खाने में क्यों जरूरी है 'सेलेनियम' तत्व? जानें सेलेनियम से भरपूर फूड्स और इससे मिलने वाले फायदे

सेलेनियम शरीर के लिए एक बेहद जरूरी मिनरल है। जानें किन चीजों को खाने से आपको सेलेनियम मिलता है और इसे खाना क्यों जरूरी है।

Anurag Anubhav
Written by: Anurag AnubhavUpdated at: Jan 28, 2020 04:17 IST
खाने में क्यों जरूरी है 'सेलेनियम' तत्व? जानें सेलेनियम से भरपूर फूड्स और इससे मिलने वाले फायदे

शायद आपने सेलेनियम के बारे में पहले न सुना हो, मगर शरीर के लिए एक महत्वपूर्ण तत्व है। सेलेनियम कई आहारों में प्राकृतिक रूप से पाया जाता है। हमारे शरीर को बहुत कम मात्रा में सेलेनियम की जरूरत होती है, मगर ये हमें स्वस्थ रखने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। मेटाबॉलिज्म से लेकर थायरॉइड फंक्शन तक, शरीर के कई महत्वपूर्ण काम बिना सेलेनियम के संभव नहीं है। सेलेनियम शरीर में आयोडीन को रेगुलेट करता है। आइए आपको बताते हैं सेलेनियम के फायदे और इसके प्रमुख स्रोतों के बारे में।

शरीर के लिए क्यों जरूरी है सेलेनियम?

  • विटामिन ई के साथ मिलकर सेलेनियम शरीर को ऑक्सिडेटिव डैमेज से बचाता है। इसलिए ये एक तरह से एंटीऑक्सिडेंट का काम करता है।
  • सेलेनियम हमारे शरीर में आयोडीन को नियंत्रित करता है और विटामिन सी को रिसाइकिल करने में मदद करता है, जिससे सेल्स का निर्माण और रिपेयरिंग संभव हो पाती है।
  • शरीर में बनने वाले एक खास एंटीऑक्सीडेंट ग्लूटाथायोन (Glutathione) को बनाने के लिए भी सेलेनियम महत्वपूर्ण है।
  • ऑक्सिडेटिव स्ट्रेस को कम करने के कारण सेलेनियम कई तरह के कैंसर के खतरों को भी कम करता है।
  • रिसर्च बताती हैं कि सेलेनियम की कमी से दिल की बीमारियों का खतरा बढ़ता है। इसलिए सेलेनियम से भरपूर आहार खाने से आपका हृदय भी स्वस्थ रहता है।
  • शरीर को वायरस, बैक्टीरिया और पैरासाइट्स के अटैक से बचाने के लिए इम्यून सिस्टम का मजबूत होना बहुत जरूरी है। सेलेनियम इम्यूनिटी बूस्ट करने में भी मददगार होता है।

कितना सेलेनियम है जरूरी?

नैशनल इंस्टीट्यूट ऑफ हेल्थ के अनुसार, आमतौर पर 14 साल से बड़ी उम्र के लोगों के लिए एक दिन में 55 माइक्रोग्राम सेलेनियम जरूरी है। वहीं नवजात शिशुओं के लिए 20 माइक्रोग्राम और बच्चों के लिए 30-40 ग्राम सेलेनियम का सेवन रोजाना जरूरी है।

सेलेनियम से भरपूर आहार (Foods Rich in Selenium)

  • अंडों में सेलेनियम की मात्रा अच्छी होती है। सिर्फ 1 उबला अंडा खाकर ही आपको 20 माइक्रोग्राम सेलेनियम मिल जाता है। अंडे से बनी सभी डिशेज आपके लिए फायदेमंद हैं।
  • 1 कप उबले हुए ब्राउन राइस में 19 माइक्रोग्राम सेलेनियम होता है।
  • सूरजमुखी के बीज (Sunflower Seeds) भी सेलेनियम का अच्छा स्रोत है। एक चौथाई कप बीजों में 19 माइक्रोग्राम सेलेनियम होता है।
  • समुद्री आहार जैसे- ट्यूना मछली, ऑइस्टर्स, क्लैम्स, श्रिम्प (shrimp), सैल्मन, क्रैब आदि में सेलेनियम की अच्छी मात्रा पाई जाती है।
  • कॉटेज चीज़ भी सेलेनियम का अच्छा स्रोत है। एक कप कॉटेज चीज़ में लगभग 20 माइक्रोग्राम सेलेनियम होता है।
  • इसके अलावा मशरूम, ओट्स, पालक, दूध, योगर्ट, काजू, दाल, केला आदि सभी में सेलेनियम की अच्छी मात्रा पाई जाती है। इसलिए इन सभी का सेवन आपको रोजाना के खानपान में करते रहना चाहिए।

किन लोगों को कम खाना चाहिए सेलेनियम?

वैसे तो सेलेनियम वाले फूड्स हर किसी के लिए फायदेमंद होते हैं। मगर कुछ खास रोगों और स्थितियों में आपका शरीर सेलेनियम को पचाने में असमर्थ हो सकता है। इसलिए अगर आपको निम्न में से कोई समस्या है, तो आपको अपने चिकित्सक से सलाह लेकर ही सेलेनियम वाले फूड्स खाने चाहिए।

  • अगर आपके किडनी की डायलिसिस हो रही है।
  • अगर आप एचआईवी पॉजिटिव हैं।
  • अगर आपको गैस्ट्रोइंटेस्टाइनल समस्या जैसे- क्रोंस डिजीज आदि है।
  • अगर आप हाइपोथायरॉइडिज्म के शिकार हैं।

Read more articles on Healthy Diet in Hindi

Disclaimer