6 माह से बड़े बच्चों के लिए सूजी की खीर बनाने की रेसिपी, सेहत को मिलेंगे कई फायदे

अगर आप भी अपने 6 महीने से उपर के शिशु के भोजन को लेकर कंफ्यूज हैं तो उन्हें सूजी की खीर दें। यहां जानें इसके ढेर सारे फायदे रेसिपी के बारे में।

 
Kunal Mishra
Written by: Kunal MishraPublished at: May 31, 2021
6 माह से बड़े बच्चों के लिए सूजी की खीर बनाने की रेसिपी, सेहत को मिलेंगे कई फायदे

अक्सर माता-पिता बच्चों की डाइट को लेकर परेशान रहते हैं। छोटे बच्चों के मामले में तो खासतौर पर ऐसा होता है। शिशु के विकास के लिए उन्हें समय-समय पर पोषक तत्व मिलते रहना चाहिए। हालांकि पोषक तत्वों की जरूरत सभी को होती है। क्या आप भी अपने 6 माह से उपर के शिशु के लिए पौष्कता से भरपूर आहार ढूंढ़ रही हैं? अगर हां, तो इस लेख में हम आपको ऐसे ही आहार के बारे में बताएंगे। शिशु के बेहतर विकास के लिए आप उन्हें सूजी से बनी खीर खिला सकते हैं। यह खासतौर पर शिशुओं के विकास में काफी सहायक होती है। इसके सेवन से बच्चों का मानसिक और शारीरिक विकास तेजी से होता है। इससे बच्चों में आयरन की कमी नहीं होती और यह उनके लिए किसी एनर्जी के स्त्रोत से कम नहीं है। चलिए जानते हैं बच्चों को सूजी की खीर खिलाने से होने वाले फायदों के बारे में। 

energy

1. एनर्जी का बेहतरीन स्त्रोत (Good Source of Energy)

सूजी की खीर बच्चों के लिए एक एनर्जी बूस्टर का काम करती है। ये खीर एनर्जी से भरपूर होती है। इस खीर मे काजू, बादाम, किशमिश की मौजूदगी खीर को स्वादिष्ट तो बनाती ही है साथ ही पौष्टिक और एनर्जेटिक भी बनाती है। सूजी मे मौजूद न्यूट्रिएंट्स और दूध की शक्ति बच्चों की ताकत बढ़ाती है। सूजी मे तो कार्बोहाइड्रेट्स की मात्रा अधिक होती है। यह शरीर में एनर्जी बनाए रहती है। मानसिक और शारीरिक विकास के लिए सूजी की खीर बहुत अच्छी है।

इसे भी पढ़ें - नवजात भी हो रहे कोरोना के शिकार, इन 6 जरूरी टिप्स से रखें उनका खास ख्याल

2. पेट के लिए फायदेमंद (Beneficial for Stomach)

सूजी मे कोलेस्ट्रॉल की मात्रा कम होती है। लो कोलेस्ट्रॉल आहार होने के कारण सूजी की खीर पेट खराब होने पर औषधी की तरह काम करती है। पेट खराब होने पर बच्चे को क्या खिलाएं क्या नहीं, ये सवाल बहुत परेशान करता है। इसलिए बिना कुछ सोचे उन्हें सूजी की खीर खिलाएं। ये पतली और पौष्टिक होने के कारण पेट को राहत दिलाती है। इसमें विटामिन, आयरन, मैग्नेशियम, कैल्शियम, फास्फोरस और पोटासियम की मात्रा होती है। जिस कारण बच्चों में थकान और दर्द भी नहीं होता है। 

3.  बच्चों में बढ़ाए आयरन की मात्रा (Increases Iron in Kids)

शोध के मुताबिक छह महीने से ऊपर के बच्चे को दिन मे 11 मिलीग्राम आयरन मिलना चाहिए। मां के दूध में आयरन की मात्रा कम होती है इसलिए बच्चों मे आयरन कि कमी ना हो इसलिए सूजी की खीर देनी चाहिए। सूजी आयरन का एक बहुत अच्छा स्त्रोत है। सूजी मे आयरन होता है, जो बच्चों में हीमोग्लोबिन बढ़ाता है और कोशिकाओं का विकास करता है। आयरन की कमी होने से बच्चों को थकान, पीलापन, मिट्टी खाने की आदत आदि लग सकती है। इससे बचने के लिए उन्हें सूजी की खीर जरूर खिलाएं।

child

4. ब्रेन डेवलपमेंट (Brain Development)

ब्रेन डेवलपमेंट के लिए सूजी की खीर आप बच्चों को ज़रूर खिलाएं। सूजी की खीर ओमेगा 3 फैटी एसिड्स से भरपूर होती है क्योंकि ये खीर घी में बनाई जाती है और घी बच्चो की सेहत के लिए बहुत हेल्दी होता है। इससे बच्चों का मेटाबॉलिज्म बढ़ता है और उन्हें भरपूर ताकत मिलती है। साथ ही यह दिमाग का विकास करती है। सूजी और ड्राइड फ्रूट्स से बनी ये खीर दिमाग के लिए बहुत ही लाभदायक है। 

इसे भी पढ़े - अपने शिशु के लिए घर पर इन 12 तरीकों से बनाएं स्वस्थ आहार, डायटीशियन से जानें इनके बारे में

5. हड्डियों के विकास के लिए फायदेमंद (Beneficial for Growth of Bone)

सूजी की खीर बच्चों के लिए एक बहुत महत्वपूर्ण आहार है। बच्चों के शारीरिक विकास और के लिए ये बहुत ज़रूरी है कि उनमें कैल्शियम की कमी ना हो। कैल्शियम की कमी से उनकी हड्डियां कमज़ोर हो सकती हैं। उनकी हाइट बढ़ने मे रुकावट पैदा हो सकती है। साथ ही शरीर में विटामिन्स खासकर विटामिन डी की भी ज़रुरत होती है। क्योंकि सूजी की खीर दूध में उबालकर बनाई जाती है, इसलिए ये विटामिन डी रिच आहार होता है। बच्चों के लिए सूजी की खीर एक बहुत हेल्दी होती है। 

kheer

सूजी की खीर बनाने की रेसिपी (Recipe of Kheer)

  • खीर बनाने के लिए आप जरूरतअनुसार दूध, सूजी, चीनी और घी लें। 
  • कढ़ाई चढ़ाकर उसमें घी डालकर सूजी को भून लें। 
  • अब दूध को गर्म होने के लिए रख दें।  
  • दूध में सूजी और चीनी डाल लें। ध्यान रहे सूजी चिपके नहीं इसके लिए इसे अच्छे से चलाते रहें। 
  • अब यह पक जाने और इसमें गाढ़ापन आ जाने के बाद इसे निकाल लें। अब आप उपर से इसमें ड्राई फ्रूट्स भी तोड़कर डाल सकते हैं। 
  • लीजिए आपकी खीर तैयार है। 

अगर आप भी अपने छह माह से उपर के बच्चे की डाइट के लिए परेशान हैं तो उन्हें सूजी की खीर जरूर खिलाएं। आप इस लेख में दिए गए तरीकों से इसे बना सकते हैं। 

Read more Articles on New Born Care in Hindi

Disclaimer