चिंता और तनाव से राहत दिलाता है Body Scan Meditation, जानें क्या है ये और इसके फायदे

अगर कोई व्यक्ति लगातार अपनी मानसिक स्थितियों से लड़ रहा है और बहुत पीड़ा में है, तो बॉडी स्कैन मेडिटेशन उसे इन सबसे बाहर निकने में मदद कर सकता है।

 
Pallavi Kumari
Written by: Pallavi KumariPublished at: Jun 24, 2020Updated at: Jun 24, 2020
चिंता और तनाव से राहत दिलाता है Body Scan Meditation, जानें क्या है ये और इसके फायदे

शरीर को शांत और स्वस्थ बनाने का बहतरीन तरीका है ध्यान। ध्यान करने का असर आपकी मानसिक स्वास्थ्य पर बहुत अच्छा होता है। पर क्या आपको पता है कि शरीर को दर्द से राहत दिलाने के लिए, तनाव मुक्त करने के लिए समय-समय पर शरीर की स्कैनिंग करना भी बेहद जरूरी है। शारीरिक संवेदनाओं के बारे में अधिक जागरूकता विकसित करने से आप अपने शारीरिक आत्म से अधिक जुड़ाव महसूस कर सकते हैं और अवांछित भावनाओं के संभावित कारणों में अधिक जानकारी प्राप्त कर सकते हैं। जैसे कि अगर कोई व्यक्ति इतना दुखी है कि वो आत्महत्या करना चाह रहा है, तो ये मेडिटेशन उसे खुद की आत्मा को समझने और इस सोच में मदलाव करने में आपकी मदद कर सकता है।

insidehowtodoBodyScanMeditation

क्या है Body Scan Meditation?

बॉडी स्कैन मेडिटेशन (Body Scan Meditation)  मेडिटेशन का एक खास तरीका है, जिसमें बॉडी की स्कैनिंग पर ध्यान दिया जाता है। ये ध्यान करने का ही एक प्रकार है। आप इसे एक मानसिक एक्स-रे के रूप में भी देख सकते हैं और शरीर स्कैन के बारे में सोच सकते हैं जो धीरे-धीरे आपके शरीर में यात्रा करता है। इसे करने के लिए

  • - Body Scan Meditation आराम से शुरू करें। ऐसी स्थिति में लेटें या बैठें जिससे आप अपने अंगों को आसानी से खींच सकें।
  • -ध्यान दें। अपनी आंखें बंद करें और अपनी सांस पर ध्यान केंद्रित करना शुरू करें।
  • - श्वास और सांस छोड़ते हुए अपने फेफड़ों को भरने और छोड़ने में आपकी सांस लेने की अनुभूति पर ध्यान दें।
  • -बाएं हाथ, बाएं पैर, दाहिने हाथ, दाहिने पैर, आपके सिर के ऊपर। उस जगह पर ध्यान केंद्रित करें जब आप धीरे-धीरे और गहरी सांस लेते रहें।
  • - दर्द, तनाव, बेचैनी, या कुछ भी सामान्य से बाहर की उत्तेजना के लिए अपने आप को जागरूक बनाएं।
  • -धीरे हों और इसका अवलोकन करते हुए 20 सेकंड से 1 मिनट तक ठहर जाएं।
  • -अगर आप निराश और क्रोधित महसूस करते हैं, तो इन भावनाओं के लिए खुद को न आंकें। उन्हें नोटिस करें और उन्हें पास होने दें।
  • -सांस लेना जारी रखें, प्रत्येक सांस के साथ दर्द और तनाव कम होने की कल्पना करें।
  • -अपने मानसिक जागरूकता को ऐसे ही धीरे-धीरे अपने शरीर के उस विशिष्ट भाग पर छोड़ें और इसे अपने अगले क्षेत्र पर केंद्रित करें। कुछ लोगों को शरीर के अंग को छोड़ने के बारे में कल्पना करने में मदद मिलती है कि जैसे उनकी तकलीफ खत्म हो गई है।
insidestreesfree

इसे भी पढ़ें : सेहतमंद जिंदगी के लिए शरीर और मन दोनों की फिटनेस है जरूरी, जानें 5 वेलनेस टिप्स जो रखेंगी आपकी उम्र भर हेल्दी

क्यों करते हैं लोग बॉडी स्कैन मेडिटेशन (Body Scan Meditation) 

  • -नींद में सुधार
  • -चिंता और तनाव से राहत
  • -अधिक आत्म-जागरूकता
  • -आत्म-करुणा को बढ़ाना
  • -दर्द कम हुआ
  • -धूम्रपान छोड़ने के लिए

बॉडी स्कैन मेडिटेशन के फायदे (Benefits Body Scan Meditation)

सोने के लिए

2019 की एक शोध बताती है कि माइंडफुलनेस मेडिटेशन कुछ प्रकार के नींद मुद्दों के प्रभाव को कम करने और नींद की गुणवत्ता में सुधार करने में मदद कर सकता है। अमेरिकन एकेडमी ऑफ पीडियाट्रिक्स के अनुसार, सोने से ठीक पहले एक नियमित बॉडी स्कैन अभ्यास अनिद्रा से राहत देने में विशेष रूप से सहायक हो सकता है। दरअसल जब हम चिंतित या तनाव महसूस करते हैं, तो बहुत से लोगों को आराम से सोने में कठिनाई होती है। तब ये ध्यान आपको आराम करने में मदद कर सकता है और परेशान करने वाले विचारों को दूर करने और समग्र रूप से शांत महसूस करवाता है। 

इसे भी पढ़ें : मन को शांत और तनाव मुक्त करने के ये प्राकृतिक तरीके हैं बेहद कारगर, आसान हो जाएगा जीवन

तनाव और चिंता के लिए

शोध बताते हैं कि तनाव को दूर करने के लिए एक संभावित सहायक तरीके के रूप में ध्यान आपकी मदद करता है।शोध से पता चलता है कि माइंडफुलनेस मेडिटेशन में सामान्य चिंता लक्षणों को कम करने की क्षमता होती है। शोधकर्ताओं ने ध्यान-आधारित तनाव कम करने के तरीकों का भी उल्लेख किया, जो तनाव को प्रबंधित करने की क्षमता पर सकारात्मक प्रभाव डाल सकते हैं।

दर्द से राहत पाने के लिए

अगर आपने कभी बहुत ज्यादा मानसिक दर्द का अनुभव किया है, तो ये आपकी मदद कर सकता है। यह पुराने दर्द के साथ रहने वाले कई लोगों का दैनिक अनुभव है। जाहिर है, इस प्रकार का दर्द आपके जीवन पर महत्वपूर्ण नकारात्मक प्रभाव डाल सकता है। जरूरी नहीं कि ध्यान दर्द को रोके। लेकिन ध्यान के परिणाम, जैसे कि आपके शरीर की बढ़ती जागरूकता और भावनात्मक स्थिति, उस दर्द के बारे में आपके सोचने के तरीके को बदलने में मदद कर सकते हैं। दर्द के बारे में जागरूकता और स्वीकृति में वृद्धि से आपका दृष्टिकोण बेहतर हो सकता है।

Read more articles on Mind-Body in Hindi

Disclaimer