क्या आप भी कराने जा रहे हैं कोरोना टेस्ट? तो रखें इन 4 बातों का खास ध्यान

सही समय पर कोरोना टेस्ट कराना आज के समय में बहुत ही जरूरी हो गया है। अगर आप भी कोविड-19 टेस्ट कराने जा रहे हैं, तो इन बातों का खास ध्यान रखें।

 

Kishori Mishra
Written by: Kishori MishraUpdated at: Apr 20, 2021 14:12 IST
क्या आप भी कराने जा रहे हैं कोरोना टेस्ट? तो रखें इन 4 बातों का खास ध्यान

3rd Edition of HealthCare Heroes Awards 2023

कोरोना की दूसरी लहर हम सभी के लिए घातक साबित हो रही है। दिल्ली-एनसीआर सहित देश के कई राज्यों में कोरोना का प्रकोप बढ़ता ही जा रहा है। इस बीच मौसम बदलने के कारण कई लोग वायरल के शिकार भी हो रहे हैं। कोरोना और वायरल फीवर के लक्षण लगभग समान ही होते हैं। ऐसे में लोगों को यह समझना मुश्किल हो गया है कि उन्हें कोरोना है या वायरस फीवर? कई लोग वायरल फीवर को कोरोना समझकर जांच भी करा रहे हैं। वहीं, कुछ ऐसे भी लोग हैं, जो कोरोना पॉजिटिव होने के बावजूद कोरोना के टेस्ट में निगेटिव आ रहे हैं। ऐसे में यह समझना मुश्किल हो गया है कि वह अपना ख्याल किस तरह रखें? वहीं, वे किस तरह अपना टेस्ट कराएं? अगर आपके मन में भी यह सवाल है, तो चलिए जानते हैं कोरोना टेस्ट कराते वक्त हमें किन बातों का ख्याल (Tips for Before Corona Test) रखना चाहिए?

कोविड-19 टेस्ट कब कराना है जरूरी?

कोरोना के शिकार लोगों में कई लक्षण बहुत ही सामान्य होते हैं। जैसे- शरीर में दर्द, बुखार होना, खाने  का स्वाद न लगना, खुशबू न आना, सांस लेने में परेशानी इत्यादि। इसके अलावा कोरोना की दूसरी लहर में आंखें लाल होना, दस्त होना और कानों में दिक्कत होना जैसी समस्याएं हो रही हैं। ऐसे में इन समस्याओं को नजरअंदाज करना आपके लिए घातक हो सकता है। इसलिए जब भी आपके शरीर में इस तरह के लक्षण दिखें, तुरंत डॉक्टर से संपर्क करें। ताकि आप खुद को और अपने परिवार को कोरोना के प्रकोप से बचा सकें।

इसे भी पढ़ें - केंद्र सरकार का बड़ा फैसला, 1 मई से 18 साल से अधिक उम्र के लोग लगा सकते हैं कोरोना का टीका

कोरोना टेस्ट की जरूरत कब नहीं होगी?

वैक्सीन की दोनों डोज लेने के बाद अगर आपको 2 सप्ताह तक किसी तरह की परेशानी न हो, तो ऐसे में अगर आप किसी मरीज के संपर्क में आ रहे हैं, तो आपको कोरोना टेस्ट कराने की जरूरत नहीं है।

टेस्ट कराते वक्त रखें दूरी

अगर आप कहीं बाहर टेस्ट कराने जा रहे हैं या फिर घर में ही किसी को टेस्ट कराने के लिए बुला रहे हैं, तो टेस्ट करने वालों से थोड़ी दूरी बनाकर रखें। क्योंकि हो सकता है, इनके द्वारा पिछला टेस्ट किसी कोविड-19 मरीज को किया गया हो। ऐसे में अगर आप कोविड-19 निगेटिव भी आते हैं, तो आगे चलकर आपको कोविड-19 पॉजिटिव होने का खतरा बढ़ सकता है।

इसे भी पढ़ें - सरकार ने घटा दी रेमडेसिविर इंजेक्शन की कीमतें, जानें क्यों इतना ज्यादा डिमांड में है ये इंजेक्शन

लक्षण दिखने के बाद कौन सा टेस्ट कराएं

शरीर में कोरोना के लक्षण दिखने के बाद आपको अगर इस बात का कंफ्यूजन है कि आपको कौन सा टेस्ट कराना है, तो आपको बता दें कि मार्केट में कोविड टेस्ट 2 तरीके से किया जाता है। RT-PCR और दूसरा है रैपिड एंटीजन टेस्ट। लेकिन एक्सपर्ट का कहना है कि रैपि़ एंटीजन टेस्ट की रिपोर्ट सही साबित नहीं होती है। ऐसी स्थिति में  RT-PCR टेस्ट कराना ही आपके लिए सही हो सकता है।

इस बारे में MI हॉस्पिटल के फिजीशियन का कहना है कि कोरोना की दूसरी स्ट्रेन लोगों के लिए काफी खतरनाक साबित हो रही है। इसलिए यह दोनों टेस्ट आज के समय में सही रिपोर्ट दें, ऐसा जरूरी नहीं है। इसलिए अगर लक्षण दिखने के बावजूद आपकी टेस्ट रिपोर्ट निगेटिव आए, तो एमआरआई या फिर चेस्ट एक्सरे कराना जरूरी हो जाता है।

Read more articles on Miscellaneous in Hindi

Disclaimer