कमजोर और फैटी लिवर के लिए फायदेमंद है आंवला, जानें सेवन के तरीके

आंवला खाने से लिवर मजबूत होता है और फैटी लिवर की समस्या से छुटकारा मिलता है। जानें आंवला खाने के अन्य फायदे और डाइट में शामिल करने के तरीके।

Prins Bahadur Singh
Written by: Prins Bahadur SinghUpdated at: May 23, 2021 13:30 IST
कमजोर और फैटी लिवर के लिए फायदेमंद है आंवला, जानें सेवन के तरीके

आंवला का फल सेहत के लिए फायदेमंद अनेक गुणों से युक्त होता है। दुनिया भर में इसके फल को 'सुपरफ्रूट' भी कहा जाता है, हमारे देश में इसका उपयोग तमाम तरीकों से किया जाता है। आयुर्वेदिक और पारंपरिक चिकित्सा में भी आंवले का उपयोग सैकड़ो सालों से किया जा रहा है। विटामिन सी से भरपूर यह फल सेहत के लिए किसी खजाने से कम नही होता। आंवले को Indian Gooseberry भी कहा जाता है, इसके वैज्ञानिक नाम Phyllanthus emblica और Emblica officinalis हैं। आयुर्वेद के अनुसार आंवला का फल, पत्ती और पेड़ तमाम औषधीय गुणों से युक्त होता है। लिवर और पाचन तंत्र के लिए आंवला बेहद फायदेमंद होता है, फैटी लिवर और कमजोर पाचन तंत्र वाले लोगों के लिए इसका सेवन बहुत लाभकारी माना जाता है। विटामिन सी और एंटीऑक्सीडेंट के गुणों से युक्त आंवले का सेवन लिवर के लिए किस प्रकार से फायदेमंद होता है और इसका सेवन कैसे करें? आइये जानते हैं इसके बारे में।

आंवले में पाए जाने वाले पोषक तत्व (Nutritional Value of Indian Gooseberry or Amla)

आंवला शरीर के लिए फायदेमंद तमाम पोषक तत्वों से भरपूर होता है। इसमें एंटीऑक्सीडेंट के गुणों के साथ-साथ विटामिन सी की प्रचुर मात्रा मौजूद होती है। एंटी-बैक्टीरियल और एंटी-इंफ्लेमेटरी गुणों के साथ-साथ आंवले में फाइबर की भी अच्छी मात्रा पाई जाती है जो पेट के पाचन और मेटाबॉलिज्म के लिए भी फायदेमंद होता है, आंवले में पाए जाने वाले प्रमुख तत्व इस प्रकार से हैं।

  • प्रोटीन
  • वसा
  • फाइबर
  • कैलोरी
  • शुगर
  • कार्बोहाइड्रेट
  • विटामिन सी, ई और ए
  • लोहा
  • कैल्शियम
amla benefits

आंवला के सेवन से होने वाले स्वास्थ्य लाभ (Health benefits of Indian Gooseberry or Amla)

आंवला एंटीऑक्सिडेंट और विटामिन के साथ कई अन्य गुणों से युक्त होता है जिसकी वजह से इसके सेवन से सेहत के फायदा मिलता है। आंवला में मौजूद विटामिन सी की उच्च मात्रा शरीर को रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने में मदद करती है और बीमारियों से शरीर को ददोर रखने का काम करती है। आंवले के सेवन से होने वाले कुछ प्रमुख स्वास्थ्य लाभ इस प्रकार से हैं।

  • डायबिटीज के रोग में फायदेमंद
  • आंखों के लिए बेहद उपयोगी
  • पाचन तंत्र को मजबूत करने में फायदेमंद
  • लिवर के लिए बेहद उपयोगी
  • मस्तिष्क के लिए उपयोगी
  • एंटी कैंसर के गुण
  • हृदय के लिए फायदेमंद

लिवर के लिए आंवला (Indian Gooseberry or Amla for Liver)

लिवर को स्वस्थ रखने के लिए आंवले का सेवन बहुत लाभकारी होता है। शरीर से विषाक्त पदार्थों को बाहर निकालने से लेकर लिवर को हेल्दी रखने में यह बेहद फायदेमंद फल साबित होता है। आंवला हाइपरलिपिडिमिया (बहुत अधिक वसा) और मेटाबोलिक सिंड्रोम को भी कम करने में लाभदायक होता है। फैटी लिवर के लिए आंवले का सेवन रामबाण माना जाता है। लिवर की सेहत का ध्यान रखते हुए आप आंवले को अपनी डाइट में शामिल कर सकते हैं। लिवर के फेल होने के खतरे को भी कम करने के लिए आंवले का सेवन बेहद महत्वपूर्ण माना जाता है। लेकिन इसके सेवन पहले यह भी जानना बेहद जरूरी है कि किन परिस्थितियों में कितनी मात्रा में आंवले का सेवन फायदेमंद होता है? आइये जानते हैं इसके बारे में।

फैटी और कमजोर लिवर के लक्षण (Symptoms of Fatty Liver)

शरीर में लिवर का काम पाचन की प्रक्रिया को सुचारू रूप से संचालित करने का होता है। शरीर के लिए प्रोटीन के निर्माण में भी लिवर का सबसे अहम योगदान होता है। शरीर में पोषक तत्वों को एनर्जी के रूप में बदलने का काम भी लिवर ही करता है। कुल मिलाकर देखा जाए तो लिवर शरीर के स्वस्थ रहने के सबसे जरूरी अंग है। लिवर के कमजोर या फैटी हो जाने पर शरीर में कई दूसरी दिक्कतें भी शुरू हो सकती है। फैटी लिवर की समस्या को हेपेटिक स्टीटोसिस भी कहते हैं, यह लिवर में फैट के अधिक जमा हो जाने के कारण होता है। स्वस्थ लिवर में एक उचित मात्रा में फैट का होना जरूरी है लेकिन यह कमजोर तब होता है जब इसमें लिवर के वजन का 10 या 5 प्रतिशत भार फैट का हो जाता है। लिवर में फैट की अधिक मात्रा लिवर के साथ-साथ शरीर के लिए भी कई दिक्कतें पैदा कर सकती है। कमजोर या अनहेल्दी लिवर कभी-कभी काम करना भी बंद कर सकता है। शराब और टेल भुने पदार्थों के अधिक सेवन से भी इस समस्या के होने का ख़तरा होता है। फैटी या अस्वस्थ लिवर के प्रमुख लक्षण इस प्रकार से हैं।

liver diseases

  • वजन का लगातार कम होना
  • आंखों और स्किन का पीला पड़ जाना
  • पीलिया की समस्या
  • पेट में दर्द या पेट के ऊपरी दाहिने हिस्से में दिक्कत
  • भूख न लगना और मतली की समस्या
  • पेट और पैरों में सूजन
  • थकान और कमजोरी
  • नाक में दम होना
  • त्वचा में खुजली
  • पुरुषों में स्तन का बढ़ना
  • उलझन और तनाव

फैटी लिवर के कारण (Causes of Fatty Liver)

शरीर में फैट का अधिक निर्माण होने की वजह से लिवर पर असर हो सकता है। शरीर में मौजूद अधिक फैट लिवर में इकट्ठा हो सकता है और यह लिवर से जुड़े रोगों का कारण बनता है। शराब के अधिक सेवन और संतुलित खानपान से लिवर से जुड़ी समस्याएं अधिक देखने को मिलती हैं। फैटी लिवर के कुछ प्रमुख कारण इस प्रकार से हैं।

  • ब्लड शुगर की अधिकता
  • मोटापा या अधिक वजन
  • गर्भावस्था
  • वजन का अचानक कम हो जाना
  • हेपेटाइटिस सी जैसे संक्रमण
  • शराब का अधिक सेवन
  • असंतुलित खानपान

फैटी लिवर की समस्या से बचने के लिए इस प्रकार से करें आंवले का सेवन

आप फैटी लिवर की समस्या से बहकने के लिए और लिवर को मजबूत बनाये रखने के लिए आंवले को अपनी डाइट में शामिल कर सकते हैं। वैसे तो आंवले के सेवन के कई तरीके हो सकते हैं लेकिन अगर आप इसका सेवन इन तरीकों से करेंगे तो यह शरीर पर जल्दी अपना प्रभाव छोड़ेंगे। इन तरीकों से आप हेल्दी लिवर के लिए आंवले का सेवन कर सकते हैं।

काला नमक और आंवला का सेवन

अपनी डाइट में काला नमक के साथ आंवले को शामिल कर सकते हैं। भोजन के दौरान आप इसे सलाद के रूप में भी ले सकते हैं। स्वाद के लिए आप इसमें धनिया और हल्की लाल मिर्च भी मिला सकते हैं। रोजाना इसका सेवन करने से लिवर को मजबूती मिलेगी और फैटी लिवर की समस्या से छुटकारा भी मिलेगा।

इसे भी पढ़ें: मास्टर शेफ संजीव कपूर ने शेयर की इम्यूनिटी बूस्टर रेसिपी, जानें स्वास्थ्य के लिए कैसे फायदेमंद है आंवला राइस

आंवले का जूस

आंवले का जूस इसके सेवन का सबसे अच्छा तरीका माना  जाता है। आंवले का जूस आप सुबह या शाम किसी भी वक़्त पी सकते हैं। इसे घर पर भी आसानी से बनाया जा सकता है। इसका नियमित सेवन लिवर के साथ-साथ पूरे शरीर के लिए बेहद फायदेमंद होता है।

amla recipes

आंवला की चिप्स

आंवले की चिप्स का सेवन भी लिवर के लिए फायदेमंद होता है। हालांकि आंवला बाज़ार में एक निश्चित समय के लिए ही उपलब्ध होता है ऐसे में आंवले की चिप्स बनाकर इसे स्टोर किया जा सकता है। आंवले को धूप में सुखाकर भी इसे स्टोर किया जा सकता है।

आंवले की चाय

रोजाना सुबह की शुरुआत ज्यादातर लोग चाय के साथ करते हैं। आप सामान्य चाय की जगह आंवले की चाय से भी अपने दिन की शुरुआत कर सकते हैं। आंवले की चाय बनाने के लिए इसे काटकर पानी में रातभर के लिए भिगोकर रख दें। सुबह इसमें अदरक, इलायची आदि को मिलाकर अच्छी तरह से उबालें। आप चाहें तो इसमें तुलसी के पत्तों का भी उपयोग कर सकते हैं। अच्छी तरह से उबालने के बाद इसका सेवन करें।

Read More Articles on Healthy Diet in Hindi

Disclaimer