अपने बच्चों के नकारात्मक व्यवहार को कैसे बदलें? जानें आसान टिप्स

अगर आप अपने बच्चे के बड़े होने के साथ-साथ उसके व्यवहार में नकारात्मक बदलाव देखते हैं, तो कुछ बातों को जानना आपके लिए बेहद जरूरी है।

Monika Agarwal
Written by: Monika AgarwalUpdated at: Oct 16, 2022 11:30 IST
अपने बच्चों के नकारात्मक व्यवहार को कैसे बदलें? जानें आसान टिप्स

Negative Behaviour Issues- हर माता-पिता चाहते हैं कि उनका बच्चा खुश रहे और उसे किसी भी प्रकार की कोई परेशानी न हो। लेकिन बच्चों के बड़े होने के साथ-साथ उनके व्यवहार में बदलाव आने लगता है, जो बिल्कुल नॉर्मल है। अकसर देखा जाता है कि बच्चों को हर समय डांटते रहना बच्चों से चिल्लाकर बात करना या बच्चों से बात-बात पर टोका टाकी करने के कारण बच्चे जिद्दी हो जाते हैं और दूसरों के साथ खराब व्यवहार करने लगते हैं। उनमें बदतमीजी करने, चिल्ला कर बात करने, बातों को अनसुना करने, अपने पेरेंट्स की बात पर ध्यान ना देने जैसी आदतें आने लगती हैं। इस तरह का व्यवहार अक्सर सभी पेरेंट्स के लिए काफी मुश्किल का सबब होता है। जिससे पेरेंट्स इस बात को लेकर काफी परेशान रहते हैं कि आखिर कैसे वे अपने बच्चे के व्यवहार को बदल सकते हैं। अगर आपका बच्चा बदतमीजी करता है, तो उस पर चिल्लाना या कंट्रोल करना कोई खास उपाय नहीं है, बल्कि उसे शुरुआत से ही गलत आदतों को अपनाने से रोकना चाहिए। इसके लिए निम्न बातों को ध्यान में रखकर आप अपने बच्चे के नकारात्मक व्यवहार में बदलाव ला सकते हैं

बच्चे को समझाएं उसकी गलती 

जब आपका बच्चा किसी के भी साथ बदतमीजी करता है, तो आप उसे उसी वक्त टोकें। उसे बताएं कि आखिर वह कहां गलत है। उसको असभ्य बनने से रोकने के लिए आपको उनकी बदतमीजी को बर्दाश्त नहीं करना, बल्कि प्यार से समझाना है। अपने बच्चों को अनुशासित करने के लिए उनके साथ मारपीट ना करें, बल्कि उनकी पसंदीदा चीजें, जैसे वीडियो गेम या फोन जैसी चीजों को उनसे दूर कर दें और जब तक उन्हें अपनी गलती का एहसास नहीं होता, तब तक उन्हें यह चीजें ना दें।

इसे भी पढ़ें- बच्चों में पॉजिटिव व्यवहार को बढ़ावा देने के लिए पेरेंट्स अपनाएं ये 6 टिप्स

बच्चे को बताएं सही गलत में फर्क- 

जब भी आप देखें कि आपका बच्चा किसी दूसरे को नीचा दिखा रहा है, तो उसे तुरंत रोक दें। बच्चे को बताएं कि सभी का सामान रूप से सम्मान और सभी के साथ अच्छा व्यवहार करना चाहिए। बच्चों को बताएं कि समाज में रहने वाले हर व्यक्ति, चाहे वह कहीं से हो, किसी जाति धर्म से हो, सभी को सम्मान की दृष्टि से देखना चाहिए। 

child misbehave

बच्चे के गुस्से को ना करें इग्नोर

पेरेंट्स को अपने बच्चों को धमकी देने या दूसरों को धमकाने की आदत को अनदेखा नहीं करना चाहिए। अगर आपका बच्चा अपने भाई बहन या पड़ोस या स्कूल में किसी को गाली देता है, तो उसे तुरंत रोक दें और समझाएं। एक बार सोचें कि अगर कोई दूसरा आपके बच्चे को धमकाएगा, तो क्या आप यह सहन कर पाएंगे।

इसे भी पढ़ें- 5 से 10 साल के बच्चों में हो सकती हैं व्यवहार से जुड़ी ये 6 समस्याएं, जानें इनसे बचाव के लिए क्या करें

बच्चे की झूठ बोलने की आदत छुड़ाएं

बच्चे छोटी-छोटी बातों में झूठ बोलने लगते हैं। इसलिए पेरेंट्स को जब भी इस बात का पता चले तभी अपने बच्चों को रोकना चाहिए। उन्हें सच बोलना सिखाने के लिए महान लोगों की कहानियां सुनाएं। उन्हें उन महान हस्तियों की कहानियां उदाहरण देकर सुनाएं, जिन्होंने अच्छे मार्ग पर चलकर सफलता पाई हो और नाम कमाया हो।

जब बच्चा बड़ा हो जाता है तो वह दूसरों के साथ गलत व्यवहार करना, झूठ बोलना, बदमाशी करना शुरू कर सकता है। इसीलिए अपने बच्चे को शुरुआत से ही सभ्य बनाने की कोशिश करें। उन्हें बताएं कि कैसे गलत रास्ते पर चलने से उनका फ्यूचर खराब हो सकता है।

Disclaimer