ऑफिस टाइम 9 से 6 के बीच कैसे रखें अपने जिम डाइट प्लान का ख्याल, जानें शिफ्ट के बीच कब और क्या खाएं

जिम जाने वाले लोग अक्सर ऑफिस टाइम की शिफ्ट के कारण अपना डाइट प्लान सही से नहीं फॉलो कर पाते हैं, एक्सपर्ट से जानें ऐसे में कब और क्या खाएं।

Jitendra Gupta
Written by: Jitendra GuptaPublished at: Feb 28, 2020Updated at: Feb 28, 2020
ऑफिस टाइम 9 से 6 के बीच कैसे रखें अपने जिम डाइट प्लान का ख्याल, जानें शिफ्ट के बीच कब और क्या खाएं

मौजूदा वक्त में फिट और सेहतमंद रहना किसको पसंद नहीं लेकिन सेहतमंद रहना सिर्फ जिम के भरोसे नहीं हो सकता। फिट और सेहतमंद रहने के लिए आपको अच्छी डाइट और सही समय पर हेल्दी फूड का सेवन करना बहुत ही ज्यादा जरूरी है। लेकिन होता है ये कि जिम जाने वाले लड़के, लड़कियां ऑफिस टाइम के अनुसान अक्सर अपना डाइट प्लान बदल देते हैं, जिस कारण उन्हें सही फिजिक और सही बॉडी नहीं मिला पाती। अगर आप भी जिम करते हैं और ऑफिस के कारण अपनी डाइट सही से जारी नहीं रख पा रहे हैं या फिर सोच रहे हैं कि कैसे अपनी डाइट मेंटेंन करें तो इस लेख में फिटनेस और लाइफस्टाइल कोच जोशुआ रंजीत आपको जिम के साथ ऑफिस में भी अपनी डाइट को जारी रखने के कुछ आसान टिप्स बता रहे हैं। इस लेख से आपको 9 से 6 के बीच शिफ्ट में क्या खाएं और क्या नहीं ये जानने में मदद मिलेगी। 

shift eating tips

ऑफिस की शुरुआत करें वेजिटल जूस से

गाजर और चुकंदर का जूस

  • गाजर और चुकंदर का जूस बनाने के बाद जितनी जल्दी हो सके उतनी जल्दी पी लें क्योंकि इसे ज्यादा देर तक रखने से यह अपने पौष्टिक मूल्य खो सकता है। 
  • गाजर और चुकंदर का यह जूस न केवल आपको वर्कआउट में मदद करता है बल्कि कैंसर के जोखिम, शरीर से विषाक्त पदार्थों को बाहर निकालने, इम्युनिटी को बेहतर बनाने, पाचन में सहायता और वजन घटाने को बढ़ाने में भी मदद करता है।
  • यह सुपरमैन ड्रिंक DOMS पर प्रभाव कम करने के लिए अच्छा है। DOMS ऑनसाइट मांसपेशियों की एक स्थिति है,  जिसमें उच्च तीव्रता वाली शारीरिक गतिविधियों के बाद मांसपेशियों में दर्द और अकड़न हो जाती है।
  • इस पेय को वर्कआउट के बाद लिया जा सकता है क्योंकि ये वर्कआउट के बाद रिकवरी की प्रक्रिया को तेज करने में भी मदद करेगा।

(इसे पीना का सबसे अच्छा समय: सुबह 9.30 बजे - 10.30 बजे)

इसे भी पढ़ेंः रोजाना का ये 5 मिनट का 'देसी नुस्खा' आपको बुढ़ापे तक रखेगा हेल्दी, जानें इसे करने का तरीका

नट्स (मिक्सड और ड्राई)

  • नट्स कई पोषक तत्वों का एक बड़ा स्रोत होते हैं, नट्स आम तौर पर लो-कार्ब डाइट लेने वालों के लिए एक उत्कृष्ट फूड है। 
  • नट्स एंटीऑक्सीडेंट पॉवरहाउस होते हैं। नट्स में पॉलीफेनोल्स सहित कई एंटीऑक्सिडेंट मुक्त कणों को बेअसर कर ऑक्सीडेटिव तनाव का मुकाबला कर सकते हैं। ये मुक्त कण कोशिका क्षति का कारण बन सकते हैं और रोग के जोखिम को बढ़ा सकते हैं।
  • नट्स में मौजूद फाइबर एंटी-इंफ्लेमेटरी गुणों से संपन्न होता है, जो सूजन और जलन को कम करने में मदद करता है।
  • नट्स की काल या खोखा बहुत ही ज्यादा मजबूत होता है इसलिए इन्हें आसाने से स्टोर कर रखा जा सकता है। आप अपने ऑफिस में भी इन चीजों को काफी दिनों तक आसानी से रख सकते हैं।

(इसे खाना का सबसे अच्छा समय: लंच से पहले या बाद, जब भी भूख लगे)

eating tips on shift

उबले हुए अंडे

5-6 उबले हुए अंडे का सफेद भाग आपके कार्ब-युक्त दोपहर के भोजन के लिए अतिरिक्त 20 ग्राम प्रोटीन का सबसे अच्छा रूप है। लंबे समय तक पेट भरा रखने के लिए आपके भोजन में प्रोटीन की संतुलित मात्रा होनी चाहिए। लंच में 5 से 6 अंडे आपको शुद्ध प्रोटीन देने के लिए पर्याप्त हैं।

(इसे खाना का सबसे अच्छा समय: लंच में)

फल और गर्म पेय पदार्थ

शाम के स्नैक में चेरी (1 कप)

वर्कआउट के बाद मुठ्ठीभर चेरी सूजन को कम कर सकती है और रिकवरी को बढ़ा सकती है। इसमें ये चमत्कारी गुण एंथोसेनिन्स के कारण होता है।

1 संतरा 

सिटरस जगत का राजा संतरा वर्कआउट से पहले का एक बेहतरीन स्नैक है क्योंकि इसमें मौजूद विटामिन सी मुक्त कणों से लड़कर नाइट्रिक ऑक्साइड को सुरक्षित रखने का काम करता है। इसे आप इसके इस गुण के कारण वर्कआऊट के बाद भी खा सकते हैं, जो आपकी रिकवरी में मदद करता है।

1 सेब

सेब में पॉलीफेनोल होते हैं, जो हमें ताकत देने का काम करते हैं और फैट कम करने में मदद करते हैं।

इनके विकल्प

  • अंगूर (1 कप)
  • स्ट्रॉबेरी (2 कप)
  • रास्पबेरी (2 कप)

इसे भी पढ़ेंः सुबह से शाम तक हेल्दी लगने वाली ये 5 आदतें आपके लिए यूं बन जाती हैं अनहेल्दी, शरीर को होते हैं ये नुकसान

पीनट बटर/ अनाज या फिर मल्टी ग्रेन ब्रेड

पीनट और पीनट बटर में 30 से अधिक आवश्यक विटामिन और मिनरल होते हैं, जिनकी हमें अच्छे स्वास्थ्य के लिए बेहद आवश्यकता होती है। इनमें से कुछ पोषक तत्वों में एंटीऑक्सीडेंट विटामिन ई शामिल होता है, जो कोशिकाओं और धमनियों को स्वस्थ रखने का काम करता है, पोटेशियम और मैग्नीशियम हेल्दी ब्लड प्रेशर बनाएं रखने में मदद करते है, साथ ही बी विटामिन जैसे फोलेट और नियासिन हृदय स्वास्थ्य और ऊर्जा के लिए बेहद जरूरी होते हैं। जब आप पीनट बटर के साथ साबुन अनाज से बनी ब्रेड का इस्तेमाल करते हैं तो आपको प्रोटीन मिलता है। दूसरे शब्दों में, आपको अपनी मांसपेशियों और टिश्यू को मजबूत और स्वस्थ बनाए रखने के लिए सभी 9 अमीनो एसिड मिलते हैं। साबुत अनाज में मौजूद फाइबर पाचन स्वास्थ्य के लिए भी जिम्मेदार है। इतना ही साबुत अनाज खाने से शरीर का वजन कम होता है और दिल की बीमारी का खतरा भी कम होता है।

(खाने का सबसे अच्छा समय: शाम 4 बजे - शाम 6 बजे)

Read more articles on Mind-Body In Hindi

Disclaimer