Green Coconut: हृदय और पेट से जुड़ी सभी बीमारियों को खत्‍म करने में मदद करता है हरा नारियल, जानें इसके सेवन का सही समय

हरे नारियल ढ़ेर सारे पोषक तत्वों से भरपूर होते हैं। पानी वाला यह नारियल आपके सेहत के लिए बहुत फायदेमंद होता है। इसका सेवन बॉडी में मौजूद विषाक्त पदार्थों को बाहर निकालने के साथ शरीर में सभी पोषक तत्वों की कमी को पूरा करती है।

धीरज सिंह राणा
Written by: धीरज सिंह राणाUpdated at: Aug 04, 2019 00:00 IST
Green Coconut: हृदय और पेट से जुड़ी सभी बीमारियों को खत्‍म करने में मदद करता है हरा नारियल, जानें इसके सेवन का सही समय

हरे नारियल में मौजूद पानी और उसका अंदरूनी सफेद हिस्‍सा, जिसे आमतौर पर मलाई कहा जाता है, ये दोनों ही आपके शरीर को प्रभावशाली पोषक तत्‍व और स्वास्थ्य लाभ प्रदान करते हैं। नारियल पानी एक बहुत ही स्वादिष्ट और कम कैलोरी वाला प्राकृतिक पेय है। मिनरल्स से भरपूर हरा नारियल का पानी इम्यून सिस्टम मजबूत करता है और आपको कई बीमारियों से बचाता है। इसके अलावा इसमें प्रोटीन, फाइबर, मैग्नीशियम, पोटैशियम, सोडियम और कार्बोहाइड्रेट भरपूर मात्रा में पाये जाते हैं जो आपके ब्लड सर्कुलेशन को बढ़ाने, बैड कोलेस्ट्रॉल को कम करने, ब्लड प्रेशर ठीक रखने और दिल को स्वस्थ रखने में काफी मददगार होता है।

पकने की प्रक्रिया के दौरान नारियल का बाहरी रंग धीरे-धीरे भूरा होने लगता है। नारियल के अंदर मौजूद सफेद भाग धीरे-धीरे गाढ़ा होने लगता है। 6 महीने तक इसमें केवल पानी होता है। 8-10 महीने में नारियल के बाहरी हिस्से में अधिक पीले या भूरे रंग के धब्बे होते हैं। इसका पानी मीठा हो जाता है और अंदर जेली जैसा बनने लगता है, जो धीरे-धीरे गाढ़ा हो जाता है। 11-12 महीनों में नारियल भूरे रंग का होने लगता है, और इसके अंदर का भाग सफेद गाढ़ा और सख्त होने लगता है। इसमें पानी की मात्रा कम हो जाती है और फैट की मात्रा बढ़ जाती है। आइए जानते हैं ये किस प्रकार आपके स्वस्थ्य के लिए लाभदायक है।

पेट की समस्‍याओं से दिलाता है छुटकारा

हरा नारियल का पानी पीने से शरीर में पानी की कमी नहीं होती है। शरीर में पानी की कमी हो जाने पर या फिर शरीर में तरल पदार्थ की कमी हो जाने पर शरीर डिहाइड्रेट हो जाता है और आपको दस्त, उल्टी, सिरदर्द एसिडिटी, अल्सर, कोलाइटिस और आंतों में सूजन जैसी परेशानी हो जाती है। इसे ऊर्जा का अच्छा स्त्रोत माना जाता है जिसके कारण कमजोरी, थकान, चक्कर आने जैसी समस्याओं से छुटकारा दिलाने में आपकी मदद करता है।

एंटीऑक्सिडेंटस से भरपूर

हरे नारियल के अंदर मौजूद मांस और पानी दोनों में फिनोलिक यौगिक एंटीऑक्सिडेंटस भरपूर मात्रा में पाये जाते हैं, जो शरीर में सूजन को कम करने में मददगार होते हैं और आपकी कोशिकाओं को नष्ट होने से बचाते हैं। इसके अलावा इसमें पाये जाने वाले विटामिन्स और सूक्ष्म पोषक तत्व जैसे जिंक, कॉपर, मैंगनीज और सेलेनियम आपके शरीर में प्राकृतिक एंटीऑक्सिडेंटस के रूप में काम करते हैं और आपकी प्रतिरक्षा प्रणाली बढ़ने में भी मदद करते हैं।

इसे भी पढ़ें: रोजाना 2 ग्‍लास पानी से करेंगे दिन की शुरूआत तो दिनभर बरकरार रहेगी एनर्जी, चेहरे पर रहेगा ग्‍लो

ह्रदय रोगियों के लिए फायदेमंद

नारियल पानी मेटाबोलिक सिंड्रोम को बेहतर बनाने में मदद कर सकता है। मेटाबोलिक सिंड्रोम हृदय रोगों की समस्याएं जैसे उच्च रक्तचाप, ब्लड शुगर, ट्राइग्लिसराइड और कोलेस्ट्रॉल के स्तर बढ़ाने के साथ-साथ अतिरिक्त बेली फैट भी बढ़ाता है। विभिन्न वैज्ञानिक शोधों में पाया गया है कि नारियल पानी के सेवन से शरीर में लिपिड मेटाबॉलिज्म का स्तर नियंत्रित रहता है। इससे ह्रदय रोगों की समस्याएं काफी हद तक कम हो जाती है। साथ ही रक्तचाप भी सामान्य रहता है और धमिनयों में रक्त के थक्कों को बनने नहीं देता।

इसे भी पढ़ें: आहार में प्रोटीन, कार्बोहाइड्रेट और आयरन की कमी बिगाड़ सकती है आपका मानसिक स्वास्थ्य, जानें सेहत सुधारने का तरीका

सेवन का तरिका

नारियल पानी पीने का सबसे सही समय सुबह का है। इसलिए रोजाना खाली पेट नारियल पानी का सेवन जरूर करें। इसके अलावा वर्कआउट के समय या बाद में, दोपहर के खाने में या उससे थोड़ा वक्त बाद और शाम के समय भी नारियल पानी का सेवन करें। इससे आपका वजन तो कंट्रोल होता ही है साथ ही इससे शरीर को ऊर्जा भी मिलती हैं। बॉडी को डिटॉक्स करने के लिए रोजाना 1 ग्लास नारियल पानी का सेवन जरूर करें।

Read more articles on Healthy Diet in Hindi

Disclaimer