Expert

Milk Benefits: दूध खड़े होकर पीना चाहिए या बैठकर? जानें एक्सपर्ट की राय

How To Drink Milk Standing Or Sitting: दूध खड़े होकर पीना ज्यादा फायदेमंद है या बैठकर, इसको लेकर लोग काफी असमंजस में रहते हैं। जानें एक्सपर्ट की राय।

Vineet Kumar
Written by: Vineet KumarPublished at: Aug 05, 2022Updated at: Aug 05, 2022
Milk Benefits: दूध खड़े होकर पीना चाहिए या बैठकर? जानें एक्सपर्ट की राय

How To Drink Milk Standing Or Sitting In Hindi: संपूर्ण स्वास्थ्य के लिए दूध का सेवन बहुत फायदेमंद होता है। इसलिए हेल्थ एक्सपर्ट रोजाना दूध पीने की सलाह देते हैं। दूध में प्रोटीन, कैल्शियम, विटामिन डी और बी विटामिन जैसे जरूरी पोषक तत्व प्रचुर मात्रा में होते हैं। इसलिए मांसपेशियों को मजबूत बनाने की बात हो या फिर हड्डियों और दांतों को मजबूत बनाने की, रोजाना दूध पीने से अनेक फायदे मिलते हैं। जोड़ों में दर्द और ऑस्टियोआर्थराइटिस, हड्डियों में फ्रैक्चर के जोखिम को कम करने में भी दूध बहुत मदद करता है। लेकिन दूध के सेवन को लेकर लोग काफी असमंजस में रहते हैं, कि दूध का सेवन खड़े होकर पीना ज्यादा फायदेमंद होता है या बैठकर पीना? क्योंकि ऐसा माना जाता है कि बैठकर दूध पीने से सेहत को कुछ नुकसान भी पहुंच सकते हैं। दूध खड़े होकर पीना चाहिए या बैठकर (dudh khade hokar pina chahie ya nahin)? इसके बारे में अधिक जानने के लिए हमने क्लीनिकल न्यूट्रिशनिस्ट और डायटीशियन गरिमा गोयल से बात की। आइए जानते हैं किसी पोजीशन में दूध पीना है सुरक्षित।

correct position to drink milk in hindi

आइए पहले जानते हैं दूध पीने के फायदे- Health Benefits Of Milk In Hindi

  1. हड्डियों, दांत और मांसपेशियों को मजबूत बनाता है।
  2. वजन प्रबंधन में सहायक है।
  3. दिल के लिए बहुत फायदेमंद है और हृदय संबंधी रोगों के जोखिम को कम करने में मदद करता है।
  4. ब्लड शुगर और ब्लड प्रेशर को कंट्रोल रखने में सहायक है।
  5. पेट संबंधी समस्याओं को दूर करने में सहायक है।
  6. शरीर को ताकत प्रदान करता है और ऊर्जावान बनाता है।
  7. त्वचा और बालों को स्वस्थ रखने में मदद करता है।
  8. दिमाग और याददाश्त को तेज करने में लाभकारी है।

दूध खड़े होकर पीना चाहिए या बैठकर?- How To Drink Milk Standing Or Sitting In Hindi

डायटीशियन गरिमा के अनुसार आयुर्वेद में बैठकर दूध पीने से बचने की सलाह दी जाती है। वहीं, मेडिकल साइंस भी इसका समर्थन करता है। ऐसा इसलिए होता है क्योंकि जब आप बैठकर दूध पीते हैं तो इससे दूध आपके आधे शरीर में तो ठीक सर्कुलेट हो जाता है, लेकिन शरीर के निचले हिस्से में सर्कुलेट नहीं हो पाता है। यह आपके शरीर में दूध के सर्कुलेशन को प्रभावित करता है। आयुर्वेद के अनुसार अगर आप बैठकर दूध पीते हैं तो इससे आपके शरीर को दूध का पूर्ण लाभ नहीं मिल पाता है। अगर आप बैठकर एक बार में 200 ml दूध पीते हैं, तो आपके शरीर में सिर्फ 120-150 ml तक ही ठीक से अवशोषित हो पाता है। साथ ही बैठकर दूध पीने आपका पेट जल्दी भर जाता है, जिससे काफी असजता होती है, साथ ही कई बार इससे पेट दर्द जैसी समस्याओं का भी सामना करना पड़ता है। साथ ही अन्य पाचन और पेट संबंधी समस्याओं का सामना भी करना पड़ सकता है।

वहीं जब आप खड़े होकर दूध पीते हैं, तो दूध आपके शरीर के सभी अंगों तक बेहतर तरीके से सर्कुलेट होता है। आपका ब्लड फ्लो दूध का आसानी से शरीर में सर्कुलेशन कर देता है। इससे आप जितना दूध पीते हैं उसका आपके शरीर को लाभ अच्छी तरह मिलता है और पोषक तत्व भी बेहतर तरीके से अवशोषित होते हैं। इसलिए मोडर्न साइंस की मानें या मॉडर्न साइंस की, खड़े होकर दूध पीना ज्यादा फायदेमंद है।

इसे भी पढें: कृष्ण कमल के फूल (पैशन फ्लावर) के सेवन से मिलते हैं ये 7 फायदे

एक्सपर्ट क्या सलाह देते हैं

डायटीशियन गरिमा के अनुसार यह सही है कि बैठकर दूध पीने से खड़े होकर दूध पीना ज्यादा फायदेमंद होता है। हालांकि, हमेशा खड़े होकर दूध पीना सभी के लिए मुमकिन नहीं हो पाता है। लेकिन कोशिश करें कि अगर अगर आप बैठकर दूध पी रहे हैं, तो धीरे-धीरे और घूंट-घूंट कर पिएं। साथ ही दूध पीने के बाद कोशिश करें कि कुछ मिनट टहलें या पैदल चलें। लेकिन रोजाना दूध जरूर पिएं।

All Image Source: Freepik.com

(With Inputs: Dietitian Garima Goyal, MS, RD, CDE, Founder- Dt. Garima Diet Clinic , Ludhiana, Punjab)

 

 

Disclaimer