Health Tips: भारत की इन 7 परंपराओं में छिपे हैं सेहत के लिए 7 बड़े फायदे

कई भारतीय परंपराएं हैं, जो सिर्फ परंपराओं से बढ़कर भी बहुत अधिक हैं। आइए यहा जानिए कि कैसे ये परंपराएं आपके स्‍वास्‍थ्‍य लाभों से जुड़ी हैं। 

Sheetal Bisht
Written by: Sheetal BishtUpdated at: May 04, 2020 16:50 IST
Health Tips: भारत की इन 7 परंपराओं में छिपे हैं सेहत के लिए 7 बड़े फायदे

भारत विविध संस्कृतियों का देश है और हर संस्कृति के अपने अलग रीति-रिवाज और परंपराएँ हैं, जिनका धार्मिक रूप से पालन किया जाता है। हालांकि, समय के साथ बदलाव के बावजूद, उनमें से बहुत से अभी भी वैसा ही करते हैं जैसा कि वे सदियों पहले करते थे। भारतीय दृष्टिकोण से, ये पुरानी प्रथाएं विरासत हैं, जिन्हें हम मरते दम तक रखना चाहेंगे। लेकिन इनमें से अधिकांश प्रथाएं सिर्फ उन परंपराओं से कहीं अधिक हैं जिन पर लोगों का अंधा विश्वास है। इनमें ऐसे स्वास्थ्य लाभ छिपे हैं, जो आप में से अधिकांश अब तक नहीं जानते होंगे। आइए इन लाभों को के बारें में जानें, जो आपकी परंपराओं से जुड़े हैं। 

कान छिदवाना 

अधिकांश माता-पिता बहुत कम उम्र में अपनी लड़की के कान छिदवा लेते हैं। कुछ समुदायों में, लड़कों के लिए भी कान छिदवाना अनिवार्य है। आजकल, यह एक फैशन बन गया है, जिसमें कई लोग अपने कान और नाक के अलावा,  बैली बटन, आइब्रो और यहां तक कि होंठ छेदते हैं। 

आयुर्वेद के अनुसार कान छिदवाना महिलाओं के स्वास्थ्य में मदद करता है। माना जाता है कि इयरलोब या कान का बिंदु मासिक धर्म चक्र को संतुलित करता है और एक महिला के प्रजनन स्वास्थ्य में सुधार करता है।

Ear Piercing

इसे भी पढ़ें: घर में झाड़ू-पोछा लगाना भी है सेहत के लिए इन 5 तरीकों से फायदेमंद

तांबे के बर्तन में पानी पीना 

हम सबने अपने बड़े-बुजु्र्गों यानि दादा- दादी को केवल तांबे के बर्तन में पानी पीते देखा होगा। यह असंख्‍य स्वास्थ्य लाभ से भरा है। तांबे के बर्तन में पानी रखकर पीने से पाचन को मजबूत करने से लेकर तेजी से घाव भरने और प्रतिरक्षा को मजबूत करने समेत कई लाभ होते हैं। 

गहने पहनना 

भारतीय महिलाएं गहने पहनने के लिए हमेशा तैयार रहती हैं। वास्तव में, एक विवाहित महिला द्वारा गहने पहना जाना अनिवार्य है, उदाहरण के लिए- नेकपीस, पैर की अंगुली के छल्ले, चूड़ियाँ और झुमके।  पहले लगभग सभी भारतीय महिलाएं केवल सोने और चांदी के गहने पहनती थीं। इन तत्वों से रक्त परिसंचरण को बढ़ावा देने, शरीर के तापमान को विनियमित करने, तनाव को रिलीज करने और मौसमी बीमारियों को रोकने के लिए फायदेमंद माना जाता है।

wear jewelry

हाथ से खाना

हालांकि हमने इसे पीछे छोड़ दिया है, लेकिन कुछ संस्कृतियां अभी भी इस पर अमल करती हैं। हाथ से खाना खाने के पीछे एक बड़ा वैज्ञानिक कारण है। जब आप अपने हाथों से खाते हैं, तो आपके हाथ के अच्छे बैक्टीरिया शरीर के अंदर पहुंच जाते हैं और यह खराब बैक्टीरिया को नष्ट करने में मदद करते हैं। इसके अलावा, जब खाने को हाथों से खाया जाता है, तो उसका स्वाद और अधिक बढ़ जाता  है।

इसे भी पढ़ें: घर पर लेना है रिलैक्सिंग स्‍पा बाथ, तो नहाने के पानी में डालें किचन में मौजूद ये 5 चीजें

व्रत या उपवास

भारत और उपवास या का एक मजबूत रिश्‍ता है। हिंदू 'व्रत' रखते हैं, जबकि मुसलमान 'रोज़ा' देखते हैं। हालांकि नाम अलग है लेकिन उद्देश्य एक है । ऐसा कहा जाता है कि व्यक्ति को महीने में कम से कम एक बार उपवास करना चाहिए क्योंकि यह आपके स्वास्थ्य को संतुलित करता है। यह अन्य महत्वपूर्ण शारीरिक कार्यों में सुधार करने के लिए मेटाबॉलिज्‍म को तेज करता है। साथ ही, यह आपको दीर्घायु जाने में मदद करता है। 

Fasting Benefits

नंगे पांव चलना

बहुत से लोग इन दिनों एक्यूपंक्चर के जूतों पर निवेश करते हैं, जिससे कि वह पैर के स्वास्थ्य को सुरक्षित रख सकें। लेकिन नंगे पैर चलने से बिना निवेश के समान लाभ मिलते हैं। शोधकर्ताओं ने पाया है कि घास पर नंगे पांव चलने से न केवल मांसपेशियों का तनाव कम होता है, बल्कि दिमाग को तनाव भी कम होता है और इससे दर्द कम होता है और बेहतर नींद लेने में मदद मिलती है। ऐसा आपको अक्सर करना चाहिए।

चांदी के चम्‍मच, गिलास या थाली में भोजन

यह एक शाही परंपरा है, जिसका अधिकांश शाही परिवार अभी भी पालन करते हैं। उनके पास चांदी की प्लेटें, चम्मच, गिलास हैं और उनकी डाइनिंग टेबल पर मौजूद लगभग हर कटलरी सिल्वर से बनी हुई है। भोजन को मज़बूत बनाने के लिए एंटी बैक्‍टीरियल लाभों के अलावा चांदी में शीतलन और सुखदायक गुण होते हैं। यह आपके समग्र स्वास्थ्य को संतुलित करता है।

Read More Article On Mind and Body In Hindi

Disclaimer