विटामिन बी कॉम्पलेक्स है नर्वस सिस्टम और दिमाग के लिए बेहद जरूरी, जानें इसके फायदे और स्रोत

विटामिन बी कॉम्पलेक्स शरीर के लिए एक महत्वपूर्ण विटामिन है। जानें इस विटामिन की कमी के लक्षण और इसके स्रोत, जिनसे आप इस विटामिन की कमी पूरी कर सकते है

Anurag Anubhav
Written by: Anurag AnubhavPublished at: Feb 05, 2014Updated at: Jun 16, 2021
विटामिन बी कॉम्पलेक्स है नर्वस सिस्टम और दिमाग के लिए बेहद जरूरी, जानें इसके फायदे और स्रोत

विटामिन्स हमारे शरीर के लिए जरूरी होते हैं। आपने कई अलग-अलग तरह के विटामिन्स के बारे में सुना होगा जैसे- विटामिन सी, विटामिन ए, विटामिन बी, विटामिन डी आदि। इनमें से विटामिन बी (Vitamin B Complex) सेहत के लिए एक महत्वपूर्ण अवयव है, जिसकी हम आज चर्च करने वाले हैं। विटामिन बी कॉम्पलेक्स जल में घुलनशील होने वाला विटामिन है। क्या आप जानते हैं कि शरीर में विटामिन बी कॉम्पलेक्स की कमी से याददाश्त कमजोर हो सकती है। इसके अलावा अचानक थकान महसूस करने या बहुत ज्यादा तनाव महसूस करने की एक वजह भी विटामिन बी कॉम्प्लेक्स की कमी हो सकती है। विटामिन बी कॉम्पलेक्स एक ऐसा तत्व है, जो मस्तिष्क और तंत्रिका तंत्र को सही से काम करने में मदद करता है। इसकी कमी सेहत के लिए नुकसानदेह साबित हो सकती है।

क्यों है जरूरी विटामिन बी कॉम्पलेक्स? (Why is Vitamin B Complex Important For Health)

विटामिन बी कॉम्पलेक्स मेटॉबालिज्म बढ़ाता है। यह भोजन को ऊर्जा में बदलने के काम करता है। इसके अलावा ये हमारी कोशिकाओं में पाए जाने वाले जीन और डीएनए को बनाने और उनकी मरम्मत में सहायता करता है। यह ब्रेन, स्पाइनल कॉर्ड और नसों के कुछ तत्वों की रचना में भी सहायक होता है। हमारी लाल रक्त कोशिशओं का निर्माण भी इसी से होता है। यह शरीर के सभी हिस्सों के लिए अलग-अलग तरह के प्रोटीन बनाने का भी काम करता है।

इसे भी पढ़ेंः रोजाना अंडे खाने के हैं शौकीन तो जान लें इससे जुड़े फायदे और नुकसान, नहीं तो पड़ सकता है पछताना

विटामिन बी कॉम्पलेक्स की कमी के क्या हैं लक्षण (Signs of Vitamin B Complex Deficiency)         

विटामिन बी कॉम्पलेक्स की कमी से हाथ-पैरों में झनझनाहट और जलन, जीभ में सूजन, कुछ भी याद रखने में परेशानी, त्वचा का पीला पड़ना, कमजोरी महसूस होना, चलने में कठिनाई, अनावश्यक थकान, डिप्रेशन आदि समस्याएं हो सकती हैं। अगर शरीर में विटमिन बी-12 की बहुत ज्यादा कमी हो जाए तो इससे स्पाइनल कोर्ड की नसें नष्ट होने लगती हैं। ऐसी स्थिति में व्यक्ति को पैरालिसिस का भी अटैक हो सकता है। 

विटामिन बी कॉम्पलेक्स के स्रोत (Sources of Vitamin B Complex)

अक्सर यह सवाल उठता है कि हमें अपने खानपान में किन चीजों को शामिल करना चाहिए, ताकि शरीर में विटामिन बी कॉम्पलेक्स की कमी न हो। हालांकि मांसाहारी पदार्थों में विटामिन बी कॉम्पलेक्स की भरपूर मात्रा होती है, परन्तु शाकाहारी लोगों को विशेष रूप से अपने भोजन पर ध्यान देना चाहिए। विटामिन बी कॉम्पलेक्स के कुछ मुख्य स्रोत है। हमें डेरी उत्पादों का सेवन भरपूर मात्रा में करना चाहिए जैसे दूध, दही, पनीर, चीज, मक्खन, सोया मिल्क आदि। इसके अलावा जमीन के भीतर उगने वाली सब्जियों जैसे आलू, गाजर, मूली, शलजम, चुकंदर आदि में भी विटामिन बी आंशिक रूप से पाया जाता है।

इसे भी पढ़ेंः वजन घटाने के साथ आपको हेल्दी भी रखती है Satiating Diet, जानें क्यों है दूसरों से अलग

विटामिन बी कॉम्पलेक्स के रूप

विटामिन- बी कोई एक तत्व नहीं होता। यह कई रूपों में पाया जाता है। मुख्य रूप से इसकी संख्या चार है- बी-1, बी- 2, बी- 6 और बी- 16 इत्यादि। इन्हें सम्मिलित रूप से ‘बी-कम्पलेक्स’ कहा जाता है। बी-कम्पलेक्स विटामिन-सी (एस्कॉर्बिक एसिड) की भांति जल में घुलनशील है।

विटामिन- बी1 (Vitamin B1)

इस समूह का पहले सदस्य ‘थाइमीन’ है। अत: इसे बी-1 कहा जाता है। यह स्नायु और पाचन-प्रणाली को स्वस्थ रखता है। रोगाणुओं से संघर्ष करने की शक्ति प्रदान करता है। इसकी कमी से भूख कम लगती है। कमजोरी का अनुभव होता है। ‘बेरी-बेरी’ नामक रोग हो जाता है। मानसिक असंतुलन की समस्या पैदा होती है। यह हमे जौ, बाजरा, ज्वार, मैदा, चावल, सोयाबीन, गेहूं, अंकुरित अनाज, दलिया, मटर और मूंगफली से प्राप्त होता है।

विटामिन बी- 12 (Vitamin B12)

इस विटामिन को ‘राइबो-फ्लोबिन’ भी कहते हैं। यह मुंह, जीभ और नेत्रों के लिए आवश्यक है। इसकी कमी से जीभ लाल हो जाती है, मुंह में छाले पड़ जाते हैं। मुंह के कोण फट जाते हैं, नासिका द्वार पर पपड़ी हो जाती है। आंखें कमजोर हो जाती हैं। दूध, खमीर, अनाज, दालें, दही और हरी पत्तेदार सब्जियां इसके प्रमुख स्रोत हैं।

विटामिन बी- 6 (Vitamin B6)

इसको रसायन विज्ञान की भाषा में ‘पाइरीडॉक्सीन’ कहते हैं। यह त्वचा के लिए आवश्यक है। इसकी कमी से बुध्दि मंद पड़ जाती है। शरीर में ऐंठन आती है। यह दूध, कलेजी, खमीर, मांस और अनाज में पाया जाता है।

विटामिन- बी12 का रासायनिक नाम ‘सायनोकाबालामीन’ है। यह त्वचा, तंत्रिका, उत्तक, हड्डियों और मांसपेशियों के लिए जरूरी है। इसकी कमी से एनीमिया रोग हो जाता है। यह मुख्यत: मांस, मछली, अंडा, दूध और पनीर से मिलता है।

बी- कम्पलेक्स में अन्य विटामिन इस प्रकार हैं- नाइकोटोनिक एसिड, बायोटीन, पैन्टोथेनिक एसिड और फालिक एसिड इत्यादि।

बी-कम्पलेक्स को दवा के रूप में भी सेवन कर सकते हैं। अधिकतर विटामिन की दवाइयों के साथ विटामिन- सी भी मिला हुआ रहता है। अनेक मशहूर ब्रांड के बी-कम्पलेक्स की दवाइयां मिलती है। जिनमें प्रमुख हैं- कोबाडेक्स फोर्ट कैप्सूल, बी- फ्लेक्स फोर्ट टेबलेट, पोली-विषयन सीरप व टेबलेट, बीको जाइमसी-फोर्ट टेबलेट, बेसीलेक इत्यादि।

Read More Articles On Healthy Diet in Hindi

 

Disclaimer