शिशु को दस्त लगने पर अपनाएं ये 7 घरेलू नुस्खे

अगर आपके शिशु को भी दस्त की समस्या है तो आप इन घरेलू नुस्खों को अपना सकते हैं। यहां जानें इन नुस्खों के बारे में।  

 

Kunal Mishra
Written by: Kunal MishraPublished at: Jun 10, 2021
शिशु को दस्त लगने पर अपनाएं ये 7 घरेलू नुस्खे

शिशु का शरीर बेहद संवेदनशील होता है, इसलिए उन्हें जल्दी समस्याएं होने का खतरा रहता है। छह माह तक शिशु मां का दूध पीते हैं इसलिए इस दौरान उन्हें दस्त लगने की आशंका काफी कम रहती है। जैसे-जैसे शिशु ठोस खाद्य पदार्थों या फिर बेबी फूड्स का सेवन करने लगते हैं। तो उनमें दस्त लगने की आशंका थोड़ी बढ़ जाती है। हालांकि कई बार शिशु के पेट में इंफेक्शन होने पर भी दस्त लग सकता है। कई बार माता-पिता शिशु के बार-बार मल त्याग करने पर घबरा जाते हैं, लेकिन शिशुओं में यह प्रक्रिया सामान्य मानी जाती है। इस समस्या को आप घरेलू नुस्खों द्वारा भी ठीक कर सकते हैं। इस लेख के माध्यम से हम आपको कुछ घरेलू नुस्खे बताएंगे, जिनसे आप अपने शिशु के दस्त को ठीक कर सकते हैं। शिशु की शरीर में पानी की कमी भी उसके दस्त का कारण बन सकता है। इसलिए उनकी डाइट पर विषेश रूप से ध्यान देने की आवश्यकता होती है। शिशु में चिड़चिड़ापन आना, उन्हें उल्टी और बुखार आदि होने पर आप आसानी से पहचान सकते हैं कि उन्हें दस्त की समस्या है। चलिए जानते हैं शिशु के दस्त को ठीक करने के घरेलू नुस्खों के बारे में। 

coconutinside

1. नारियल पानी (Coconut Water)

नारियल पानी न्यूट्रीएंट्स और मिनरल्स से भरपूर होता है। यह शिशु को हाइड्रेट करता है। यही नहीं इसका सेवन आपके शिशु के पतले मल को मोटा और कठोर भी बनाता है। नारियल पानी का फाइबर कॉन्टेंट शिशु के दस्त को जल्द ही ठीक करता है। साथ ही नारियल पानी शिशु के इम्यून सिस्टम को शक्तिशाली भी बनता है। यह यह एक प्राकृतिक टॉनिक के रूप में काम करता है। नारियल पानी शिशु को दस्त ठीक होने के बाद भी दिया का सकता है। इससे शिशु के शरीर में एनर्जी आती है। अगर आपके शिशु को दस्त है तो उसे नारियल पानी जरूर पिलाएं। यह उनके लिए काफी फायदेमंद होता है।  

इसे भी पढ़ें - शिशु को सुलाने के लिए सही पोजीशन क्या है? कौन सी पोजीशन हो सकती है असुरक्षित

2. नमक चीनी का पानी (Salt Sugar Water)

नमक-चीनी का पानी एक ओरल रिहाइड्रेशन थेरेपी होती है। यह एक प्रकार का इलेक्ट्रोलाइट होता है, जो शरीर में जाकर ज़रूरी काम करता है। शिशु में दस्त लगने पर उसे नमक और चीनी का पानी पिलाया जा सकता है। दस्त के दौरान शिशु के शरीर से काफी मात्रा में तरल पदार्थ निकल जाते हैं, जिससे बॉडी डीहाइड्रेट और कमजोर हो जाती है। नमक-चीनी का पानी शिशु के शरीर को हाइड्रेटेड करकर रखता है और दस्त से बहुत जल्द छुटकारा भी दिलाता है। अगर आपके शिशु को दस्त की समस्या है तो आप बिना किसी संकोच के उसे नमक और चीनी के पानी का घोल दे सकते हैं। 

banana

3. केला (Banana)

केला एक फाइबर रिच फूड होता है। केला दस्त लगने पर सबसे जरूरी घरेलू उपचार माना जाता है। लेकिन शिशु को केला खिलाते वक्त ध्यान दें की केला अच्छे से पका हुआ पीले रंग का हो और शिशु को उतना ही खिलाएं जितना वह हज़म कर सकें। ऐसे में शिशु को कच्चा केला बिलकुल न दें। यह उनका दस्त ठीक करने की जगह तकलीफ और बढ़ा सकता है। पका केला शिशु को ज़रूरी विटामिन्स और मिनरल्स भी देगा। इसलिए शिशु को केले की प्यूरी बनाकर देना फायदेमंद होता है। इसे खाने में और पचाने में भी शिशु को आसानी होगी। 

4. दही और जीरा (Curd and Cumin)

दही एक प्रोबायोटिक फूड होता है। यह पेट के लिए बहुत फायदेमंद होता है। दही मे गुड बैक्टीरिया होते है जिससे दस्त जैसी समस्या से जल्दी निजात पा लिया जाता है। शिशु को दस्त लगने पर उसे दही में भुने जीरे का पाउडर डाल कर देना चाहिए। इससे शिशु का दस्त बहुत जल्दी ठीक हो जाएगा। जीरा एंटीइन्फ्लामेटरी एंटीबैक्टीरियल और एंटीऑक्सिडेंट्स जैसे गुणों से भरपूर मसाला है। दही के साथ जीरा शिशु के दस्त को ठीक करने में मददगार होता है। 

lemonwater

5. नींबू पानी (Lemon Water)

दस्त को ठीक करने में नींबू पानी एक बहुत कारगर घरेलू उपाय है। दस्त लगने पर शिशु को नींबू पानी पिला सकते हैं। नींबू पानी शिशु को हाइड्रेट भी रखता है। नींबू शरीर के टॉक्सिंस बाहर निकालने में मदद करता है। साथ ही नींबू में विटामिन सी की मौजूदगी इम्यून सिस्टम को शक्तिशाली बनाता है। शिशु को नींबू पानी पिलाते वक्त आप चाहें तो उसमें थोड़ा सा शहद भी मिला सकते हैं। चूंकि नींबू पानी में अधिक खट्टास रहती है इसलिए पानी में नींबू की मात्रा कम रहनी चाहिए। 

इसे भी पढ़ें - बच्चों को बोतल से दूध पिलाने से हो सकते हैं ये 5 नुकसान, जानें जरूरी सावधानियां

6. चावल का पानी (Rice Water)

चावल का पानी त्वचा को हाइड्रेट रखने के साथ-साथ आपके शिशु के दस्त को रोकने में भी काफी कारगर साबित होता है। शिशु को स्वस्थ रखने के लिए उनकी शरीर में स्टार्च की मात्रा जाना भी जरूरी होती है। चावल का पानी शिशु की शरीर में इस कमी को पूरा करता है। इसे पिलाने से शिशु को बार-बार मल नहीं आता। इसके लिए आप चावल को उबालें और और पानी को अच्छे से छान लें। अब चावल को दबाकर उसमें से निकला पानी शिशु को पिलाने से भी दस्त की समस्या दूर होती है। 

masoordalsoup

7. मसूर की दाल का सूप (Masoor Dal Soup)

बच्चों ही नहीं बड़ों को भी दस्त लगने पर मसूर दाल का सेवन करने की सलाह दी जाती है। शिशुओं में दस्त की समस्या होने पर उनकी शरीर में तरल पदार्थ की मात्रा काफी कम हो जाती है। इसलिए उनकी शरीर में तरल पदार्थों का पहुंचना जरूरी होता है। मसूर की दाल का पानी या फिर उसका सूप पीने से आपके शिशु के दस्त की समस्या जल्दी ठीक होती है। इसके लिए आप दाल में पानी डालें और सूप की तरह उसे उबालें। उबलने के बाद आपकी दाल नीचे बैठ जाएगी। अब सूप के तौर पर बच्चे को दाल के उपर का पानी पिलाएं। इससे उसकी समस्या जल्दी ठीक होगी। 

शिशु को दस्त लगने पर आप इस लेख में दिए गए नुस्खों को आजमा सकते हैं। अगर आपका शिशु दिनभर में कई बार मल त्याग करता है तो चिकित्सक की सलाह के बाद ही इन नुस्खों को अपनाएं। 

Read more Articles on New Born Care in Hindi

Disclaimer

Tags