अपने शिशु के लिए घर पर इन 12 तरीकों से बनाएं स्वस्थ आहार, डायटीशियन से जानें इनके बारे में

बच्चे के शारीरिक विकास के लिए उसे स्वस्थ आहार खिलाना बहुत जरूरी है। जानें आप कैसे घर पर बना सकते हैं अपने शिशु के लिए हेल्दी खाना 

Anju Rawat
Written by: Anju RawatPublished at: Apr 15, 2021Updated at: Apr 15, 2021
अपने शिशु के लिए घर पर इन 12 तरीकों से बनाएं स्वस्थ आहार, डायटीशियन से जानें इनके बारे में

जब बच्चा जन्म लेता है, तो उसका सबसे पहला भोजन मां का दूध होता है। उसे कुछ महीनों तक सिर्फ मां का ही दूध पिलाया जाता है। लेकिन जैसे-जैसे बच्चा बढ़ा होता है, उसे दूसरी चीजों का सेवन करवाना भी शुरू कर दिया जाता है। अकसर बच्चे को 5 या 6 महीने की उम्र से हल्का भोजन खिलाना शुरू कर दिया जाता है, जिससे बच्चे का शारीरिक और मानसिक विकास ठीक तरह से हो सके। हर मां अपने बच्चे के पूर्ण रूप से शारीरिक विकास के लिए उसे कई चीजों को सेवन करवाना शुरू कर देती हैं। कभी-कभी तो वे सामान्य भोजन से उसे खिला देती हैं, लेकिन ऐसा करना सही नहीं है। बच्चे को उसकी उम्र के हिसाब से खाना खिलाया जाना चाहिए, ताकि वे उसे आसानी से पचा सकें। इसके अलावा बच्चे के शुरुआत में हल्का और मीठा भोजन करवाना चाहिए, क्योंकि इसे बच्चे शौक से खाना पसंद करते हैं। इसके लिए आप फलों का इस्तेमाल कर सकती हैं, फलों में नैचुरल शुगर (Natural Sugar) होता है, जो सेहत को नुकसान नहीं पहुंचाती है। आप अपने बच्चे को फलों से बना भोजन खिला सकती हैं। इसके लिए आप अलग-अलग तरह के फलों का इस्तेमाल करें और रोज उसे अलग फल से बना भोजन खिलाएं। फलों में उच्च मात्रा में सभी पोषक तत्व पाए जाते हैं, जो स्वास्थ्य के लिए जरूरी होते हैं और इसके सेवन से बच्चे का शारीरिक विकास भी तेजी से होता है। मुख्य आहार विशेषज्ञ और पोषण विशेषज्ञ हिमांशु राय से जानें शिशुओं के स्वस्थ आहार के बारे में-   

6 से 9 महीने के बच्चों के लिए (From 6 to 9 Months)

otameal

जब आपका बच्चा 6 महीने को हो जाए, तो आप उसे खाना खिला सकते हैं। लेकिन बच्चों को पहले हमेशा फल खिलाना चाहिए। इसके लिए आप उसे पहले एक फल और फिर कई फलों को मिलाकर खिला सकते हैं। 

1) ओटमील और बनाना (Oatmeal and Banana)

छोटे बच्चों के लिए ओटमील एक कंप्लीट फूड है, जो आपके बच्चे को स्वस्थ रखने में मदद करता है। लेकिन इसे स्वादिष्ट और टेस्टी बनाने के लिए आप इसमें केला मिला सकते हैं। केले से यह मीठा हो जाता है, जो बच्चों को अकसर पसंद आता है। इसके साथ ही केले में पोटैशियम और कई दूसरे पोषक तत्व भी होते हैं, जो बच्चे को स्वस्थ रखते हैं।

इसे भी पढ़ें- 8 से 12 महीने के बच्चों का वजन बढ़ाने के लिए खिलाएं ये 6 चीजें, डाइटीशियन से जानें कितना होना चाहिए इनका वजन

2) सेब और नाशपाती (Apple and Pear)

सेब और नाशपाती ऐसे फल हैं, जो सभी सीजन में आराम से मिल जाते हैं। इन दोनों में फाइबर पर्याप्त मात्रा में पाया जाता है। आप अपने बच्चे के लिए सेब और नाशपाती को मिलाकर एक डिश तैयार कर सकते हैं। यह स्वीट डिश बच्चा शौक से खाएगा और इस प्रोटीन भी भरपूर मिलेगा। इसके साथ ही इससे बच्चे को सभी जरूर न्यूट्रीशन भी मिलेंगे। सेब और नाशपाती के डिश में पेक्टिन भरपूर होता है, जिसका शरीर पर शुद्ध प्रभाव पड़ता है।

baby

3) दाल और गाजर (Lentils and Carrots)

दाल बच्चे के शारीरिक विकास के लिए बहुत जरूर होता है। इसमें भरपूर मात्रा में आयरन और कैल्शियम पाया जाता है, जो बच्चे के विकास में फायदेमंद होता है। गाजर मिनरल्स का अच्छा सोर्स है, इसमें पोटैशियम, फॉस्फोरस, आयोडिन, मैग्नीशियम और कैल्शियम उच्च मात्रा में होता है। इसलिए आप अपने बच्चे के लिए दाल और गाजर को मिक्स करके बना सकती हैं। 

4) सेब और तरबूज (Apple and Watermelon)

गर्मी के मौसम में बच्चे को तरबूज खिलाना बहुत फायदेमंद होता है। यह पेट की गर्मी को शांत कर ठंडक देता है। इसमें काफी मात्रा में पानी पाया जाता है, जिससे बच्चे के शरीर में पानी की कमी दूर होती है। इसके साथ ही सेब और तरबूज को मिक्स करके खिलाने से इसकी कैलोरीज भी बढ़ जाती है, जो बच्चे के डाइट के लिए बहुत जरूरी है। इसका मीठा टेस्ट बच्चे को काफी पसंद आएगा और वह इसे शौक से खाएगा।  

apple

9 महीने से 12 महीने के बच्चे के लिए (From 9 to 12 Months)

9 महीने तक बच्चे को खाना खिलाते-खिलाते आपको पता चल जाएगा कि उसे क्या पसंद है और क्या नहीं? इस उम्र में बच्चों को फलों के साथ ही सब्जियां खिलाना भी शुरू कर देना चाहिए। आप फलों, सब्जियों से उनके लिए कई तरह का भोजन तैयार कर सकती हैं।  

5) एवोकाडो और तोरी (Avocado and Zucchini)

इस उम्र में बच्चों को फलों के साथ ही सब्जियों को खिलाना भी फायदेमंद होता है। ऐसे में आप उसे एवोकाडो और तोरी का मिश्रण खिला सकती हैं। एवोकाडो विटामिन ई और ओमेगा से पर्याप्त होता है। इसके अलावा तोरी फाइबर और विटामिंस का अच्छा सोर्स है। तोरी में बीटा कैरोटीन, विटामिन ए और विटामिन सी पाया जाता है। इन दोनों को मिलाकर भोजन बनाना एक अच्छा और हेल्दी विकल्प है। 

इसे भी पढ़ें - अन्नप्राशन में शिशु को पहली बार चांदी के बर्तन में क्यों खिलाया जाता है खाना? एक्सपर्ट से जानें इसके फायदे

6) केला और आम (Banana and Mango)

आम एक ऐसा फल है, जो विटामिन ए रिच है। इसमें विटामिन ए भी काफी अच्छी मात्रा में पाया जाता है। केला पोटैशियम और विटामिंस का अच्छा सोर्स है। इन दोनों को मिक्स करके बच्चे को खिलाने से उसके शरीर को कई जरूरी पोषक तत्व मिल जाते हैं। इससे बच्चे को शारीरिक विकास अच्छा होता है, उसके आंखों को विकास होता है और स्किन हेल्दी बनती है।  

7) कीवी, तरबूज और सेब (Kiwi, Watermelon and Apple)

कीवी और तरबूज ऐसे फल है, जो बच्चों को जरूर खिलाना चाहिए। क्योंकि इनमें मौजूद विटामिंस और मिनरल्स बच्चे का विकास करने में मददगार होते हैं। इसके साथ ही इनमें पोटैशियम भी पाया जाता है। इन तीनों को मैश करके खिलाने से बच्चे को कई स्वास्थ्य लाभ मिलते हैं। 

mano

8) आम, संतरा और सेब (Mango, Orange and Apple)

आम, संतरा और सेब को मिक्स करके बच्चे के लिए एक स्वादिष्ट डिश बनाना काफी अच्छा आइडिया है। आप इन तीनों को मिलाकर प्यूरी तैयार कर सकती हैं और अपने बच्चे को खिला सकती हैं। बच्चे को खट्टे फल भी खिलाना जरूरी होता है, क्योंकि इसमें विटामिन सी होता है जिससे इम्यूनिटी बढ़ती है और बच्चा जल्दी से बीमार नहीं पड़ता है। 

12 महीने से ऊपर के बच्चों के लिए (From 12 months of age onward)

इस उम्र में बच्चों को सभी तरह के खाद्य पदार्थ खिलाना शुरू कर देना चाहिए। इसमें आप उनके भोजन में उन फलों को भी शामिल कर सकती हैं, जो आप बच्चे को अभी तक नहीं खिलाए है।  

इसे भी पढ़ें - 5-6 महीने का होने पर शिशुओं की गर्दन होने लगती है सीधी, इन 3 एक्सरसाइज से मजबूत बनाएं उनकी गर्दन

9) कीवी, स्ट्रॉबेरी और केला (Kiwi, Strawberry and Banana)

स्ट्रॉबेरी विटामिन सी का अच्छा सोर्स होता है। कीवी और केले में भी कई तरह के पोषक तत्व पाए जाते हैं। अगर आपका बच्चा 1 साल का हो गया है तो उसे इन तीनों चीजों को मिक्स करके खिला सकती हैं। यह हेल्दी होने के साथ टेस्टी भी होता है। 

10) आम, नाशपाती और स्ट्रॉबेरी (Mango, Pear and Strawberry)

आम, नाशपाती और स्ट्रॉबेरी को मिक्स करके बच्चों के लिए एक शानदार और स्वादिष्ट डिश बनाई जा सकती है। इन सभी फलों में विटामिन सी भरपूर होता है, जो बच्चों की रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने में सहायक होते हैं।

11) चैरी, नाशपाती और केला (Cherry, Pear and Banana)

बच्चे की डाइट में चैरी को जोड़ना एक अच्छा विकल्प है। इसमें पर्याप्त मात्रा में एंटीऑक्सीडेंट, विटामिन सी और विटामिन ए पाया जाता है। इसके अलावा इनमें फाइबर भी उच्च होता है, जो बच्चों के पाचन क्रिया को तंदुरुस्त रखता है। 

12) फिश और ब्रोकली (Fish and Brokley)

फिश में हाई प्रोटीन, विटामिंस और मिनरल्स पाया जाता है। लेकिन इसे बच्चे को कम मात्रा में ही खिलाना चाहिए। इसके साथ ही ब्रोकली में विटामिन सी, विटामिन बी2, विटामिन ए और विटामिन ई होता है। इन दोनों का मिश्रण बच्चे को स्वस्थ रखता है। 

आप भी इन डाइट और फूड टिप्स को फॉलो करके अपने बच्चे को स्वस्थ बनाए रख सकते हैं। ये सभी हेल्दी फूड्स हैं, लेकिन अगर आपके बच्चे को किसी चीज से एलर्जिक रिएक्शन नजर आते हैं, तो इन्हें खिलाने से बचें और एक बार अपनी डायटीशियन से मिल लें।

Read More Articles on New Born Care in Hindi

Disclaimer