Lockdown: घर में तनाव से दूर रहें हार्ट पेशेंट, कॉर्डियोलॉजिस्‍ट ने बताई लॉकडाउन में कैसे रखें खुद का ख्‍याल

Coronavirus Lockdown: हृदय रोगियों के लिए ये काफी नाजुक स्थिति हो सकती है, ऐसे में खुद का अधिक ख्‍याल रखने की जरूरत है। पढ़ें एक्‍सपर्ट टिप्‍स।  

Atul Modi
Written by: Atul ModiUpdated at: Mar 26, 2020 15:35 IST
Lockdown: घर में तनाव से दूर रहें हार्ट पेशेंट, कॉर्डियोलॉजिस्‍ट ने बताई लॉकडाउन में कैसे रखें खुद का ख्‍याल

3rd Edition of HealthCare Heroes Awards 2023

कोरोना वायरस (COVID-19) के बढ़ते संकट को ध्‍यान में रखते हुए पूरे देश को लॉकडाउन (Lockdown) कर दिया गया है। जरूरी वस्‍तुओं के अलावा सभी चीजों पर रोक लगा दी गई है। सरकार और हेल्‍थ वर्कर लगातार लोगों को घर में रहने की सलाह दे रहे हैं। ताकि इस महामारी से लोगों की जान बचाई जा सके। मगर हार्ट पेशेंट (Heart Patient) के लिए घर में रहकर खुद की देखभाल कर पाना किसी चुनौती से कम नही है। अगर आप दिल के मरीज हैं या अपके घर-परिवार में कोई व्‍यक्ति हृदय रोग (Heart Disease) से ग्रसित है तो उन्‍हें ये लेख जरूर पढ़ना चाहिए। क्‍योंकि दुनियाभर में हृदय रोग मौत का सबसे बड़ा कारण है।

coronavirus-in-india

हृदय रोगों से जुड़ा डब्‍ल्‍यूएचओ का आंकड़ा:

विश्‍व स्‍वास्‍थ्‍य संगठन के अनुसार (डब्‍ल्‍यूएचओ), अन्‍य रोगों की अपेक्षा सालाना हृदय रोगों से लोग ज्‍यादा मरते हैं, दुनियाभर में इस वजह से मरने वालों की संख्‍या सबसे अधिक है। वर्ष 2016 में हृदय रोग से अनुमानित 17.9 मिलियन लोगों की मृत्यु हुई, जो सभी वैश्विक मौतों का 31% था। इन मौतों में से 85% दिल के दौरे और स्ट्रोक के कारण हैं। अधिकांश हृदय रोगों को तंबाकू के उपयोग, अस्वास्थ्यकर आहार और मोटापे, शारीरिक निष्क्रियता और शराब के हानिकारक उपयोग पर रोक लगाकर इसे रोका जा सकता है। हृदय रोग वाले लोग या जिनमें हृदय रोगों का खतरा सबसे ज्‍यादा है जैसे- उच्च रक्तचाप, मधुमेह, हाइपरलिपिडिमिया वाले लोगों को सही परामर्श और दवाओं का उपयोग करके इसका प्रबंधन की आवश्यकता है।

दरअसल, लॉकडाउन के दौरान घर में रहने से आपके तनाव का स्‍तर बढ़ सकता है, इसके अलावा शारीरिक निष्क्रियता हृदय रोगियों के स्‍वास्‍थ्‍य के लिए सही नहीं है। ऐसे में एक्‍सपर्ट द्वारा बताई बातों का ध्‍यान रखना जरूरी है।

heart-health-in-hindi

इसे भी पढ़ें: A, B, AB या O किस ब्लड ग्रुप वाले लोगों को हार्ट अटैक का खतरा ज्यादा? जानें कौन सा ब्लड ग्रुप सबसे ज्यादा सेफ

लॉकडाउन के दौरान हृदय रोगियों के लिए विशेषज्ञ की सलाह

नई दिल्‍ली के फोर्टिस एस्कॉर्ट्स हार्ट इंस्टीट्यूट के कार्डियोलॉजिस्ट डॉक्‍टर शैलेंद्र भदौरिया ने OnlyMyHealth से बातचीत में कहा, "लॉकडाउन कोरोना वायरस के संक्रमण को रोकने का एक अच्‍छा निर्णय है। घर में रहने के दौरान हार्ट पेशेंट को ज्‍यादा केयर की जरूरत हो सकती है, अगर वह एक्‍सरसाइज नहीं कर रहा और तनाव ले रहा है। इसके लिए घर में रहकर योग, प्राणायाम कर सकते हैं इसके अलावा खानपान को बेहतर कर स्‍वस्‍थ रह सकते हैं। किसी भी तरह का तनाव लेने से बचें। समय-समय पर दवाईयां लेते रहें। लॉकडाउन में, इमरजेंसी और सामान्‍य बीमारियों में सारे हॉस्पिटल खुले हैं।"

इसे भी पढ़ें: क्‍या हृदय रोगियों के लिए ज्‍यादा खतरनाक है कोरोनावायरस? एक्‍सपर्ट से जानिए रोकथाम के उपाय

लॉकडाउन में हृदय रोगी कैसे रखें खुद का ख्‍याल

  • रोजाना रात को समय पर सोएं और समय पर जागें। 
  • कोरोना वायरस से जुड़ी किसी खबर को लेकर पैनिक न हों। 
  • रोजाना घर में रहकर स्‍ट्रेचिंग एक्‍सरसाइज, योग और प्राणायाम करें। 
  • हेल्‍दी ब्रेकफास्‍ट जरूर करें, जिसमें नट्स, फलियां और फल शामिल हो। 
  • दोपहर में हरी पत्‍तेदार सब्जियों का सेवन करें। 
  • रात में सोने से 3 घंटे पहले डिनर करें और समय पर दवाइयां लें। 
  • किसी भी प्रकार के तनाव से बचें, खुश रहें।
Read More Articles On Heart Health In Hindi
Disclaimer