क्या दिन में सिर्फ 1 टाइम खाना खाकर घटाया जा सकता है वजन? जानें कितना सुरक्षित या खतरनाक है ये तरीका

वजन घटाने के लिए दिन में सिर्फ 1 बार खाना खाने की आदत का आपके शरीर पर क्या पड़ता है असर, जानें कितना सुरक्षित है वजन घटाने का ये तरीका।

Anurag Anubhav
Written by: Anurag AnubhavUpdated at: Oct 05, 2020 09:56 IST
क्या दिन में सिर्फ 1 टाइम खाना खाकर घटाया जा सकता है वजन? जानें कितना सुरक्षित या खतरनाक है ये तरीका

आमतौर पर लोग दिन में 3 से 5 बार छोटे-बड़े आहार लेते हैं, जिसमें मुख्य खाना, ब्रेकफास्ट और स्नैक्स आदि शामिल होते हैं। ऐसा कई बार होता है कि किसी काम में बिजी होने के कारण, बीमार होने की वजह से या भोजन की अनुपलब्धता के कारण कभी-कभार हम दिन में सिर्फ 1 बार ही ठीक से खाना खा पाते हैं। लेकिन ये सामान्य बात है और इसका असर आमतौर पर आपकी सेहत पर नहीं पड़ता है। लेकिन अगर आप वजन घटाने के उद्देश्य से हर रोज सिर्फ 1 बार ही खाना खाएं, तो ये आदत आपकी सेहत पर भी असर डालती है। इस तरह के डाइट को अंग्रेजी में One Meal A Day Diet या OMAD Diet कहते हैं। दिन में सिर्फ 1 बार खाना खाना सेहतमंद है या नुकसानदायक, इस बारे में हम आगे चर्चा करेंगे।

one meal a day diet for weight loss

दिन में 1 बार खाना खाने का वजन घटाने से संबंध?

दिन में 1 बार खाना खाने से वजन घटना स्वाभाविक है। इसका कारण यह है कि आमतौर पर जब आप दिन में 3-4 बार थोड़ा-थोड़ा करके खाना खाते हैं, तो शरीर में कैलोरीज थोड़ी-थोड़ी करके बर्न होती हैं और आपके फूड से ही आपको दिनभर के काम के लिए पर्याप्त एनर्जी मिल जाती है। जबकि जब आप दिन में सिर्फ 1 बार खाना खाते हैं, तो खाने से मिली कैलोरीज के इस्तेमाल के बाद शरीर अतिरिक्त एनर्जी के लिए जमा हुए फैट को बर्न करने लगता है। इसीलिए दिन में 1 बार खाना खाने से वजन तो घटता है, मगर ये तरीका सभी के लिए सुरक्षित नहीं माना जा सकता है क्योंकि फिटनेस के चक्कर में जरूरत से कम कैलोरीज लेना भी खतरनाक हो सकता है।

इसे भी पढ़ें: बहुत बिजी लाइफ के चक्कर में सेहत को क्यों करें नजरअंदाज, जानें व्यस्त लोगों के हेल्दी रहने के लिए 5 आसान टिप्स

हालांकि कुछ मामलों में लोग दिन में 1 बार भरपेट खाने के अलावा बीच-बीच में 1-2 हल्के स्नैक्स लेते रहते हैं, जिससे उनके शरीर में एनर्जी का फ्लो बना रहे। इसके लिए दिन में 1-2 कप चाय या कॉफी, 1-2 उबले अंडे, फल, भुने चने या कोई हाई प्रोटीन फूड आदि खा सकते हैं। इसके अलावा दिनभर पानी पीते रहना जरूरी है, ताकि शरीर डिहाइड्रेट न हो।

दिन में 1 बार खाना खाने के फायदे क्या हैं?

2 साल तक चले एक अध्ययन के अनुसार इंटरमिटेंट फास्टिंग और डेली कैलोरी रिस्ट्रिक्शन डाइट (1 बार खाना खाने वाली डाइट) में जब तुलान की गई तो पाया गया कि दिन में 1 बार खाना खाने आदत स्वस्थ रहने और बीमारी मुक्त रहने में तथा वजन घटाने में ज्यादा कारगर साबित होती है। खासकर ऐसे लोग जिन्हें प्री-डायबिटीज है उनके लिए इस तरह की डाइट से कुछ फायदे मिल सकते हैं। कुछ डायटीशियन्स का मानना है कि दिन में 1 बार खाना खाने से व्यक्ति एनर्जेटिक महसूस करता है क्योंकि उसे दोपहर के खाने के बाद आने वाली आलस और ऊब नहीं सताती है।

ध्यान दें- दिन में 1 बार खाना खाने की डाइट आमतौर पर पुरुषों को ही फॉलो करना चाहिए क्योंकि महिलाओं के शरीर में होने वाले बदलाव जैसे- मासिक धर्म, मेनोपॉज, ब्रेस्टफीडिंग, प्रेगनेंसी आदि के कारण उनके लिए इस डाइट को फॉलो करना ठीक नहीं माना जा सकता है।

दिन में 1 बार खाना खाने के संभावित नुकसान?

अगर कोई व्यक्ति वजन घटाने के उद्देश्य से दिन में 1 बार खाना खाने की डाइट शुरू करता है, तो संभव है शुरुआती दिनों में उसे कई तरह की परेशानियों का सामना करना पड़े। आमतौर पर शुरुआती दिनों में बहुत तेज भूख लगना, बार-बार खाने के बारे में सोचना, शरीर में कंपकंपी महसूस होना, पेट खाली होना, एनर्जी की कमी महसूस होना, कभी-कभार आंखों के आगे अंधेरा छा जाना और दिनभर थके रहना सामान्य है। लेकिन ज्यादातर लोगों का शरीर कुछ दिनों बाद ही इस डाइट के अनुसार ढल जाता है और उन्हें इस तरह की परेशानियां होना बंद हो जाती हैं।

वहीं लंबे समय में इस तरह की डाइट के कुछ नुकसान इस प्रकार हो सकते हैं- मांसपेशियों का वजन घटना, हड्डियों की कमजोरी, इमोशनल ईटिंग का शिकार होना, संतुलित आहार न लेने से कुपोषण का शिकार होना आदि।

इसे भी पढ़ें: वजन घटाने और बॉडी स्लिम करने के लिए सबसे बेहतर है OMAD डाइट, जानें क्या है खास

healthy diet for weight loss

निष्कर्ष

कुल मिलाकर सभी प्वाइंट्स को ध्यान में रखें तो यह कहा जा सकता है कि दिन में 1 बार खाना खाने की आदत हेल्दी लोगों के लिहाज से ठीक है, लेकिन तभी जब वो बीच-बीच में 2 छोटे स्नैक्स लेते रहें। इसके अलावा इस तरह की डाइट फॉलो करने पर क्या खाना चाहिए और किस समय खाना चाहिए, इन बातों की जानकारी के लिए किसी डायटीशियन या न्यूट्रीशनिस्ट की मदद ली जानी चाहिए ताकि शरीर को सीमित मात्रा में भोजन करने पर भी सभी तरह के पोषक तत्व मिल जाएं और शरीर कुपोषण का शिकार न हो। इसके अलावा वजन घटाने के लिए सिर्फ डाइट पर ही निर्भर नहीं रहना चाहिए बल्कि एक्सरसाइज और फिजिकल एक्टिविटी के दूसरे तरीकों पर भी ध्यान देना।

अंत में यह समझना भी जरूरी है कि कमजोर इम्यूनिटी वाले लोगों, महिलाओं (खासकर प्रेगनेंसी और मेनोपॉज के समय), बूढ़े लोगों, जल्दी बीमार पड़ने वाले लोगों, डायबिटीज के शिकार लोगों को इस तरह की डाइट नहीं फॉलो करनी चाहिए क्योंकि उनके शरीर में एनर्जी की कमी या ग्लूकोज लेवल के डाउन होने का असर गंभीर हो सकता है।

Read More Articles on Healthy Diet in Hindi

Disclaimer