jun 29, 2022
क्या प्रेगनेंसी में जामुन खा सकते हैं? जानें इससे जुड़े फायदे-नुकसान और सावधानियां

मानसून के सीजन में हर कोई जामुन का स्‍वाद चखना चाहता है। जामुन का स्‍वाद मीठा और  हल्का खट्टा होता है। वैसे तो जामुन में कई पोषक तत्‍व मौजूद होते हैं पर क्‍या इसका सेवन प्रेग्नेंसी में फायदेमंद है? प्रेग्नेंसी में डाइट और एक्‍टीव‍िटी का गहरा असर स्‍वास्‍थ्‍य पर पड़ता है इसल‍िए कुछ भी खाने से पहले डॉक्‍टर सलाह लेने के ल‍िए कहते हैं। इस लेख में हम प्रेगनेंसी के दौरान जामुन खाने के फायदे, ज्‍यादा सेवन के नुकसान और खाने से जुड़ी कुछ सावधानियों  पर चर्चा करेंगे। इस व‍िषय पर बेहतर जानकारी के ल‍िए हमने Holi Family Hospital, Delhi की डायटीश‍ियन Sanah Gill से बात की। 

jamun pregnancy

क्या प्रेगनेंसी में जामुन खा सकते हैं? (Jamun During Pregnancy: Safe or Not)

100 ग्राम जामुन की बा‍त करें तो उसमें करीब 50 से 60 कैलोरीज होती हैं। आपके ल‍िए प्रेग्नेंसी में जामुन का सेवन सेफ है पर मात्रा का ध्‍यान रखें। आप द‍िन में 5 से 6 जामुन का सेवन कर सकते हैं। जामुन का सेवन करने से मां और बच्‍चे को कोई गंभीर समस्‍या नहीं होती। 

प्रेग्नेंसी में जामुन खाने के फायदे (Benefits of Eating Jamun During Pregnancy)

  • जामुन में व‍िटाम‍िन सी मौजूद होता है। इसका सेवन करने से प्रेग्नेंसी में हीमोग्‍लोब‍िन बढ़ता है।
  • जिन मह‍िलाओं को जेस्‍ट‍ेशेनल डायब‍िटीज की समस्‍या है उनके ल‍िए ये फल फायदेमंद है, क्‍योंक‍ि इसका ग्‍लाइसेम‍िक इंडेक्‍स कम होता है।
  • प्रेग्नेंसी में व‍िटाम‍िन के, डी, आयरन, कैल्‍श‍ियम, पोटैश‍ियम जरूरी पोषक तत्‍व माने जाते हैं। जामुन में ये सभी मौजूद होते हैं। आप इसका सेवन कर सकते हैं। 

ज्‍यादा जामुन खाने के साइड इफेक्‍ट्स (Side Effects Of Eating Jamun During Pregnancy)

प्रेगनेंसी के दौरान जामुन का ज्‍यादा सेवन करने से कई साइड इफेक्‍ट्स देखने को म‍िल सकते हैं- 

  • जामुन की अध‍िक मात्रा खाने से ब्‍लड शुगर लेवल ग‍िर सकता है।
  • ज‍िन लोगों को क‍िडनी स्‍टोन की समस्‍या है उन्‍हें जामुन का अध‍िक सेवन अवॉइड करना चाह‍िए।
  • डायटीश‍ियन सना ने बताया क‍ि जामुन का अध‍िक सेवन करने से कई लोगों को गले में खराश महसूस होती है।

इसे भी पढ़ें- जामुन की छाल दूर कर सकती है आपकी ये 6 समस्याएं, आयुर्वेदाचार्य से जानें कैसे करें प्रयोग

जामुन का सेवन करने से पहले क‍िन बातों का ध्‍यान रखें?

  • जामुन का सेवन खाली पेट न करें। 
  • अगर आपने दूध का सेवन क‍िया है तो जामुन तुरंत न खाएं। इससे एस‍िड‍िटी हो सकती है।
  • जामुन का चुनाव करते समय ध्‍यान रखें क‍ि जामुन का रंग डार्क, शेप गोल और द‍िखने में सॉफ्ट और पल्‍पी होना चाह‍िए।   
  • 2-3 द‍िन से ज्‍यादा जामुन को स्‍टोर न करें। जामुन की शेल्‍फ-लाइफ छोटी होती है।
  • ऐसे जामुन का सेवन न करें जो पेड़ से ग‍िरा हो।
  • इसके अलावा ऑफ सीजन में जामुन का सेवन करने से भी आपको बचना चाह‍िए। 
  • ऐसा जामुन न खाएं जो ज्‍यादा पका हुआ हो।
  • ऐसे जामुन का सेवन न करें जो डैमेज्‍ड हो या ज‍िसका कलर या शेप ठीक न हो।

जामुन में व‍िटाम‍िन सी, पोटैश‍ियम, आयरन, एंटी-ऑक्‍सीडेंट्स मौजूद होते हैं ज‍िससे आपको प्रेग्नेंसी के दौरान हेल्‍दी रहने में मदद म‍िलती है। हालांक‍ि जामुन का ज्‍यादा सेवन प्रेग्नेंसी के दौरान न करें। जामुन का ज्‍यादा सेवन करने से ब्‍लड शुगर लेवल घट सकता है जो क‍ि डायब‍िटि‍क मदर्स के ल‍िए हान‍िकारक साब‍ित होगा। 

Disclaimer