सिजेरियन डिलीवरी के बाद अक्सर होता है इंफेक्शन का खतरा, बचाव के लिए सख्ती से पालन करें ये Do's and Don'ts

प्रेग्नेंसी के लगभग 10 प्रतिशत मामलों में जटिलता को देखते हुए सिजेरियन की जरूरत पड़ती है। इसलिए इंफेक्शन से बचे रहने के लिए इन बातों पर ध्यान दें।

Pallavi Kumari
Written by: Pallavi KumariUpdated at: Jun 03, 2020 11:26 IST
सिजेरियन डिलीवरी के बाद अक्सर होता है इंफेक्शन का खतरा, बचाव के लिए सख्ती से पालन करें ये Do's and Don'ts

सीजेरियन डिलीवरी (सी-सेक्शन) वाली महिलाओं को, नोर्मल डिलीवरी करने वालों की तुलना में ठीक होने के लिए अधिक समय की आवश्यकता होती है। सी-सेक्शन से पूरी तरह से रिकवरी में 4 से 6 सप्ताह का समय लगता है। लेकिन कुछ मांओं को ठीक होने में इससे अधिक समय लग सकता है। ऐसा इसलिए क्योंकि सिजेरियन डिलीवरी (Cesarean Delivery) में मां के पेट और गर्भाशय के बीच में ऑपरेशन करके बच्चे की डिलीवरी होती है। वैसे तो सी-सेक्शन आम तौर पर सुरक्षित होते हैं, लेकिन कभी-कभी संक्रमण गर्भाशय, पेट या चीरा में विकसित हो सकते हैं, जिन्हें अक्सर एंटीबायोटिक दवाओं के साथ उपचार की आवश्यकता होती है। विशेषज्ञों का कहना है कि लगभग 6-11 प्रतिशत सीजेरियन डिलीवरी से संक्रमण (infection occurs after a C-section) हो सकता है।

insidecesareandeliveryinfection

सी-सेक्शन से बच्चा होने के बाद, दर्द, खराश और यहां तक कि रक्तस्राव का अनुभव करना सामान्य है। इसका अर्थ यह भी है कि आपको अपने शरीर को ठीक करने के लिए और अधिक जागरूक होने की आवश्यकता है। इसलिए आपको इसके लिए जरूर जानना चाहिए कि सी-सेक्शन के बाद घाव की देखभाल कैसे करें। तो आज हम आपके लिए कुछ ऐसे ही Do's and Don'ts लाएं हैं, जिसका आपको सिजेरियन डिलीवरी के बाद देखभाल के लिए सख्ती से पालन करना चाहिए।

इसे भी पढ़ें : पिछले 10 सालों में दोगुने हुए सिजेरियन डिलीवरी के मामले, होते हैं कई नुकसान

सिजेरियन डिलीवरी के बाद इन चीजों का करें सख्ती से पालन (Do's)

  • -अपने बच्चे के साथ बैठने और बंधने का समय निकालें।
  • -जब आप थक गए हों तो आराम करें।
  • -रोज टहलें। चलना रक्त के थक्कों और कब्ज को रोकने में मदद करता है।
  • -जब आप खांसने या हंसने की जरूरत हो तो अपने चीरे पर एक तकिया रखें।
  • -सामान्य रूप से स्नान करें।
  • -स्तनपान कराने में परेशानी होने पर एक स्तनपान सलाहकार से संपर्क करें।
  • - अगर आपको डायबिटीज है, तो सर्जरी से पहले और बाद में अपने ब्लड शुगर के स्तर का खास ध्यान रखें।
  • -आमतौर पर टांके या क्लिप को लगभग पांच दिनों के बाद हटाया जाता है, तब तक के लिए खुद का खास ध्यान रखें।
  • -जब आप सर्जरी से ठीक हो रहे हैं, तो घाव देखभाल निर्देशों का सख्ती से पालन करें।
  • -एक बार जब आपका ड्रेसिंग हटा दिया जाए, तो हर दिन अपने घाव को सावधानीपूर्वक साफ करें और सूखा लें।
  • -बच्चे के वजन को सीधे अपने घाव पर रखने से बचें।
  • -सूती कपड़े वाले ढीले कपड़ों को पहनें।

सिजेरियन डिलीवरी के बाद इन कामों को करने से बचें (Don'ts)

  • - कुछ भी भारी काम करने से बचें।
  • -जब तक आपके पास आपके डॉक्टर की अनुमति न हो, टैम्पोन का उपयोग करें।
  • -कठोर गतिविधि में भाग न लें या कोर मांसपेशियों की कसरत जैसी गतिविधियों को करने से बचें।
  • -मदद मांगने से डरें नहीं, काम के लिए घर के लोगों की मदद लें।
  • -सीढ़ियों को बार-बार चढ़ना-उतरना न करें।
  • -सार्वजनिक पूल या गर्म टब में नहाने से बचें।

इसे भी पढ़ें : सिजेरियन से हुए इंफेक्‍शन की कैसे करें देखभाल

सी-सेक्शन के बाद डॉक्टर की मदद कब लें?

आपका सी-सेक्शन घाव कुछ हफ्तों के लिए खराश और चोट का कारण बना रहेगा। आपका डॉक्टर आपके सी-सेक्शन के बाद कम से कम 7-10 दिनों के लिए दर्द निवारक दवाइयां लेने की सलाह दे सकता है। अपने दर्द से राहत के लिए नियमित रूप से जवाइयों को समय पर लें, भले ही इस अवधि के दौरान आपको दर्द न हो। वहीं अगर ये तमाम परेशानियां हो तो डॉक्टर से तुरंत संपर्क करें। जैसे कि

  • -लगातार बुखार होना
  • -आपके पेट में दर्द या मरोड़ महसूस होती हो या आपको पेट में जलन हो।
  • -आपका घाव लाल, सूजा हुआ या दर्दनाक लगे।
  • -आपके घाव में डिस्चार्ज है हो रहा हो या सूख न रहा हो।
  • -दरअसल ये सभी संक्रमण (infection in cesarean delivery) के बढ़ने के संकेत हैं और आपको इनको नजरअंदाज नहीं करना चाहिए।

Read more articles on Women's Health in Hindi

Disclaimer