जंक फूड के ज्यादा सेवन से बच्चों में हो सकती है फूड एलर्जी, जानें क्यों

इटली के यूनिवर्सिटी ऑफ नेपल्स फेडरिको II द्वारा किए गए एक अध्ययन में शोधकर्ताओं ने पाया कि एडवांस ग्लिकैशेन एंड प्रोडक्ट (एजीईएस) का उच्च स्तर बच्चों में फूड एलर्जी के साथ जुड़ा हुआ है। 

Jitendra Gupta
Written by: Jitendra GuptaPublished at: Jun 10, 2019
जंक फूड के ज्यादा सेवन से बच्चों में हो सकती है फूड एलर्जी, जानें क्यों

एक नए अध्ययन के मुताबिक एडवांस ग्लिकैशेन एंड प्रोडक्ट (एजीईएस) का उच्च स्तर बच्चों में फूड एलर्जी के साथ जुड़ा हुआ है। इटली के यूनिवर्सिटी ऑफ नेपल्स फेडरिको II द्वारा किए गए इस अध्ययन में शोधकर्ताओं ने खुलासा किया है कि वे बच्चे, जो अत्यधिक मात्रा में जंक फूड का सेवन करते हैं उनमें फूड एलर्जी का खतरा बढ़ जाता है।

यूनिवर्सिटी ऑफ नेपल्स फेडरिको II के शोधकर्ताओं ने इस अध्ययन में पाया है कि माइक्रोवेवड फूड और बारबेक्यू मीट  जैसे जंक फूड का अत्यधिक सेवन बच्चों में फूड एलर्जी के लिए जिम्मेदार हो सकता है।

यूरोपियन सोसायटी फॉर पीडियाट्रिक गैस्ट्रोएंटरोलॉजी हेपेटोलॉजी एंड न्यूट्रिशन की 52वीं वार्षिक बैठक में प्रस्तुत अध्ययन में पाया गया कि  एडवांस ग्लिकैशेन एंड प्रोडक्ट (एजीईएस) का उच्च स्तर बच्चों में फूड एलर्जी के साथ जुड़ा हुआ है।

एजीईएस शुगर, प्रोसेस्ड फूड, माइक्रोवेवड फूड और रोस्टेड व बारबेक्यू मीट के रूप में जंक फूड में उच्च स्तर में मौजूद होता है।

इसे भी पढ़ेंः प्रेग्नेंसी के दौरान ज्यादा फाइबरयुक्त आहार खाने से शिशु को सीलिएक रोग का खतरा कम: रिसर्च

शोधकर्ताओं ने बताया कि ये मधुमेह, एथेरोस्क्लेरोसिस और न्यूरोलॉजिकल विकारों सहित विभिन्न ऑक्सीडेटिव-आधारित बीमारियों के विकास और प्रगति में अहम भूमिका निभाने के लिए जाने जाते हैं।

अध्ययन के लिए शोधकर्ताओं की टीम ने छह से 12 साल के बीच की उम्र के 61 बच्चों के स्वास्थ्य का अवलोकन किया।

इसे भी पढ़ेंः कैंसर रोगियों का जीवनकाल बढ़ाने में मददगार है विटामिन डी: शोध

उन्होंने तीन श्रेणियों में एलर्जी की पहचान की, जिसमें पहली फूड एलर्जी, दूसरी सांस  संबंधी एलर्जी और तीसरा स्वास्थ्य नियंत्रण शामिल है।   

इटली स्थित यूनिवर्सिटी ऑफ नेपल्स फेडरिको II के एसोसिएट प्रोफेसर रॉबर्टो बर्नी कैनानी ने कहा कि अध्ययन में एजीईएस और जंक फूड के सेवन के बीच एक महत्वपूर्ण सह संबंध का खुलासा हुआ है।

Read More Articles On Health News in Hindi

Disclaimer