फंगल इंफेक्शन होने पर करें दही का इस्‍तेमाल, जानें सही तरीका

साफ-सफाई का ध्‍यान न रखने के कारण फंगल इंफेक्‍शन की समस्‍या हो सकती है, इसे दही से दूर क‍िया जा सकता है। जानें सही तरीका

Yashaswi Mathur
Written by: Yashaswi MathurPublished at: Jun 28, 2022Updated at: Jun 28, 2022
फंगल इंफेक्शन होने पर करें दही का इस्‍तेमाल, जानें सही तरीका

फंगल इंफेक्‍शन होना एक आम समस्‍या है। बरसात के द‍िनों में संक्रमण होने की आशंका ज्‍यादा होती है। अगर आप इसका इलाज न करें तो ये स्‍क‍िन के बड़े ह‍िस्‍से को प्रभाव‍ित कर सकती है। फंगल इंफेक्‍शन होने पर स्‍क‍िन पर रेडनेस, लाल चकत्ते, खुजली की समस्‍या आद‍ि महसूस हो स‍कती है। फंगल इंफेक्‍शन की समस्‍या को दूर करने के ल‍िए आप दही का इस्‍तेमाल कर सकते हैं। दही की मदद से फंगल व बैक्‍टीर‍ियल इंफेक्‍शन का इलाज क‍िया जाता है। दही को कई तरीके से स्‍क‍िन में संक्रमण को दूर करने के ल‍िए यूज कर सकते हैं, जानते हैं ऐसे ही 5 तरीके। 

curd use for infection

1. कॉटन से एप्‍लाई करें दही (Apply curd on skin) 

आपको ज्‍यादा पसीना आता है तो भी फंगल इंफेक्‍शन की समस्‍या हो सकती है। फंगल इंफेक्‍शन की समस्‍या को दूर करने के ल‍िए दही फायदेमंद माना जाता है। दही में गुड बैक्‍टीर‍िया पाए जाते हैं ज‍िससे शरीर में इंफेक्‍शन दूर होता है। आप दही को इंफेक्‍शन वाली जगह पर कॉटन की मदद से लगाएं और हल्‍के हाथ से मसाज करें। आप इस उपाय को द‍िन में दो से तीन बार र‍िपीट कर सकते हैं।

इसे भी पढ़ें- फंगल इंफेक्शन क्यों होता है और क्या हैं इसके लक्षण? डर्मेटोलॉजिस्ट से जानें इलाज और बचाव के टिप्स

2. दही को ऑयल के साथ करें एप्‍लाई (Use oil with curd)

आप दही को ऑयल के साथ म‍िक्स करके एप्‍लाई कर सकते हैं। दही के साथ टी ट्री ऑयल की दो से तीन बूंदें म‍िक्‍स करें। टी ट्री ऑयल में एंटीसेप्‍ट‍िक गुण होते हैं, इससे इंफेक्‍शन की समस्‍या दूर होती है। टी ट्री ऑयल एंटी-फंगल भी होता है। आप म‍िश्रण को संक्रमण वाले ह‍िस्‍से में लगाकर रात भर के ल‍िए छोड़ दें फ‍िर सुबह होने पर साफ पानी से धोकर उस एर‍िया को ड्राई करें , ऐसा दो से तीन द‍िन रि‍पीट करें तो इंफेक्‍शन दूर हो जाएगा।  

3. दही को डाइट में करें शाम‍िल (Add curd in diet)

फंगल इंफेक्‍शन की समस्‍या को दूर करने के ल‍िए आप दही को डाइट में शामिल करें। आप खाने के साथ प्‍लेन दही ले सकते हैं। फलों के साथ भी दही को खा सकते हैं। दही को स्‍मूदी के साथ खा सकते हैं। सीड्स या ओट्स के साथ भी दही का सेवन कर सकते हैं। आप रात में दही का सेवन अवॉइड करें, इससे गले में खराश हो सकती है। अगर आपकी रोग प्रत‍िरोधक क्षमता कमजोर है तो भी आपको फंगल इंफेक्‍शन हो सकता है। इम्‍यून‍िटी बूस्‍ट करने के ल‍िए दही फायदेमंद माना जाता है। 

4. लहसुन और दही का पेस्‍ट एप्‍लाई करें 

फंगल इंफेक्‍शन की समस्‍या को दूर करने के ल‍िए आप लहसुन और दही का पेस्‍ट स्‍क‍िन पर एप्‍लाई करें। लहसुन का इस्‍तेमाल फंगल इंफेक्‍शन को दूर करने के ल‍िए क‍िया जाता है। लहसुन की कल‍ियों को पीस लें और उसमें दही को म‍िलाकर इंफेक्‍शन वाले एर‍िया में एप्‍लाई करें। आप इस म‍िश्रण में नार‍ियल का तेल भी म‍िक्‍स कर सकते हैं। 

5. दही और कपूर का इस्‍तेमाल 

5 ग्राम कपूर को पीस लें और उसमें दही  मिलाएं। इसे संक्रमण वाली जगह पर मलहम की तरह लगाएं। आप इस उपाय को द‍िन में दो से तीन बार दोहरा सकते हैं। कपूर सूट न करे तो आप एलोवेरा जेल का यूज कर सकते हैं। ताजा एलोवेरा जेल को आप दही में म‍िक्‍स करके इस्‍तेमाल कर सकते हैं। इस उपाय से स्‍क‍िन में इंफेक्‍शन के कारण पपड़ी बनने की समस्‍या भी दूर होगी।     

फंगल इंफेक्‍शन की समस्‍या से बचने के ल‍िए आप सूती कपड़े पहनें, त्‍वचा को सूखा रखें और पर्याप्‍त मात्रा में पानी का सेवन करें।

Disclaimer