बच्‍चे के व्‍यवहार से नाखुश हैं, तो कैसे उसे बताएं ये बात? जानें सही तरीका

अपने बच्‍चे के बुरे व्‍यवहार को लेकर च‍िंत‍ित हैं और उसे बदलना चाहते हैं, तो जानें बच्‍चे से इस बारे में कैसे बात करना चाह‍िए।

Yashaswi Mathur
Written by: Yashaswi MathurPublished at: Jul 10, 2022Updated at: Jul 10, 2022
बच्‍चे के व्‍यवहार से नाखुश हैं, तो कैसे उसे बताएं ये बात? जानें सही तरीका

बच्‍चे की पर‍वर‍िश आसान नहीं होती। इस दौरान माता-प‍िता को कई तरह की समस्‍याओं का सामना करना पड़ता है। कई बार पर‍वर‍िश के गलत तरीकों का असर बच्‍चों के व्‍यवहार पर पड़ने लगता है इसल‍िए आपको पर‍वर‍िश के सही तरीकों के बारे में जान लेना चाह‍िए। बात करें बच्‍चों के व्‍यवहार की तो माता-प‍िता उनके व्‍यवहार को बेहतर पहचानते हैं। अगर आप नोट‍िस कर रहे हैं क‍ि बच्‍चे के व्‍यवहार में कोई गलत बदलाव या आदत शाम‍िल हुई है, तो आपको इस बारे में बच्‍चे  से जरूर बात करनी चाहिए। इस लेख में हम आगे बात करेंगे क‍ि बच्‍चे के गलत व्‍यवहार के बारे में उसे सही तरीके से कैसे बता सकते हैं। 

nature of child in hindi  

1. बच्‍चे को उसकी गलती के बारे में बताएं

गलत व्‍यवहार को ठीक करने से पहले उसे जानना जरूरी है। आप बच्‍चे से बात करें। उसे समझाएंं क‍ि उसके व्‍यवहार से जुड़ी कौन सी बात आपको पसंद नहीं है। गलत व्‍यवहार का कारण और उससे होने वाले नुकसान के बारे में भी आप बच्‍चे से बात करें। कई बार केवल बात करने से ही बच्‍चों को अपनी गलती समझ आ जाती है इसल‍िए इसे पहला स्‍टेप बनाएं।

इसे भी पढ़ें- बच्चों को जिद्दी बना सकती हैं पेरेंट्स की ये छोटी-छोटी गलतियां, परवरिश में रखें इनका ध्यान  

2. बच्‍चों को उदाहरण से समझाएं उनकी गलती 

अगर आपको लग रहा है क‍ि बच्‍चे में कोई बुरी आदत है, तो बच्‍चे को समझाने के ल‍िए उदाहरण की मदद लें। आपको बच्‍चे के व्‍यवहार से जुड़ी गलती को क‍िसी ऐसे संदर्भ  से समझाएं, जिसे उसके लिए समझना आसान हो। आप क‍िसी फ‍िल्‍म या कार्टून के दृश्‍य के जर‍िए भी बच्‍चे को  अपनी बात समझा सकते हैं।   

3. दूसरे बच्‍चों से न करें तुलना 

अक्‍सर माता-प‍िता बच्‍चे के व्‍यवहार को क‍िसी दूसरे बच्‍चे के व्‍यवहार से कंपेयर करने लगते हैं। इस आदत से बच्‍चे के मन पर बुरा असर पड़ सकता है। आपको इस बात का खास ख्‍याल रखना है क‍ि आप बच्‍चे के व्‍यवहार से जुड़ी गलती को बताते समय, क‍िसी अन्‍य की तारीफ या उसके व्‍यवहार के बारे में बात न करें।     

4. बच्‍चे को बार-बार न टोकें 

अगर आप बच्‍चे की क‍िसी आदत को नापसंद करते हैं, तो उसके ल‍िए बच्‍चे को बार-बार न टोकें। बच्‍चे को बार-बार एक ही बात के ल‍िए डांटने या बोलने से उसके व्‍यवहार में च‍िड़च‍िड़ापन आ सकता है। बच्‍चे को प्‍यार से समझाएं और बताने की कोश‍िश करें क‍ि क‍िस कारण से आप बच्‍चे के व्‍यवहार को लेकर च‍िंत‍ित हैं।     

5. गुस्‍से से बिगड़ सकती है बात   

बच्‍चे को उसके बुरे व्‍यवहार के बारे में बताते समय गुस्‍सा न करें। ह‍िंसक भाषा या एक्‍शन से बात ब‍िगड़ सकती है। आपको बच्‍चे के गलत व्‍यवहार के बारे में उसे प्‍यार और धैर्य रखकर बताना है। गुस्‍से के कारण बच्‍चा ज‍िद्दी हो जाता है और आपकी बात उसे समझ नहीं आएगी। 

इन ट‍िप्‍स को करें फॉलो 

अगर आपको लग रहा है क‍ि बच्‍चे का व्‍यवहार सही नहीं है, तो उसे बेहतर बनाने के ल‍िए इन ट‍िप्‍स को आजमाएं- 

  • आप बच्‍चे को समय दें। कई बार बच्‍चे अपनी प्रॉब्‍लम्‍स शेयर नहीं कर पाते और गलत व्‍यवहार अपना लेते हैं। आप बच्‍चे को समय दें, ताक‍ि वो आपसे अपने मन की बात शेयर कर पाए।
  • पेरेंट्स के ज्‍यादा सख्‍त होने से बच्‍चे च‍िड़च‍िड़े हो जाते हैं और उनके व्‍यवहार में बदलाव नजर आता है। आप बच्‍चे के प्रत‍ि ज्‍यादा सख्‍ती न बरतें।
  • ज‍िन बच्‍चों के माता-प‍िता उनकी बात नहीं सुनते उनमें भी गलत व्‍यवहार के लक्षण नजर आ सकते हैं। आप बच्‍चे की बात को  संजीदगी से सुनें और प्‍यार से उस बात का जवाब दें। 

इन आसान ट‍िप्‍स को फॉलो करके आप बच्‍चे को गलत व्‍यवहार या आदत से बचा सकते हैं।   

Disclaimer