टोमाटो केचअप ज्यादा खाने से सेहत को होते हैं ये 10 नुकसान, डायटीशियन से जानें कैसे बनता है केचअप

टमाटर केचअप स्वाद में जितना अच्छा होता है, सेहत के लिए उतना ही नुकसानदेय हो सकता है। चलिए जानते हैं ज्यादा केचअप खाने से होने वाले नुकसान

 

Kishori Mishra
Written by: Kishori MishraPublished at: Sep 17, 2021
टोमाटो केचअप ज्यादा खाने से सेहत को होते हैं ये 10 नुकसान, डायटीशियन से जानें कैसे बनता है केचअप

टमाटर केपअच या सॉस हम में से कई लोगों को काफी ज्यादा पसंद होता है। इसलिए रोटी से लेकर फ्रेंच फ्राइज, पकौड़ियां जैसे कई छोटे-मोटे स्नैक्स में टमाटर केचअप लेना पसंद करते हैं। केचअप का स्वाद इन स्नैक्स का स्वाद भी काफी ज्यादा बढ़ा देते हैं। लेकिन क्या आप जानते हैं कि यह मार्केट का यह केचअप स्वाद में जितना ज्यादा अच्छा होता है, सेहत के लिए उतना ही नुकसान हो सकता है। जी हां, टमाटर स्वाद और सेहत दोनों के लिए अच्छा माना जाता है। लेकिन मार्केट से लाए टमाटर केचअप को खाने से आपको कई खतरनाक बीमारियां हो सकती हैं। इस बारे में डायट मंत्रा क्लीनिक की डायटीशियन कामिनी सिंहा बताती हैं कि मार्केट के टमाटर केचअप में कई तरह के प्रिजर्वेटिव्स और केमिकल्स एड किए जाते हैं, जिससे सेहत को बहुत ही ज्यादा नुकसान हो सकता है। इससे मोटापा बढ़ने से लेकर कैंसर होने तक का खतरा (Side Effects of Tomato Ketchup) रहता है। 

मार्केट के टमाटर केचअप को कैसे किया जाता है तैयार?

डायटीशियन कामिनी सिंहा बताती हैं कि मार्केट के टमाटर केचअप बनाने को बनाने के लिए इसमें ढेर सारे प्रिजर्वेटिव का इस्तेमाल किया जाता है ताकि केचअप जल्दी खराब न हो। इसके अलावा इसमें कई तरह केमिकल युक्त कलर एड किए जाते हैं, ताकि इसका लुक अच्छा लगे। इतना ही नहीं, इसकी कन्सिटेंसी को बरकरार रखने के लिए इसमें स्टार्च का इस्तेमाल किया जाता है, जिसकी अधिकता शरीर के लिए नुकसान देय हो सकती है। 

आगे डायटीशियन बताती हैं कि टमाटर केचअप को बनाने के लिए ढेर सारे टमाटर की जरूरत होती है। ऐसे में जब कंपनी में टमाटर केचअप को तैयार किया जाता है, तो इसमें सड़े हुए टमाटर की छटनी नहीं की जाती है। ऐसे में केचअप बनाने के दौरान सड़े टमाटर का भी इस्तेमाल कर दिया जाता है। इन सड़े टमाटर के सेवन से बच्चों और बड़ों दोनो को ही नुकसान हो सकता है। कामिनी का कहना है कि हम में से कई लोग बच्चों को टमाटर केचअप देना बेहतर ऑप्शन समझते हैं। इसलिए पराठे से लेकर सेंडविच में बच्चों को मार्केट के कैपअच दे देते हैं, तो बच्चों के लिए नुकसानदेय होता है। डायटीशियन का कहना है कि  टमाटर केचअप का ज्यादा इस्तेमाल नहीं करना चाहिए। लगातार टमाटर केचअप के इस्तेमाल से सेहत को कई सारे नुकसान हो सकते हैं। चलिए जानते हैं विस्तार से इसके बारे में-

1. शरीर में नमक की अधिकता

डायट मंत्रा डायटीशियन का कहना है कि अगर आप रोजाना 1 चम्मच (5 ग्राम) टमाटार केचअप ले रहे हैं, तो इससे आपके शरीर में नमक की अधिक मात्रा जा रही है। क्योंकि टमाटर केचअप को तैयार करने के लिए इसमें ढेर सारे नमक मिलाए जाते हैं। हालांकि, इसमें शुगर होने के कारण आपको स्वाद में ज्यादा नमक का अनुभव नहीं होता है।

2. सड़े टमाटर होने की आशंका

डायटीशियन का कहना है कि मार्केट के टमाटर केचअप बनाने के लिए हमेशा फ्रेश टमाटर का इस्तेमाल किया जाता है, यह जरूरी नहीं है। अधिक मात्रा में टमाटर बनाने के लिए कई मशहूर ब्रांड्स भी सड़े टमाटर का इस्तेमाल करते हैं, जो स्वास्थ्य के लिए हानिकारक साबित हो सकते हैं। 

इसे भी पढ़ें - तेजी से वजन कम करने में फायदेमंद है टमाटर का जूस, जानें इस्तेमाल का तरीका 

3. मोटापा बढ़ने का खतरा

डायटीशियन का कहना है कि केचअप की कन्सिटेंसी बरकरार रखने के लिए इसमें काफी ज्यादा स्टार्च का इस्तेमाल होता है, जो आपके शरीर में कैलोरी इनटेक की मात्रा को बढ़ा सकता है। शरीर में कैलोरी की अधिकता होने से मोटापा होने का खतरा ज्यादा रहता है। साथ ही इसमें शुगर की भी अधिकता होती है, जो आपका वजन बढ़ा सकती है।

4. डायबिटीज होने की संभावना

कामिनी बताती हैं कि टमाटर केचअप में नमक के साथ-साथ ढेर सारी चीनी का भी इस्तेमाल किया जाता है। शरीर में शुगर की मात्रा बढ़ने से डायबिटीज होने का खतरा रहता है। साथ ही इसमें स्टार्च और सोडियम की अधिकता होती है, जिसके कारण ब्लड प्रेशर और ब्लड शुगर पर असर पड़ता है।

5. एसिड रिफ्लेक्शन की संभावना

डायटीशियन का कहना है कि टमाटर में सिट्रिक एसिड की अधिकता होती है। हम में से कई माता-पिता ऐसे होते हैं, जो अपने बच्चों को खाने के दौरान टोमाटो केचअप दे देते हैं। खासतौर पर पराठे, सैंडविच, रोल्स इत्यादि। इस स्थिति में आपके बच्चों के शरीर में सिट्रिक एसिड की मात्रा बढ़ती है, जिसके कारण एसिड रिफ्लेक्शन होने का खतरा रहता है। अगर आप या आप अपने बच्चों को केचअप ज्यादा दे रहे हैं, जो एसिड रिफ्लेक्शन की वजह से हार्ट बर्न की संभावना होती है। साथ ही इसकी वजह से उल्टी और मतली होने का खतरा भी रहता है। 

6. पेट से जुड़ी कई समस्याएं होने का खतरा

डायटीशियन का कहना है कि अगर आप टमाटर केचअप का सेवन ज्यादा करते हैं, तो आपके शरीर में सिट्रिक एसिड की मात्रा ज्यादा हो जाती है। इस स्थिति में शरीर में सिट्रिक एसिड के प्रेशर से गैस्ट्रिक की समस्या होने लगती है। इसके कारण आपको एसिड बॉउल सिंड्रोम, कुपच, पेट में गैस होने की संभावना बढ़ा देता है। 

7. फेस एडिमा होने का खतरा

केचअप टमाटर रिच होता है, जिसके कारण इसमें हेक्सा माइन की मात्रा भी काफी ज्यादा होती है। शरीर में हेक्सा माइनिक की अधिकता से फेस एडिमा होने का खतरा ज्यादा रहता है। साथ ही इसके कारण जीभ में भी सूजन हो सकती है। 

इसे भी पढ़ें - स्किन पर फेशियल जैसा निखार पाने के लिए लगाएं चावल और टमाटर से बना फेसपैक

8. डायरिया होने का खतरा

डायटीशियन का कहना है कि टमाटर में साल्मोनेला बैक्टीरिया मौजूद होता है। शरीर में जब साल्मोनेला बैक्टीरिया की अधिकता होने लगती है, तो यह हमारे गट को प्रभावित करने लगती है। जिसके कारण पाचन से जुड़ी परेशानियां होने का खतरा बढ़ जाता है। इसके कारण डायरिया होने का खतरा भी बढ़ जाता है। क्योंकि कई टोमाटो केचअप में सड़े हुए टमाटर का इस्तेमाल काफी ज्यादा मात्रा में किया जाता है, जो हमारे गट हेल्थ को प्रभावित करता है।

9. किडनी स्टोन होने का खतरा 

डायटीशियन का कहना है कि अगर आप जिन लोगों को किडनी स्टोन या फिर अन्य तरह का स्टोन होता है, उन्हें टमाटर कम खाने की सलाह दी जाती है। इसका कारण होता है टमाटर में मौजूद ऑक्सलेट। शरीर में अगर ऑक्सीलेट की मात्रा बढ़ जाती है, तो स्टोन बढ़ने का खतरा रहता है। अगर हम जरूरत से ज्यादा ऑक्सीलेट लेते हैं, तो इससे किडनी स्टोन होने का खतरा भी रहता है। इसलिए जरूरत से ज्यादा टमाटर या फिर टमाटर केचअप का सेवन करने से बचें।

डायटीशियन बताती हैं कि अगर आप अपने बच्चों को टमाटर केचअप देना चाहती हैं, तो इसका सबसे बेस्ट तरीका है कि आप घर में ही हेल्दी टोमाटो केचअप बनाएं। घर पर टमाटर केचअप बनाने के दौरान इसके बीजों को छानकर बाहर कर दें, ताकि स्टोन होने का खतरा कम हो। साथ ही आप अपने बच्चों को प्रिजर्वेटिव चीजों से बचा सकेंगे और सड़े टमाटर का इस्तेमाल नहीं होगा। जिससे अन्य समस्याओं से बचाव किया जा सकता है।

10. कैंसर होने का खतरा

डायटीशियन बताती हैं कि अगर आप प्रिजर्वेटिव चीजों का सेवन अधिक मात्रा में करते हैं, तो इससे कैंसर होने का खतरा बढ़ता है। जरूरी नहीं है कि 1-2 महीने इसका सेवन करने से कैंसर हो जाए। लेकिन अगर आप लगातार प्रिजर्वेटिव चीजों का सेवन कर रहे हैं, तो कैंसर की संभावना बढ़ सकती है। टमाटर केचअप में कई तरह के कलर को एड किया जाता है, जो प्रिजर्वेटिव होते हैं। साथ ही इसे खराब होने से बचाने के लिए कई तरह के प्रिजर्वेटिव का इस्तेमाल होता है, जिससे कैंसर होने का खतरा रहता है। डायटीशियन बताती हैं कि किसी भी तरह के केमिकल कलर का इस्तेमाल करना शरीर के लिए हेल्दी नहीं माना जाता है। इसलिए ज्यादा मात्रा में टमाटर केचअप खाने से बचें। 

डायटीशियन का कहना है कि मार्केट में मौजूद टमाटर केचअप से आपको कई तरह की समस्याएं हो सकती हैं। इसलिए सबसे बेहतर है कि घर पर तैयार टमाटर केचअप का सेवन करें। जिससे आप खुद को और अपने परिवार को आगे होने वाली समस्याओं से बचा सकें।  

Read More Articles on Healthy Diet in Hindi

 
Disclaimer