कोई भी दवा खरीदने से पहले जान लें ये 5 बातें, जरा सी गलती ले सकती है जान

दवाईयों के पीछे छपी जानकारी में लिखा होता है कि आपको कब, कैसे और किस तरीके से दवा लेनी है और उसके क्या-क्या दष्परिणाम हो सकते हैं। लेकिन उसके पीछे लिखी जानकारी को समझना थोड़ा मुश्किल होता है। 

 

Jitendra Gupta
Written by: Jitendra GuptaPublished at: Jul 04, 2019Updated at: Jul 04, 2019
कोई भी दवा खरीदने से पहले जान लें ये 5 बातें, जरा सी गलती ले सकती है जान

जब भी आप मेडिकल स्टोर या फार्मेसी से दवा खरीदते हैं तो उस पर बहुत सी महत्वपूर्ण जानकारियां छपी हुई होती है। दवाईयों के पीछे छपी जानकारी में लिखा होता है कि आपको कब, कैसे और किस तरीके से दवा लेनी है और उसके क्या-क्या दष्परिणाम हो सकते हैं। लेकिन उसके पीछे लिखी जानकारी को समझना थोड़ा मुश्किल होता है। इसलिए हम आपको ऐसे पांच तरीकों के बारे में बताने जा रहे हैं, जिनके जरिए आप दवा के लेबल को आसानी से पढ़ पाएंगे व उन्हें समझकर खतरनाक गलतियों से दूर रहेंगे। 

दवा में मौजूद सामग्री (Active Ingredient and Purpose)

दवा खरीदने के बाद उसके लेबल के शीर्ष पर खोजें। इसके जरिए दवा में मौजूद घटक के बारे में पता लगता है साथ ही यह किन लक्षणों का इलाज करता है और दवा का प्रकार क्या है इसके बारे में बताता है। इसके जरिए आपको पता लग जाएगा कि ये दवा एंटीहिस्टामाइन है या दर्द निवारक। इसके जरिए आपको यह भी पता चलता है कि प्रत्येक खुराक में दवा कितनी है। इसके साथ ही आपको यह सुनिश्चित करना होगा आप समान घटक वाली कोई अन्य दवा तो नहीं ले रहे हैं  क्योंकि समान कंपोजिश्न वाली दवा खाने से आपका स्वास्थ्य प्रभावित हो सकता है।

प्रयोग (Uses)

यह खंड आपको आपके द्वारा खरीदी गई दवा के बारे में जानकारी देगा कि वह दवा किन लक्षणों या बीमारियों का उपचार कर सकती है। उदाहरण के लिए दर्द निवारक लेबल पर यह लिखा हो सकता है कि यह दांत दर्द, सिरदर्द, जोड़ों के दर्द और मासिक धर्म की ऐंठन को कम करती है। नई दवा लेते वक्त हमेशा इस हिस्से की जांच करें और यह सुनिश्चित करें कि जिस चीज की आपको तकलीफ है क्या यह उसको हल करने में कारगार है।

इसे भी पढ़ेंः जरा सी चोट को गंभीर बना सकती है खून पतला करने वाली दवा, इन 5 आसान तरीकों से लें ये दवा

चेतवानी (Warnings)

यह दवा के लेबल पर छपी सबसे महत्वपूर्ण जानकारियों में से एक है और यह आमतौर पर सबसे जरूरी भी है। यह आपको दवा के बारे में सुरक्षा विवरण प्रदान करता है। आपको इस पर निम्नलिखित जानकारियां मिलेंगी।

  • किसे यह दवा नहीं लेनी चाहिए।
  • कब इसका उपयोग करना बंद कर देना चाहिए। 
  • डॉक्टर को कब बुलाना होगा। 
  • इसके दुष्प्रभाव।

इससे आपको यह भी जांचने में मदद मिलेगी कि किन स्वास्थ्य स्थितियों या अन्य दवाओं के साथ इसे लेना सुरक्षित नहीं होगा।

इसे भी पढ़ेंः इन 5 तरीकों से जानें पेशाब का रंग कैसे बताता है आपका स्वास्थ्य, कई समस्याओं का हो सकता है संकेत

दिशा-निर्देश  (Directions)

इस हिस्से को ध्यानपूर्वक पढ़ें। यह आपको बताएगा कि आपको कितनी दवा लेनी है और इसे कितनी मात्रा में लिया जाना चाहिए। उदाहरण के लिए इस पर लिखा हो सकता है कि प्रत्येक 4 से 6 घंटे में दो गोलियां लेनी है। बिना डॉक्टर से परामर्श लिए दवा न लें या लेबल पर लिखी मात्रा से ज्यादा न लें। यह दिशा-निर्देश उम्र के हिसाब से भी लिखे होते हैं ताकि आपका बच्चा कितनी मात्रा में दवा ले या कितनी नहीं। इसके अलावा इसपर दिन में आपको अधिकतम कितनी मात्रा लेनी चाहिए इस बारे में लिखा होता है।

अन्य जानकारियां (Other Information)

गर्मी और आर्द्रता कभी-कभार दवा को नुकसान पहुंचा सकती है इसलिए गर्म मौसम में इन्हें अपने बाथरूम या कार में रखना बिल्कुल भी अच्छा विचार नहीं है। दवा लेबल का यह हिस्सा आपको उत्पाद को किस तापमान पर रखना है इसके बारे में बताता है। यह आपको सुनिश्चित करने के भी याद दिलाता है कि आपके उपयोग करने से पहले पैकेज की सुरक्षा सील को तोड़ा तो नहीं गया है या फिर उससे छेड़छाड़ तो नहीं की गई है।

Read More Articles On Miscellaneous in Hindi

Disclaimer