Doctor Verified

सर्दी में नवजात शिशु को इंफेक्शन से बचाने के लिए फॉलो करें डॉक्टर के बताए ये 5 टिप्स

Newborn Care Tips During Winter: सर्दि‍यों में नवजात श‍िशु संक्रमण की चपेट में आसानी से आ जाते हैं। डॉक्‍टर से जानें व‍िंटर केयर ट‍िप्‍स।  

Yashaswi Mathur
Written by: Yashaswi MathurUpdated at: Dec 29, 2022 11:00 IST
सर्दी में नवजात शिशु को इंफेक्शन से बचाने के लिए फॉलो करें डॉक्टर के बताए ये 5 टिप्स

3rd Edition of HealthCare Heroes Awards 2023

Winter Care Tips for Babies: सर्द‍ियों का मौसम सभी के ल‍िए नाजुक होता है। खासकर नवजात श‍िशुओं के ल‍िए क्‍योंक‍ि उनकी रोग प्रत‍िरोधक क्षमता हमारे मुकाबले कमजोर होती है। बच्‍चे की इम्‍यून‍िटी व‍िकस‍ित होने में 9 महीने का समय लगता है। इस दौरान श‍िशु बीमारी की चपेट में जल्‍दी आ जाते हैं। नवजात श‍िशु में संक्रमण त्‍वचा, आंख, मुंह, कान या और कहीं से भी हो सकता है। ऐसे में आपको व‍िशेष सावधानी बरतने की जरूरत है। सर्द‍ियों के द‍िनों में वायरस और बैक्‍टीर‍िया के संपर्क में आने से श‍िशु के पेट में दर्द, उल्‍टी, दस्‍त आद‍ि समस्‍याएं होने लगती हैं। ये समस्‍याएं गंभीर रूप ले सकती हैं। सर्द‍ियों में नवजात श‍िशु को हेल्‍दी रखने के ल‍िए आपको खास व‍िंटर हेल्‍थ केयर ट‍िप्‍स (Winter Health Care Tips in Hindi) जाननी चाह‍िए। इन ट‍िप्‍स पर डॉक्‍टर से आगे बात करेंगे। इस व‍िषय पर बेहतर जानकारी के ल‍िए हमने लखनऊ के केयर इंस्‍टिट्यूट ऑफ लाइफ साइंसेज की एमडी फ‍िजिश‍ियन डॉ सीमा यादव से बात की।         

1. श‍िशु को ठंडी हवा से बचाएं

newborn care tips in hindi

सर्द‍ियों में ठंडी हवा की चपेट में आने से नवजात श‍िशु बीमार हो जाते हैं। उनके शरीर को सर्द हवा से बचाने के ल‍िए आसपास का तापमान गरम रखें। बच्‍चे के ल‍िए सही कपड़ों का चुनाव करें। हालांक‍ि बच्‍चे को कपड़ों की कई परतों में बांधकर रखने की गलती न करें। इससे उनका शरीर ओवर हीट‍िंग का श‍िकार हो जाएगा और बच्‍चे को घबराहट महसूस होगी। श‍िशु के ब‍िस्‍तर पर भी मुलायम और गरम कपड़े को ब‍िछा सकते हैं।

इसे भी पढ़ें- शिशु को 6 माह की उम्र तक इन 6 बीमारियों का रहता है ज्यादा खतरा, एक्सपर्ट से जानें कारण और बचाव के टिप्स     

2. तेल से श‍िशु की माल‍िश करें 

नवजात श‍िशु के शरीर को गरम रखने के ल‍िए तेल की माल‍िश कर सकते हैं। इससे श‍िशु की मांसपेश‍ियां तो मजबूत होंगी ही साथ ही संक्रमण से भी बचाव होगा। श‍िशु के शरीर में तेल की माल‍िश करने से त्‍वचा में बैक्‍टीर‍ियल या फंगल इंफेक्‍शन होने की आशंका घट जाती है। माल‍िश के ल‍िए सरसों का तेल या नार‍ियल व बादाम के तेल का इस्‍तेमाल कर सकते हैं।   

3. टीका लगवाना न भूलें 

मौसम बदलने के साथ बीमारी और संक्रमण का खतरा बढ़ जाता है। अपने श‍िशु को संक्रमण से बचाने के ल‍िए उन्‍हें जरूरी वैक्‍सीन लगवा दें। टीकाकारण की मदद से श‍िशु की इम्‍यून‍िटी मजबूत होती है। श‍िशु की इम्‍यून‍िटी बढ़ाने के ल‍िए ध्‍यान रखें क‍ि मां भी हेल्‍दी रहे। स्‍तनपान के जर‍िए मां के शरीर से जरूरी पोषक तत्‍व श‍िशु को म‍िलते हैं। अगर मां ही कमजोर होगी, तो श‍िशु की इम्‍यून‍िटी जल्‍दी नहीं बढ़ पाएगी।         

4. खुद की सफाई पर गौर करें 

श‍िशु के पास जाने से पहले ध्‍यान रखें आपने हाथों को अच्‍छी तरह से साफ क‍िया हो। श‍िशु को गंदे हाथों से छूने से उसे त्‍वचा रोग और बीमारी होने का खतरा बढ़ जाता है। श‍िशु के कपड़ों को रोजाना बदलें। घर में ज्‍यादा सदस्‍य हैं, तो श‍िशु के कपड़े द‍िन में 2 या अध‍िक बार बदलें। श‍िशु को छूने से पहले और बाद में हाथों को अच्‍छी तरह से साबुन और पानी से साफ करें। छींकते समय श‍िशु से दूर रहें। घर में कोई बीमार है, तो उसे भी श‍िशु से दूर रखें।  

5. श‍िशु को स्‍तनपान कराएं 

नवजात श‍िशु की इम्‍यून‍िटी कमजोर होती है। ऐसे में श‍िशु को संक्रमण और बीमार‍ियों का खतरा ज्‍यादा रहता है। 6 माह तक वो केवल स्‍तनपान पर न‍िर्भर रहता है। आपको ध्‍यान रखना है क‍ि उसे पर्याप्‍त मात्रा में दूध म‍िले। लैक्‍टेशन संबंधी समस्‍या के ल‍िए आप डॉक्‍टर से संपर्क कर सकते हैं। अगर श‍िशु स्‍तनपान नहीं कर पाता है, तो उसे कटोरी-चम्‍मच की मदद से मां का दूध प‍िलाएं।    

ऊपर बताई आसान ट‍िप्‍स की मदद से श‍िशु को संक्रमण और बीमार‍ियों से बचा सकते हैं। लेख पसंद आया हो, तो शेयर करना न भूलें।

Disclaimer