Expert

पेट में गांठ से छुटकारा दिलाएंगे ये 5 घरेलू उपाय

Abdominal Lump Home Remedy: पेट में गांठ की समस्या होने पर कुछ घरेलू छुटकारा दिलाने में बहुत फायदेमंद साबित हो सकते हैं, जानें 5 घरेलू उपाय।

Vineet Kumar
Written by: Vineet KumarPublished at: Sep 05, 2022Updated at: Sep 05, 2022
पेट में गांठ से छुटकारा दिलाएंगे ये 5 घरेलू उपाय

Abdominal Lump Home Remedy In Hindi: पेट में गांठ के कारण लोगों को काफी असहजता होती है। कुछ मामलों में इससे पेट में काफी गंभीर दर्द की समस्या भी होती है। इन दिनों ज्यादातर लोगों में पेट की समस्या देखने को मिल रही है। जिससे छुटकारा पाने के लिए लोग तरह-तरह के उपाय ढूंढने में लगे रहते हैं। पेट में गांठ के लिए कई कारण जिम्मेदार हो सकते हैं, जिनमें लिपोमा यानी चर्बी की गांठ, हर्निया और हीमेटोमा, कैंसर की गांठ या पित्ताशय में पथरी की गांठ। पेट की गांठ का उपचार भी इसके कारणों के अनुसार ही किया जाता है। लेकिन क्या पेट की गांठ के लिए कोई घरेलू उपचार है, जिससे इस समस्या से नैचुरली छुटकारा पाया जा सके? पेट में गांठ के लिए घरेलू उपचार के बारे में अधिक जानकारी के लिए हमने वेदिक्योर हेल्थ केयर एंड वेलनेस आयुर्वेदिक चिकित्सक डॉ. ज्योत्सना गोखले (Dr. Jyotsna Gokhale, Ayurveda Consultant ) से बात की। आइए जानते हैं पेट में गांठ घरेलू उपचार (pet mein ganth ka gharelu ilaaj) के बारे में विस्तार से जानते हैं।

Abdominal Lump Home Remedy

क्या पेट की गांठ का उपचार घर पर कर सकते हैं?- Abdomen Lump Treatment At Home In Hindi

डॉ. ज्योत्सना की मानें तो पेट में गांठ की समस्या लिपोमा, हर्निया, हीमेटोमा, कैंसर, पित्ताशय की पथरी जैसे रोगों के कारण हो जाती है। लेकिन सभी का उपचार आप घरेलू नुस्खों या उपाय की मदद से नहीं कर सकते हैं। इनमें सिर्फ चर्बियों की गांठें यानी लिपोमा का हम आसानी से घर पर उपचार कर सकते हैं। पेट में लिपोमा की गांठ से छुटकारा पाने के लिए आप निम्न घरेलू उपाय आजमा सकते हैं...

पेट में गांठ का घरेलू उपचार- pet mein ganth ka gharelu ilaaj

  1. सुबह खाली पेट कच्ची हल्दी या 2 ग्राम हल्दी पाउडर को गर्म पानी में मिलाकर इसका सेवन करें।
  2. 10-20 ग्राम कचनार के पेड़ की छाल लेकर इसे 400ml  पानी में उबालकर इसका काढ़ा बना लें। जब पानी घटकर 50ml तक रह जाए, तो इस काढ़े को छानकर घूंट-घूंट कर पी लें। दिन में 2 बार पी सकते हैं।
  3. एक चुटकी हल्दी पाउडर और चुटकी भर लताकरंज चूर्ण को लाल मूली के रस में मिलाकर पिएं।
  4. बेर के पत्तों से सेक लगाएं।
  5. दशांग लें और इसका लेप गांठों पर लगाएं, सूखने के बाद गुनगुने पानी से धो लें।

अन्य उपाय

  • पेट में लिपोमा गांठ होने पर एक्सरसाइज जरूर करें। सुबह खाली पेट पैदल चलें या दौड़ लागएं। रोजाना नियमित रूप से ऐसा करें। योग का अभ्यास करने से भी बहुत लाभ मिलेगा। इसके लिए आप सूर्य नमस्कार सूर्य नमस्कार, मंडूकासन, मार्जरी आसन, के साथ ही कपालभाति, अनुलोम-विलोम जैसे प्राणायाम का अभ्यास करने से गांठ को पिघलाने में बहुत फायदा मिलेगा।
  • लेकिन स्मोकिंग और शराब के सेवन से बचें।
  • आयुर्वेदिक डॉक्टर से सलाह लें और उनके मार्गदर्शन में उपचार लें।

पेट में अन्य गांठों का उपचार क्या है?- Abdominal Lump Treatment In Hindi

  • डॉ. ज्योतसना के अनुसार अगर पेट की गांठ दर्द और बिना दर्द वाली दोनों तरह की हो सकती है। लेकिन अगर आप पेट में गांठ के साथ ही पेट में दर्द, बुखार, उल्टी जैसे लक्षणों का अनुभव कर रहे हैं, तो आपको इस दौरान घरेलू उपाय आजमाने से बचना चाहिए और डॉक्टर से संपर्क करना चाहिए। इसके अलावा आपको गांठ के साथ कभी-कभी खांसने या झुकने में दर्द होना, भोजन निगलने में परेशानी, या खाना खाने के तुरंत बाद दर्द शुरू होने जैसी समस्याएं भी देखने को मिल सकती हैं, इस स्थिति में भी आपको डॉक्टर से संपर्क करना चाहिए।
  • आपके लक्षणों के आधार पर डॉक्टर आपको कुछ जरूरी टेस्ट कराने के लिए कह सकते हैं, जिससे कि पेट में गांठ के मूल कारण का पता लगाया जा सके। ऐसे में वे आपको एक्सरे, अल्ट्रासाउंड, एमआरआई, सोनोग्राफी या कुछ ब्लड टेस्ट आदि का सुझाव दे सकते हैं।
  • अगर टेस्ट के बाद पित्ताशय की पथरी हीमेटोमा, हर्निया, कैंसर की गांठ का निदान होता है, तो इन बीमारियों में गांठ का इलाज, एक्सपर्ट डॉक्टर की सलाह से किया जाना चाहिए। आयुर्वेदिक और एलोपैथी दोनों में ही इनका इलाज संभव है। लेकिन कभी-कभी इसके लिए सर्जरी की आवश्यकता भी हो सकती है।

अगर रूग्ण का बल अच्छा है, तो कैंसर जैसी बीमारियों में कीमोथेरेपी के साथ सूर्य नमस्कार एक ऐसी थेरेपी है जो गांठ पिघलाने में बहुत मददगार साबित हो सकती है। इसके साथ ही आपको सही खानपान और स्वस्थ जीवनशैली को भी फॉलो करने की जरूरत होती है।

All Image Source: Freepik.com

( With Inputs: Dr Jyotsna Gokhale- Kadam, Ayurveda Consultant at Vedicure Healthcare and Wellness Center)

Disclaimer